जयपुर

मुख्यमंत्री ने की राजस्थान रत्न अवार्ड के चयनित प्रतिभाओं के नामों की घोषणा

जयपुर। राज्य सरकार द्वारा इन्वेस्ट राजस्थान समिट-2022 का आयोजन 7-8 अक्टूबर, 2022 को जेईसीसी, सीतापुरा, जयपुर में किया जा रहा है। यह समिट एक भव्य समारोह होगा जिसमें देश-विदेश के लगभग 3000 प्रतिभागी सम्मिलित होंगे। इन्वेस्ट राजस्थान समिट 2022 की थीम ‘कमिटेड-डिलिवर्ड‘ है। सोमवार को यह बात मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इन्वेस्ट राजस्थान समिट के लिए सीएम आवास पर आयोजित प्रेस वार्ता में कही।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर राजस्थान रत्न अवार्ड के लिए चयनित प्रतिभाओं के नामों की घोषणा की। उन्होंने जानकारी दी कि इस वर्ष के राजस्थान रत्न अवार्ड जस्टिस दलबीर भंडारी, जस्टिस आर.एम. लोढ़ा, उद्योगपति अनिल अग्रवाल, उद्योगपति एल.एन मित्तल, शीन काफ निजाम, केसी मालू को दिये जाएंगे।

मुख्यमंत्री ने बताया कि इन्वेस्ट राजस्थान समिट से पूर्व माह नवम्बर 2021 से सितम्बर, 2022 के मध्य अंतर्राष्ट्रीय, राष्ट्रीय व राज्य स्तर पर रोड शो आयोजित किए गये थे। राज्य सरकार द्वारा 10.44 लाख करोड़ रुपए के 4,192 एमओयू / एलओआई हस्ताक्षरित किए गए। 4,192 एमओयू / एलओआई में से कुल 1680 एमओयू / एलओआई क्रियान्वित अथवा क्रियान्वयन के चरण में हैं जो की लगभग 40 प्रतिशत हैं। उक्त एम.ओ.यू./ एल.ओ.आई में से कुछ प्रमुख एमओयू / एलओआई का शिलान्यास एवं उद्घाटन इन्वेस्ट राजस्थान समिट के उद्घाटन सत्र में 7 अक्टूबर को किया जायेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस समिट का उद्देश्य राजस्थान में विभिन्न निवेश क्षेत्रों में उपलब्ध निवेश अवसरों का व्यापक प्रचार कर नये निवेश को आकर्षित करना है। नये निवेश के साथ-साथ रोजगार सृजन तथा राज्य को औद्योगिक गन्तव्य के रूप में स्थापित करना भी इसका प्रमुख उद्देश्य हैं।

उन्होंने कहा कि इन्वेस्ट राजस्थान समिट-2022 दो दिवसीय कार्यक्रम होगा जिसमें प्रथम दिवस, 7 अक्टूबर को पूर्वाह में कई गणमान्य अतिथियों की उपस्थिति में उद्घाटन सत्र आयोजित किया जायेगा। उद्घाटन सत्र के उपरान्त एन.आर.आर., पर्यटन, स्टार्टअप, फ्यूचर रेडी सेक्टर, एग्री बिजनेस पर समानान्तर सेक्टोरल कॉनक्लेव आयोजित किए जायेंगे। समानान्तर सेक्टोरल सत्रों में उस सेक्टर से संबंधित विशिष्ट व्यक्तियों को वक्ता के रूप में आमंत्रित किया गया है।

समिट के अंतर्गत आयोजित होने वाला प्रत्येक सत्र अपने आप में भिन्न होगा जो कि एक विकसित राजस्थान की छवि को प्रदर्शित करेगा। द्वितीय दिवस, 8 अक्टूबर को एम.एस.एम.ई. कॉन्क्लेव आयोजित की जायेगी। जिसके अन्तर्गत एम.एस.एम.ई. क्षेत्र को और अधिक विकसित किए जाने एवं इस क्षेत्र में उपलब्ध नई निवेश संभावनाओं पर चर्चा की जायेगी।

गहलोत ने जानकारी देते हुए कहा कि एमओयू / एलओआइ के क्रियान्वित अथवा क्रियान्वयन के चरणों में प्रस्तावित निवेश में 57 प्रतिशत भागीदारी के साथ उर्जा सेक्टर मुख्य सेक्टर के रूप में उभर कर आया है। इसके अतिरिक्त केमिकल्स एवं पेट्रोकेमिकल्स 18.2 प्रतिशत, टेक्सटाइल 9.5 प्रतिशत, पेट्रोलियम एवं गैस 5.9 प्रतिशत, सीमेन्ट 4.6 प्रतिशत और टेक्सटाइल की 3.4 प्रतिशत हिस्सेदारी है।

उल्लेखनीय है कि इन्वेस्ट राजस्थान समिट के आयोजन के लिए कॉन्फेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री (सीआईआई) को नेशनल पार्टनर नियुक्त किया गया है, जो समिट के आयोजन के लिए राज्य सरकार को सहयोग प्रदान कर रहा है।

Related posts

पुरा सामग्रियों को फिर से खतरे में डालने की तैयारी

admin

बिना मास्क स्टैंडों पर नहीं मिलेगी एंट्री

admin

देश की पहली सरकारी मानसिक स्वास्थ्य टोल फ्री सेवा ‘मन-संवाद’ का शुभारंभ

admin