जयपुर

विधानसभा के घेराव को लेकर निकली भाजपा पर वॉटर कैनन से पानी की बौछार, बेरिकेट से गिरने पर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष घायल, कार्यकर्ताओं ने पुलिस के लगाए बेरिकेट उखाड़े

जयपुर। रीट पेपर लीक प्रकरण में सीबीआई जांच की मांग को लेकर मंगलवार को राजस्थान भाजपा ने जयपुर में विरोध प्रदर्शन किया और विधानसभा को घेरने की कोशिश की। विधानसभा की ओर बढ़ते भाजपा कार्यकर्ताओं की पुलिस के साथ झड़प हुई और पुलिस ने कार्यकर्ताओं पर वॉटर कैनन से पानी की बौझारें छोड़ी। कार्यकर्ताओं ने पुलिस के लगाए कई बेरिकेट को उखाड़ दिया और आगे बढ़ने की कोशिश की। इस दौरान बेरिकेट पर चढ़े भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया भी धक्का—मुक्की में गिरकर घायल हो गए। भाजपा ने प्रदेश मुख्यालय से 22 गोदाम सर्किल होते हुए विधानसभा कूच और घेराव का कार्यक्रम रखा।

प्रदर्शन से पूर्व भाजपा मुख्यालय के बाहर मंच लगाकर वरिष्ठ नेताओं ने कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। सतीश पूनिया, गुलाबचन्द कटारिया, राजेन्द्र राठौड़ समेत कई नेताओं ने कार्यकर्ताओं में जोश भरकर उन्हें कूच के लिए रवाना किया। कई नेता और कार्यकर्ता हाथों में सरकार के खिलाफ काले झण्डे और स्लोगन लिखीं तख्तियां लेकर पहुंचे। जिसमें बेरोजगार युवाओं से धोखा करने के आरोप सरकार पर लगाए गए।

प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया के नेतृत्व में हुए इस प्रदर्शन में प्रभारी अरूण सिंह, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचन्द कटारिया, उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़, युवा मोर्चा प्रदेशाध्यक्ष हिमांशु शर्मा, महिला मोर्चा,जयपुर शहर और देहात बीजेपी, बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा समेत कई मोर्चों के कार्यकर्ता, विधायक और सांसद शामिल हुए, लेकिन भाजपा विधानसभा का घेराव नहीं कर पाई। प्रदर्शन के दौरान 22 गोदाम के आस—पास के इलाकों में घंटों यातायात जाम की स्थितियां बनी रही। प्रदर्शन में शामिल होने के लिए बाहर से आए कार्यकर्ताओं और नेताओं ने प्रदेश कार्यालय के पीछे की गलियों में अपनी गाड़ियों को पार्क किया, जिससे सी—स्कीम में भी घंटों जाम की स्थिति रही।

प्रदर्शन को विधानसभा पहुंचने से रोकने के लिए 22 गोदाम सर्किल पर भारी पुलिस जाप्ते का इंतजाम किया गया था। रास्ते में कई जगहों पर बेरिकेटिंग की गई थी और वॉटर कैनन तैनात की गई थी। पुलिस ने कार्यकर्ताओं को आगे नहीं बढ़ने दिया तो प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया, मदन दिलावर समेत कई नेता बेरिकेटों पर चढ़ गए। इस दौरान पानी की बौछारों और धक्का लगने से पूनिया नीचे गिर पड़े और उनके पांव में चोट आ गई। पूनिया को विद्याधर नगर के न्यूरो केयर हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां पूनिया ने अपनी जांच कराई।

प्रदर्शन में प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया, प्रदेश प्रभारी और राष्ट्रीय महामंत्री अरूण सिंह, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचन्द कटारिया, उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ मिनी रथ वाहन पर सवार होकर भाजपा कार्यालय से निकले। इसके बाद उन्होंने अपनी गाड़ी से बैरिकेड तोड़ दिए। इसके साथ ही हजारों की तादाद में आए अलग—अलग मोर्चों के कार्यकर्ताओं ने धक्के मारकर बेरिकेट्स गिरा दिए। फिर उन पर चढ़कर सुरक्षा घेरा तोड़कर आगे बढ़ते चले गए।

बैरिकेड्स पार कर जैसे ही तीसरे सुरक्षा घेरे की ओर बीजेपी कार्यकर्ता बढ़े तो पुलिस ने थ्री लेयर चेन बनाकर उन्हें रोका। काफी देर तक पुलिस और बीजेपी कार्यकर्ताओं में धक्का मुक्की और नोकझोंक चलती रही। सतीश पूनिया को युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने कन्धों पर बैठा लिया। फिर तीसरे मुख्य सुरक्षा घेरे के बैरिकेड्स तोड़ने के लिए जैसे ही कार्यकर्ता आगे बढ़े। इस दौरान काफी देर तक धक्का मुक्की चलती रही। इस दौरान पूनिया गिरे तो भाजपा नेता यहीं पर धरने पर बैठ गए और काफी देर तक सरकार के खिलाफ नारेबाजी की गई। कार्यकर्ता सड़क पर ही धरने पर बैठ गए तो उन्हें गिरफ्तार करने के लिए लो फ्लोर बसें बुलाई गईं। जिनमें भरकर कार्यकर्ताओं को पुलिस ले गई। इस दौरान बड़े नेताओं ने भी अपनी गिरफ्तारी दी। गिरफ्तारी के बाद लो फ्लोर बसें बीजेपी नेताओं को लेकर विद्याधर नगर थाने पर पहुंची। जहां अरूण सिंह,गुलाबचन्द कटारिया,राजेन्द्र राठौड़,सतीश पूनियां समेत सभी कार्यकर्ताओं को छोड़ दिया गया। थाने से छूटने के बाद सभी बीजेपी नेता प्रदेश बीजेपी मुख्यालय पहुंचे।

Related posts

Rajathan: दूदू के साथ जयपुर ग्रामीण हो सकता है नया जिला.. विधायकों ने कहा, जबरदस्ती किसी इलाके को दूदू में नहीं धकेला जाए

Clearnews

छात्रावासों-आवासीय विद्यालयों में प्रवेश की तिथियां बढ़ाई

admin

सोमवार को फिर आयोजित होगी नगर निगम जयपुर ग्रेटर की कार्यकारिणी समिति, पिछली बैठक में सवालों से घिरे आयुक्त की हो गई थी तबियत नासाज

admin