ऊषा शर्मा बनीं राजस्थान की मुख्य सचिव, राजस्थान में 13 साल में दूसरी बार महिला मुख्यसचिव, आर्य होंगे मुख्यमंत्री के सलाहकार

जयपुर

जयपुर। सीनियर आईएएस अफसर ऊषा शर्मा राजस्थान की नई मुख्य सचिव नियुक्त हुई है। कार्मिक विभाग की ओर से इसको लेकर आदेश जारी कर दिया गया है। शर्मा प्रदेश की दूसरी महिला सचिव नियुक्त हुई हैं। वहीं मुख्य सचिव पद से रिटायर हुए निरंजन आर्य को मुख्यमंत्री सलाहकार के पद पर नियुक्त किया गया है।

भारतीय प्रशासनिक सेवा की वरिष्ठ अधिकारी ऊषा शर्मा ने सोमवार को यहां शासन सचिवालय में मुख्य सचिव के पद पर कार्यभार ग्रहण किया। निवर्तमान मुख्य सचिव निरंजन आर्य ने उन्हें पदभार सौंपा। इस अवसर पर शर्मा ने कहा कि सभी जनसमस्याओं का निस्तारण करना उनकी सर्वाेच्च प्राथमिकता होगी। यह भी सुनिश्चित किया जाएगा कि महिलाओं से संबंधित सभी फ्लैगशिप योजनाओं का क्रियान्वयन सुचारु रूप से हो। शासन में जनसहभागिता को सुनिश्चित किया जाएगा। इसलिए वे आमजन के दर्द को भली भांति समझती है। उन्होंने कहा कि उनका लक्ष्य मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत की मंशानुरुप राज्य सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन को सुनिश्चित करना है।

ऊषा शर्मा को राजस्थान खान एवं खनिज निगम लिमिटेड उदयपुर के अध्यक्ष का अतिरिक्त कार्यभार भी सौंपा गया है। कार्मिक विभाग ने पहले प्रदेश के नए मुख्य सचिव के लिए वरिष्ठ आईएएस ऊषा शर्मा के नाम का आदेश जारी किया। एक अन्य आदेश में सेवानिवृत्त हुए मुख्य सचिव निरजंन आर्य को सेवानिवृत्ति के साथ ही मुख्यमंत्री सलाहकार के रूप में नियुक्त किया गया है। ऊषा शर्मा राजस्थान की दूसरी महिला आईएएस हैं, जिन्हें मुख्य सचिव के पद की जिम्मेदारी दी गई है। इससे पहले साल 2009 में कुशल सिंह राज्य की पहली महिला मुख्य सचिव बनी थीं।

वरिष्ठ आईएएस अधिकारी ऊषा शर्मा 85 बैच की वरिष्ठ अधिकारी है। उनके पति बीएन शर्मा भी आईएएस अधिकारी हैं और राज्य विनियामक आयोग में सदस्य हैं। शर्मा लंबे समय से केंद्र में प्रतिनियुक्ति पर थी, जिन्हें राज्य सरकार के आग्रह पर रविवार को ही केंद्र सरकार ने उनके मूल कैडर में भेजने के रिलीव आर्डर जारी किए थे।

1985 बैच की आईएएस ऊषा शर्मा केंद्र में युवा मामलात मंत्रालय में सचिव पद पर कार्यरत थी. इससे पहले वे आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया में डीजी, केंद्रीय एआरडी में अतिरिक्त सचिव और पर्यटन मंत्रालय में एडीजी पर्यटन पद पर रह चुकी हैं। पिछली गहलोत सरकार में ऊषा पर्यटन विभाग में प्रमुख सचिव रह चुकी हैं। इसके अलावा वे यूडीएच सचिव, नागरिक उड्डयन सचिव, पर्यटन सचिव, उद्योग सचिव, जेडीसी और बूंदी और अजमेर कलेक्टर के रूप में राजस्थान सरकार में अपनी भूमिका निभा चुकी हैं। शर्मा का सेवा कार्यकाल जून 2023 तक है।

इन नियुक्तियों को सियासी मायने में मुख्यमंत्री गहलोत की आगामी विधानसभा चुनावों के मद्देनजर सोश्यल इंजीनियरिंग माना जा रहा है। कहा जा रहा है कि आर्य को रिटायरमेंट के बाद सलाहकार बना कर एससी वर्ग पर पकड़ मजबूत करने की कोशिश की है, वहीं ऊषा शर्मा को मुख्य सचिव बनाकर स्वर्ण वर्ग को भी साधने की कोशिश की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.