रीट पेपर लीक प्रकरण में मुख्यमंत्री आवास को घेरने गए भाजपा कार्यकर्ताओं पर पुलिस का लाठीचार्ज, एक दर्जन से अधिक कार्यकर्ता घायल

जयपुर

जयपुर। रीट पेपर लीक प्रकरण में एसओजी की ओर से हुए खुलासों के बाद भाजपा गहलोत सरकार को अब राहत देने के मूड में नहीं है और लगातार सीबीआई जांच की मांग की जा रही है। इसी के चलते मंगलवार दोपहर भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं ने प्रकरण में सीबीआई जांच की मांग को लेकर सिविल लाइंस फाटक पर मुख्यमंत्री आवास का घेराव किया। इस दौरान पुलिस ने भी प्रदर्शन को तितर—बितर करने के लिए जमकर लाठियां भांजी, जिससे बड़ संख्या में भाजपा कार्यकर्ता घायल हो गए।

मंगलवार को भाजपा युवा मोर्चा ने रीट परीक्षा प्रकरण की सीबीआई जांच करवाने की मांग पर भाजपा मुख्यालय से प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर सतीश पूनिया के नेतृत्व में पैदल मार्च शुरू किया। जिसमें बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया, लेकिन राज महल चौराहे पर पुलिस ने उन्हें रोक लिया।

इस दौरान प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया और भाजयुमो अध्यक्ष हिमांशु शर्मा के साथ तमाम प्रदर्शनकारी बैरिकेट्ड हटाकर सिविल लाइंस फाटक की ओर बढ़ गए। पुलिस ने सिविल लाइन फाटक से पहले फिर बैरिकेडिंग लगाकर इन्हें रोकने की कोशिश की, लेकिन पूनिया और भाजपा के नेता नहीं माने और यहां भी बैरिकेडिंग को पार कर आगे बढ़ने लगे। ऐसे में पुलिस ने लाठीचार्ज कर प्रदर्शनकारियों को यहां से तितर-बितर किया।

प्रदर्शन के दौरान कुछ प्रदर्शनकारी सिविल लाइंस फाटक तक पहुंच गए ऐसे में यहां तैनात पुलिस के जवानों ने वाटर कैनन का प्रयोग कर उन्हें यहां से खदेड़ा। भाजपा कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज के विरोध में प्रदेशाध्यक्ष के साथ प्रदर्शनकारी यहां धरने पर भी बैठ गए। मामला बढ़ता देख पुलिस ने पूनिया व अन्य प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लेकर यहां से अन्य स्थान पर छोड़ा।

प्रदर्शनकारियों का कहना था कि सरकार ने विपक्ष के आंदोलन को दबाने के लिए दमनकारी नीति का उपयोग किया और जानबूझकर प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज किया। पुलिस के लाठीचार्ज में भाजपा युवा मोर्चा पदाधिकारी सुमित अग्रवाल, महिला मोर्चा प्रदेश उपाध्यक्ष जय श्री गर्ग और जयपुर शहर पदाधिकारी कुलवंत सिंह सहित कई नेता व कार्यकर्ता गंभीर रूप से घायल हो गए।

प्रदर्शन को संबोधित करते हुए प्रदेशाध्यक्ष पूनिया ने कहा कि रीट पेपर लीक प्रकरण में सीबीआई जांच से ही दूध का दूध और पानी का पानी होगा। इस प्रकरण में कई बड़े नेता शामिल हैं, जिन्हें सरकार संरक्षण दे रही हैै। भाजयुमो प्रदेश अध्यक्ष हिमांशु शर्मा ने कहा कि जब तक सरकार इस प्रकरण में सीबीआई को जांच नहीं देती तब तक यह विरोध-प्रदर्शन जारी रहेगा। बाद में लाठीचार्ज में घायल हुए भाजपा कार्यकर्ताओं से पार्टी के वरिष्ठ नेता घनश्याम तिवाड़ी और प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने ट्रोमा सेंटर में मुलाकात की और उनका हाल जाना।

भाजपा जिला अध्यक्ष राघव शर्मा ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया, युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष हिमांशु शर्मा, युवा मोर्चा जयपुर शहर अध्यक्ष सुरेंद्र पूर्वंशी सहित भारतीय जनता युवा मोर्चा के शांतीपूर्ण प्रदर्शन पर लाठीचार्ज एवं गिरफ्तारी की निंदा करते हुए कहा कि जब रीट की परीक्षा में धांधली सामने आ चुकी है। राज्य सरकार के इशारे पर पुलिस ने जो लाठियां बरसाई। शर्मा ने कहा कई गिरफ्तारियां हो चुकी है, लेकिन सही व उच्च स्तरीय जांच से राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार क्यों बच रही है? वास्तविक अपराधियों तक जांच को नहीं पहुंचने देना चाहती है। इसलिए सीबीआई से जांच जरूरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.