जयपुर

अलवर जिला कलेक्टर नन्नूमल पहाड़िया पर बरसा महादेव का प्रकोप, रिटायरमेंट से करीब तीन महीने पहले ही एसीबी के ट्रेप में फंसे, राजगढ़ में मंदिर तोड़ने के समय पहाड़िया ही थे कलेक्टर

आरएएस अशोक सांखला सहित दलाल नितिन शर्मा को 5 लाख की रिश्वत लेते एसीबी ने किया गिरफ्तार

उदयपुर में मुंबई क्राइम ब्रांच के एएसआई और हैड कांस्टेबल को 4 लाख 97 हजार रुपए की अवैध राशि के साथ पकड़ा

जयपुर। अलवर के पूर्व कलक्टर नन्नूमल पहाड़िया को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो( एसीबी ) की टीम ने शनिवार को 5 लाख रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है। इस गिरफ्तारी के बाद सभी ओर चर्चा है कि पहाड़िया पर महादेव का प्रकोप फाजिल हुआ है। राजगढ़ में 300 वर्ष पुराने मंदिरों को तुड़वाने के समय पहाड़िया ही अलवर के कलेक्टर थे और उन्हें इस प्रकरण की पूरी जानकारी थी। वह चाहते तो प्राचीन मंदिरों को बचाया जा सकता था, लेकिन पहाड़िया ने इस संबंध में शायद कुछ नहीं किया।पहाड़िया के साथ ही एसीबी ने एक आरएएस अधिकारी अशोक सांखला और दलाल नितिन शर्मा को भी गिरफ्तार किया है।

शनिवार को घूस लेते पकड़े गए नन्नूमल पहाड़िया तीन दिन पहले ही अलवर कलक्टर के पद से रिलीव हुए थे। पहाड़िया को विभागीय जांच आयुक्त के पद पर लगाया था। जानकारी के अनुसार करीब 99 दिन बाद पहाड़िया का रिटायरमेंट था, लेकिन उससे पहले ही वह एसीबी के हत्थे चढ़ गए।

एसीबी महानिदेशक बीएल सोनी ने बताया कि कुछ दिनों पहले एक परिवादी ने शिकायत दर्ज कराई थी कि उसकी कंस्ट्रक्शन कंपनी की ओर से निर्माण कार्य किया जा रहा है। काम में कोई परेशानी नहीं हो, इसके लिए 4 महीने के 16 लाख रुपए मासिक बंदी के रूप में रिश्वत मांगी गई थी। इस पर एडीजी दिनेश एमएन के निर्देश पर एएसपी विजय सिंह और डीवाईएसपी महेंद्र कुमार के नेतृत्व में टीम बनाई गई।

आईएएस अधिकारी नन्नूमल पहाड़िया तीन दिन पहले ही अलवर कलक्टर के पद से रिलीव हुए थे। शिकायतकर्ता शनिवार सुबह रुपए लेकर आरएएस अशोक सांखला के पास पहुंचा और उनको पैसे दिए। इसके बाद सांखला ने दलाल नितिन शर्मा को रिश्वत की रकम पूर्व कलेक्टर नन्नूमल पहाड़िया के पास पहुंचाने के लिए कहा। दलाल पहाड़िया को पैसा देने जा रहा था, उसी दौरान रास्ते में एसीबी ने उसे पकड़ लिया और पहाड़िया को कलक्टर आवास से गिरफ्तार किया। एसीबी अब पहाड़िया के जयपुर के महेश नगर स्थित मकान व अन्य ठिकानों, आरएएस और दलाल के मकान व अन्य ठिकानों में सर्च शुरू कर दिया है।

गिरफ्तार नहीं करने की एवज में मांगी राशि, खुद हुए गिरफ्तार
एक अन्य कार्रवाई में एसीबी ने शनिवार को ही उदयपुर में मुंबई क्राइम ब्रांच के एक एएसआई ज्ञानेश्वर जगताप और हैड कांस्टेबल प्रशांत पाटिल को परिवादी 4 लाख 97 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों​ गिरफ्तार किया।

जानकारी के अनुसार एसीबी को सूत्र से सूचना मिली थी कि पुलिस थाना अर्नाला, जिला पालघर, महाराष्ट्र में उदयपुर के एक व्यक्ति के खिलाफ दर्ज प्रकरण में गिरफ्तार नहीं करने के एवज में मुंबई क्राइम ब्रांच के एएसआई और हैड कांस्टेबल ने 4 लाख 97 हजार रुपए वसूल कर लिए हैं और एक निजी कार में मुंबई जा रहे हैं। इस सूचना पर एसीबी की उदयपुर इकाई ने चेतक सर्किल पर संदिग्ध कार को रोका और तलाशी ली। कार से राशि बरामद कर ली गई, जिसका एएसआई और हैड कांस्टेबल कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे सके। ऐसे में एसीबी में राशि को जप्त कर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।

Related posts

वाल्मिकी समाज के कारण भाजपा के हाथ से गया नगर निगम हैरिटेज

admin

घर-घर में औषधीय पौधों (medicinal plants)को उगाने में सहयोगी बनें बच्चे (children) और अभिभावक (parents)

admin

एपिडेमिक एक्ट में 80 हजार चालान

admin

Leave a Comment