Appointment of Lokayukta in Rajasthan after 2 years, Pratap Krishna Lohra appointed Lokayukta, 7500 pending files will be brought up

2 साल बाद राजस्थान में लोकायुक्त की नियुक्ति, प्रताप कृष्ण लोहरा बने लोकायुक्त, 7500 लंबित फाइलों से पड़ेगा पाला

जयपुर

जयपुर। उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश प्रताप कृष्ण लोहरा राजस्थान के नए लोकायुक्त बन गए हैं। राज्य सरकार की अनुशंषा पर राज्यपाल कलराज मिश्र ने पांच साल के लिए लोहरा की नियुक्ति लोकायुक्त पद पर की है। नियुक्ति की घोषणा के बाद लोहरा के घर पर बधाई देने वालों का तांता लग गया।

9 जनवरी 2015 में राष्ट्रपति ने लोहरा को राजस्थान उच्च न्यायालय में न्यायाधीश नियुक्त किया था। लोहरा इस पद से ही सेवानिवृत्त हो गए। सेवानिवृत्ति के बाद लोहरा को अब लोकायुक्त की बड़ी जिम्मेदारी सौंपी गई है। लोहरा जोधपुर निवासी हैं। उच्च न्यायालय के कई न्यायाधीशों, समाजसेवियों, अधिवक्तओं और ब्यूरोक्रेट्स ने उन्हें घर जाकर बधाई दी। इस अवसर पर लोहरा ने कहा कि जिस निष्ठा के साथ उन्होंने न्यायापालिका में कार्य किया, उसी निष्ठा के साथ वे इस दायित्व को भी निभाने की कोशिश करेंगे।

उल्लेखनीय है कि प्रदेश में 8 मार्च 2019 से लोकायुक्त का पद खाली पड़ा था। जिस समय यह पद रिक्त हुआ उस समय लोकायुक्त कार्यालय में 3 हजार से अधिक फाइलें लंबित थीं, जिनकी संख्या अब बढ़कर करीब 7500 से अधिक हो गई है। मतलब आते ही लोहरा को लंबित पड़े मामलों से जूझना पड़ेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *