7 arrested including both the shooters who demanded extortion of 50 lakhs by blinded firing

अंधाधुंध फायरिंग (blinded firing) कर 50 लाख की रंगदारी (extortion) मांगने वाले दोनों शूटर (shooters) सहित 7 गिरफ्तार (arrest)

जयपुर ताज़ा समाचार

राजस्थान पुलिस ने भिवाड़ी के गायत्री सुपर मार्केट में 7 अक्टूबर व्यापारी की दुकान पर हुई फायरिंग की वारदात का खुलासा कर सात अभियुक्तों को गिरफ्तार (arrest) किया है। इसके साथ ही पुलिस ने 50 लाख रुपये की रंगदारी extortion) के लिये दुकान में की गयी अंधाधुंध फायरिंग (blinded firing) की घटना में प्रयुक्त एक पिस्टल व अपाचे बाइक बरामद की है। पुलिस के मुताबिक कनाडा में रहने वाला अप्रवासी गोल्डी बराड गैंग का संचालन करता है। लोकल गैंग लीडर चांद गुर्जर, हरवीर प्रधान व अनिल पण्डित ने भोण्डसी जेल से राजस्थान जेल में ट्रान्सफर होने के लिए वारदात को अंजाम दिलाया था।

गिरोह के सरगना व शूटर सहित 7 बदमाश गिरफ्तार

       जिला पुलिस अधीक्षक राममूर्ति जोशी ने बताया कि पुलिस ने इस मामले में शूटर राजेन्द्र उर्फ गदर (20) निवासी अम्बेडकर नगर यूपी व चिराग जाटव (19) निवासी थाना रनहोली नई दिल्ली तथा मनजीत जाट (22) निवासी झज्जर हरियाणा, दीपक जाट (21) निवासी फरूखनगर जिला गुडगांवा, यशपाल जाट (26) निवासी थाना पटौदी जिला गुडगांव हरियाणा, चांद उर्फ चांदराम गुर्जर (26) निवासी जिला रेवाडी हरियाणा एवं हरवीर प्रधान (30) निवासी खेडकी दौला गुडगांवा हरियाणा को गिरफ्तार किया है।

अभी ट्रेलर है आगे फिल्मे दिखांयेगें (50 लाख) तैयार रख

      जोशी ने बताया कि 7 अक्टूबर की सुबह बाइक पर आए दो लड़कों ने भिवाडी बाईपास स्थित गायत्री सुपर बाजार में व्यापारी आशीष शर्मा की दुकान में अंधाधुंध फायरिंग कर दी ओर एक पर्ची पटक गये जिसमे चांद गुर्जर, हरवीर प्रधान व अनिल पंडत का नाम लिख 50 लाख रुपये मांगे गये। पर्ची में लिखा था ये तो अभी ट्रेलर है आगे फिल्मे दिखांयेगें (50 लाख रुपये ) तैयार रख। व्यापारी आशीष शर्मा की रिपोर्ट पर मुकदमा दर्ज हुआ। मामले की गम्भीरता को देख आईजी संजय कुमार श्रोत्रिय के निर्देशन में उनके द्वारा अज्ञात मुल्जिमों की गिरफ्तारी हेतु अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अरूण मच्या के सुपरविजन,  सीओ हरिराम कुमावत एवं थानाधिकारी भिवाडी जितेन्द्र सोलंकी व डीएसटी प्रभारी मुकेश कुमार के नेतृत्व मे विशेष टीमों का गठन किया गया।

टिल्लू हत्याकांड में फरीदकोट जेल में बंद यशपाल चौधरी ने शूटर्स को दिया टास्क

       घटना की सूचना पर तुरन्त नाकाबंदी कराई गई व बाइक के आधार पर सैकड़ों सीसीटीवी फुटेज खंगाले गये। इस दौरान कांस्टेबल योगेश व बिरेन्द्र को सूचना मिली कि घटना के सूत्रधार राजेन्द्र उर्फ गदर व चिराग हैं, जिन्होने चांद गैंग के सदस्य यशपाल चौधरी के इशारे पर वारदात को अंजाम दिया हैं। टिल्लू हत्याकांड में फरीदकोट जेल में बंद यशपाल चौधरी को एसएचओ कोटकासिम महावीर सिंह शेखावत की स्पेशल टीम द्वारा फरीदकोट जेल से गिरफतार कर लाया गया। एसएचओ खुशखेड़ा राजेश यादव की टीम फरूखनगर हरियाणा से अभियुक्त दीपक जाट को पकड़ कर लाई।

वारदात जेल में बन्द सरगना के इशारे पर यशपाल उर्फ सरपंच ने करवाई थी

     यह वारदात जेल में बन्द चांद, हरवीर व अनिल पंडित के इशारे पर यशपाल उर्फ सरपंच ने करवाई थी। यशपाल जेल से गैंग को ऑपरेट करता है। स्थानीय सम्पर्क सूत्रों के माध्यम से रैकी के बाद टारगेट चिन्हित कर धमकी दी जाती है। कर्ज में दबे चिराग व राजेन्द्र उर्फ गदर सोशल मीडिया के जरिये यशपाल चौधरी के सम्पर्क में आये। 3 अक्टूबर को दोनों दिल्ली से फरुखनगर में दीपक जाट के पास पहुंचे। दो दिन उसके पास रुक कर 6 तारीख को दीपक से दो पिस्टल लेकर घटना स्थल देखा व धारूहेडा में गेस्ट हाउस मे रुक गये। अगली सुबह अपाचे बाइक से दोनों गायत्री सुपर मार्केट गये और फायरिंग कर दिल्ली की तरफ निकल गये। बाद में यशपाल के कहने पर पिलानी में मंजीत के पास जाकर रुके। जहां से सीओ चिड़ावा सुरेश के सहयोग से डीएसटी प्रभारी मुकेश एसआई मय टीम ने आरोपी राजेन्द्र उर्फ गदर, चिराग व मनजीत जाट को दस्तयाब कर लिया।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *