जयपुर

स्वच्छता सर्वेक्षण सिर पर निगम हेरिटेज कर रहा काम करने का दिखावा

जयपुर। नगर निगम जयपुर हेरिटेज से शहर की जनता त्रस्त हो चुकी है, लेकिन निगम के जनप्रतिनिधि और अधिकारी अभी भी सिर्फ काम करने का दिखावा करने में लगे हैं। शहर की सफाई व्यवस्था चौपट पड़ी है और सभी पार्षद नाराज चल रहे हैं, लेकिन महापौर दौरे पर दौरे कर रही है, इसके बावजूद सफाई में कोई सुधार होता दिखाई नहीं दे रहा है। उधर निगम आयुक्त अवधेश मीणा भी बैठकों पर बैठकें कर रहे हैं, लेकिन इन बैठकों का शहर की जनता को कब फायदा मिलेगा, यह कोई नहीं जानता। महापौर और अधिकारियों में काम के प्रति यह चुस्ती इस लिए दिखाई दे रही है कि स्वच्छता सर्वेक्षण चल रहा है और कुछ ही दिनों में सर्वेक्षण टीमें शहर का दौरा शुरू कर देंगी। इसके बाद शहर के हालात पहले जैसे ही होने तय माने जा रहे हैं।

सफाई दुरस्त नहीं मिली तो सफाई निरीक्षकों के खिलाफ होगी कार्रवाई
नगर निगम जयपुर हैरिटेज की महापौर मुनेश गुर्जर ने बुधवार को सिविल लाईन जोन के वार्ड 41 का अधिकारियों व सफाई निरीक्षकों के साथ दौरा कर सफाई व्यवस्था का जायजा लिया। महापौर ने वार्ड 41 की सफाई में लापरवाही करने पर जमादार को तत्काल निलंबित करने के लिए जोन उपायुक्त को निर्देश दिये और मुख्य सफाई निरीक्षक को फटकार लगाते हुए चेतावनी दी कि सफाई व्यवस्था में लापरवाही नहीं चाहिए। सफाई व्यवस्था दुरस्त नहीं होगी वहां के मुख्य सफाई निरीक्षक एवं सफाई निरीक्षक के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने मेट्रो लाईन के नीचे, जेकब रोड़, जल भवन रोड़, जगह-जगह लगे फल रेड़ी व ठेलों वालों को सड़क से दूर रखने एवं कचरा डालने के लिए डस्टबीन रखने के निर्देश दिये।

हैरिटेज सिटी को केबल के जाल से मुक्त किया जायेगा, 15 दिन बाद चलेगा अभियान

दूसरी ओर नगर निगम जयपुर हैरिटेज के आयुक्त अवधेश मीना बैठकों में व्यस्त रहे। यह बैठकें उन कार्यों की थी, जिनको करने के लिए पिछले कई दशकों से प्रयास किए जा रहे हैं, लेकिन अभी तक सफलता नहीं मिल पाई है। मीणा की अध्यक्षता में बुधवार को केबल ऑपरेटर एवं मोबाईल कंपनियों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक हुई। निर्णय लिया गया कि हैरिटेज सिटी को केबल के जाल से मुक्त किया जायेगा। इसके लिए कंपनियों को ऑवर हेड केबल के तारों को हटाने के लिए 15 दिन का समय दिया है।
मीना ने कहा कि 15 दिन बाद नगर निगम हैरिटेज द्वारा ऑवर हेड केबल को हटाने का विशेष अभियान चलाया जायेगा। उन्होंने मोबाईल कंपनियों के प्रतिनिधियों को निर्देश दिये कि सभी केबल अंडरग्राउंड ही होगी जो भी ऑवर हेड केबल डालेगा उसके विरूद्ध मुकदमा दर्ज कराया जायेगा।

एक अन्य बैठक सिंगल यूज प्लास्टिक पर हुई। सिंगल यूज प्लास्टिक को हटाने के लिए कई दशकों से कार्य चल रहा है, लेकिन नगर निगम आज तक इसमें सफल नहीं हो पाया है। करीब दो—तीन महीनों पूर्व उच्च स्तर से सिंगल यूज प्लास्टिक पर कार्रवाई करने के आदेश उच्च स्तर से निकले थे, जिनपर अब बैठक की जा रही है। देखने वाली बात यह है कि कार्रवाई कब और कितनी कारगर होती है।

मीना ने बताया कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार नगर निगम जयपुर हैरिटेज क्षेत्र में एक जुलाई से सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग शत-प्रतिशत रूप से बंद किया जायेगा। जोन उपायुक्त एवं अन्य अधिकारियों को ​निर्देश दिये कि लोगों को सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग बंद करने के लिए जागरूकता अभियान चलाया जाये। इसके तहत रेलियां आयोजित करना, होटल भोजनालय, मैरिज गार्डनों, दुकानदारों आदि के साथ बैठक कर उन्हें बंद करने के लिए पाबंद किया जायेगा।
सभी जोन उपायुक्तों को निर्देश दिये गए कि केरी बैग का उपयोग को तत्काल बंद कराने के लिए जोनवार टीम गठित करने के निर्देश देते हुए कहा कि केरी बैग जहां भी मिले उन्हें जब्त कर हर्जाना लगाये। इस तरह की कार्रवाई पिछले कई दशकों से चल रही है। उपर से निर्देश मिलने पर थोड़े दिन कार्रवाई होती है और उसके बाद ढाक के तीन पात वाली स्थिति हो जाती है और प्लास्टिक दोबारा धडल्ले से चलने लगता है।

Related posts

राजस्थान में खाद्य सुरक्षा (food security) में चयनितों को जून एवं जुलाई में 5 किलो प्रति व्यक्ति नि:शुल्क अतिरिक्त गेहूं

admin

प्रशासन शहरों के संग अभियान पर समीक्षा बैठकशिविरों में दिए जाएं अधिक से अधिक पट्टे:गहलोत

admin

राजस्थान के खेल मंत्री अशोक ‘चांद ना ‘ उवाच…चांद पर जाने वाले यात्रियों को सलाम..!

Clearnews