राजस्थान के किसान अब 25 क्विंटल के जगह 40 क्विंटल चना समर्थन मूल्य पर बेच सकेंगे

जयपुर

चना खरीद लक्ष्य 5.97 लाख से बढ़ाकर 6.20 लाख मीट्रिक टन किया

जयपुर। सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने शुक्रवार को बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के प्रयासों के कारण भारत सरकार ने किसान से एक दिन में अधिकतम 25 क्विंटल के जगह 40 क्विंटल चना की समर्थन मूल्य पर खरीद किये जाने की अनुमति दे दी है। गहलोत ने 25 क्विंटल की तुलाई सीमा के कारण किसानों को हो रही परेशानी को दूर करने के लिये प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर एक दिन में 25 क्विंटल की खरीद सीमा को बढ़ाकर 40 क्विंटल करने तथा राज्य में कुल उत्पादन के 25 प्रतिशत को बढ़ाकर 50 प्रतिशत तक बढ़ाने का आग्रह किया गया था।

आंजना ने बताया कि अब किसान से चना की एक दिन में 40 क्विंटल तक खरीद हो सकेगी। इस निर्णय से किसानों को अपनी उपज को बेचने के लिये दूसरे दिन का इन्तजार नहीं करना पड़ेगा। पहले भारत सरकार ने 5.97 लाख मीट्रिक टन चना खरीद का लक्ष्य दिया था, उसे अब बढ़ाकर 6.20 लाख मीट्रिक टन कर दिया है।

सहकारिता मंत्री ने बताया कि समर्थन मूल्य पर चना खरीद के लिये 1 लाख 24 हजार 90 किसानों ने ऑनलाइन पंजीयन कराया है। जिसमें से 86 हजार 609 किसानों को उपज बेचान की दिनांक आवंटित की जा चुकी है तथा 63 हजार 303 किसानों से 1 लाख 31 हजार 727 मीट्रिक टन चना की खरीद की जा चुकी है, जिसकी राशि 689 करोड़ रुपये है।

आंजना ने बताया कि श्रीगंगानगर जिले में किसानों द्वारा लाये जा रहे चने में अपरिपक्व, सिकुडें एवं टूटे हुए दानों की मात्रा 6 प्रतिशत से अधिक 10 प्रतिशत तक आ रही है। भारत सरकार द्वारा निर्धारित चने के गुणवत्ता मापदण्डों में अपरिपक्व, सिकुडें एवं टूटे हुए दानों की स्वीकार्य मात्रा 6 प्रतिशत तक निर्धारित है। राज्य के किसानों के हित में इस सीमा को 10 प्रतिशत तक बढ़ाने के लिए कृषि मंत्रालय, भारत सरकार को अनुरोध किया जा रहा है ताकि अधिकाधिक किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य योजनान्तर्गत चना क्रय किया जा सके।

राजफैड प्रबंध निदेशक उर्मिला राजोरिया ने बताया कि 35 हजार 489 किसानों को 389 करोड़ रूपये का भुगतान ऑनलाइन किसानों के खाते में किया जा चुका है। शेष किसानों का भी भुगतान प्रक्रियाधीन है। राज्य में चना की खरीद के लिए 635 केन्द्र खोले गए है। भारत सरकार द्वारा चना का प्रति क्विंटल समर्थन मूल्य 5230 रूपये निर्धारित किया गया है। खरीद प्रभारियों को निर्देश दिये गये हैं कि राज्य में रोजाना बदल रहे मौसम के मद्देनजर प्रतिदिन होने वाली खरीद को भण्डारगृहों में जमा कराया जाना सुनिश्चित किया जाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published.