राजस्थान विधानसभा में गूंजा रीट पेपर लीक प्रकरण

जयपुर

जयपुर। राजस्थान विधानसभा में रीट पेपर लीक प्रकरण को लेकर गतिरोध शुरू हो गया है। विधानसभा में पहले ही दिन जहां भाजपा विधायकों ने राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान खड़े रहकर विरोध प्रकट किया, वहीं आरएलपी के विधायक रीट पेपर की सीबीआई से जांच की मांग के पोस्टर लेकर वैल में पहुंच गए। इस दौरान राज्यपाल ने भी सदस्यों को बैठने का अनुरोध किया, इसके बावजूद भाजपा विधायक खड़े ही रहे।

राज्यपाल के सदन से जाने के बाद गहलोत वसुंधरा राजे के पास पहुंचे और राजे से कहा कि आप लोग बैठे-बैठे ही ये तख्तियां दिखा देते तो हम विरोध मान लेते, घंटे भर खड़े रहने की क्या जरूरत थी?गहलोत और राजे की यह मुलाकात भी सियासी हलकों में चर्चा का विषय बन गई। राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान बीजेपी विधायकों ने पूरे समय खड़े रहकर रीट की सीबीआई जांच की मांग को लेकर विरोध जताया था और तख्तियां लहराई थी।

अभिभाषण के दौरान आरएलपी के तीन विधायक नारायण बेनीवाल, इंदिरा देवी बावरी और पुखराज गर्ग पोस्टर लेकर वैल में आ गए और रीट परीक्षा में हुई धांधली का विरोध जताते हुए इस प्रकरण की सीबीआई से जांच की मांग की।उल्लेखनीय है कि आरएलपी के राष्ट्रीय संयोजक हनुमान बेनीवाल पहले ही कह चुके थे कि उनकी पार्टी रीट प्रकरण का मुद्दा विधानसभा में उठाया जाएगा।

इससे पहले राज्यपाल ने करीब 1 घंटे 3 मिनट तक अभिभाषण पढ़ा। अभिभाषण में राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा कि राजस्थान कोरेाना मैनेजमेंट में सर्वश्रेष्ठ प्रदेश है। राजस्थान कोविड मैनेजमेंट में रोल मॉडल बनकर उभरा है, इस आपदा से सरकार ने बेहतर तरीके से निपटा है। किसी को भूखा नहीं सोने दिया। कोविड काल में 33 लाख परिवारों को सहायता दी। 1815 करोड़ खर्च किए। प्रवासी मजदूर जब पलायन कर रहे थे, तब राज्य सरकार ने मजूदरों को वाहन लगाकर गंतव्य तक पहुंचाया। रोज 1 लाख कोविड टेस्ट करने की क्षमता विकसित की।

अभिभाषण के दौरान राज्यपाल ने विरोध कर रहे बीजेपी विधायकों से अपनी सीटों पर बैठने का आग्रह किया। राज्यपाल ने कहा कि आप बैठ जांएगे तो बेहतर रहेगा। उन्होंने कहा कि सदन चलता रहेगा, आप डटकर विरोध करें, इसमें कोई हर्ज नहीं है। राज्यपाल के आग्रह के बाद भी बीजेपी विधायकों ने विरोध जारी रखा।

राज्यपाल ने कहा कि राजस्थान में मेडिकल सुविधाएं बेहतर हुई हैं। हर जिले में मेडिकल कॉलेज की तर्ज पर ही हर जिले में नर्सिंग कॉलेज और अच्छी ट्रैनिंग का फैसला किया है। दूसरे राज्यों के मरीज राजस्थान में इलाज कराने आते हैं। यह राजस्थान के लिए गर्व की बात है। सरकार ने बहुत से नवाचार किए हैं। सीएम चिरंजीवी स्वस्थ्य बीमा योजना शुरू की गई है। महात्मा गांधी अहिंसा शांति प्रकोष्ठ शुरू किया है। सिलिकोसिस के इलाज जांच की व्यवसथा की है।

भाषण के बाद उपचुनाव में जीते दोनों विधायकों को सदन में स्पीकर ने विधायक पद की शपथ दिलवाई। वल्लभनगर से कांग्रेस विधायक प्रीति शक्तावत और धरियावद से विधायक नगराज ​मीणा ने ढाई महीने पहले उपचुनावों में जीत दर्ज की है। इस दौरान विधानसभा में लता मंगेशकर, पूर्व सीडीएस बिपिन रावत और दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि दी गई।

बीएसी की बैठक में विधानसभा के बजट सत्र का कामकाज तय होगा। बैठक में सरकार के बजट पेश करने की तारीख भी तय होगी। राज्यपाल के अभिभाषण पर चार दिन बहस के बाद मुख्यमंत्री का जवाब देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.