जयपुर

नगरीय विकास मंत्री ने किया हैरिटेज सिटी के विशेष लोगो, पट्टे के प्रारूप, आवेदन पत्र, हैरिटेज रूप में तैयार पत्रावली का विमोचन

जयपुर। नगरीय विकास, स्वायत्त शासन एवं आवासन मंत्री शांति धारीवाल द्वारा शनिवार को जयपुर विकास प्राधिकरण की प्रस्तावित हैरिटेज सिटी के विशेष लोगो, पट्टे के प्रारूप, आवेदन पत्र, हैरिटेज रुप में तैयार पत्रावली का विमोचन किया।

विमोचन कार्यक्रम में यूडीएच सलाहकार जीएस संधु, जयपुर विकास आयुक्त रवि जैन, जेडीए सचिव उज्ज्वल राठौड़, निदेशक आयोजना विनय दलेला, संयुक्त शासन सचिव मनीश गोयल एवं प्रमुख सलाहकर नगरीय विकास विभाग, राजस्थान एच एस संचेती उपस्थित रहे।

धारीवाल ने कहा कि कि जयपुर के परकोटा नगर की तर्ज पर जयपुर विकास प्राधिकरण द्वारा आगरा रोड़ के दक्षिण में, रिंग रोड़़ के दोनों ओर ‘न्यू हैरिटेज सिटी‘ विकसित की जा रही है। न्यू जयपुर हैरिटेज सिटी का विकास जयपुर विकास प्राधिकरण एवं निजी विकासकर्ताओं द्वारा जयपुर शैली के एलिमेंट्स व नगर नियोजन पद्धति का समावेश करते हुए किया जाएगा।

जयपुर विकास आयुक्त रवि जैन ने बताया कि जयपुर मास्टर विकास योजना-2025 में इस विशिष्ट योजना का क्षेत्रफल 13 वर्ग किलोमीटर प्रस्तावित है, जिसमें से आंशिक क्षेत्र ईकोलोजिकल व रिंग रोड़ के अन्तर्गत है। इस योजना की अधिसूचना दिनांक 29 सितंबर 2022 को जारी कर आम जनता की जानकारी हेतु समाचार पत्रों में भी विज्ञप्ति प्रकाशित की गई थी।

योजना में न्यूनतम एक Pioneer Project जविप्रा द्वारा तथा न्यूनतम एक Pioneer Project निजी विकासकर्ता द्वारा क्रियान्वित किया जाएगा। इस योजना में सभी प्रकार की आधारभूत सुविधाओं व जन सेवाओं से संबंधित संरचनाओं का प्रावधान रखते हुए एकल (जविप्रा) व संयुक्त रूप (विकासकर्ता) से विकसित की जाएगी। इस योजना को मिश्रित भू-उपयोग को आधार मानकर मूर्त रूप दिया जाएगा।

धरातल पर पिंकसिटी, जयपुर का प्रतिरूप बनाने के परिप्रेक्ष्य में इस योजना में नौ चौकडी, नौ दरवाजे, चौड़ी सड़के, चौकड़ी पार्क के साथ आवासीय, वाणिज्यिक, संस्थागत, मिश्रित भू-उपयोग नियोजित रूप में विकसित किए जाएंगें, ताकि जयपुर की विशिष्टता को आधुनिक परिपेक्ष्य में विकसित किया जा सके।

योजना की विशिष्टताएं

योजना का प्रस्तावित क्षेत्रफल – 6.20 वर्ग कि.मी.

ब्लॉक-ए – 3.63 वर्ग कि.मी.
ब्लॉक-बी – 2.57 वर्ग कि.मी
लोकेशन – आगरा रोड़ के दक्षिण में रिंग रोड़ दोनों तरफ
परकोटा नगर (वाल्ड सिटी) से दूरी – लगभग 9 कि.मी.
भू-उपयोग – मिश्रित
मुख्य सड़कें – 18 मी. से 30 मी. चौडी
भवनों का आमुख (facade) रंग – गेरूऑ (हिरमिची) रंग
चौकड़ी – नौ चौकड़ी
चौपड़ – नौ चौपड़
मुख्य दरवाजे – नौ दरवाजे
बरामदा – 4 मी. चौडे बरामदे
मिश्रित भूखण्ड – 30 मीटर रोड़ के सहारे
संस्थानिक भूखण्ड – 18
वाणिज्यिक भूखण्ड – 27 (30 मी. सडकों पर)
पार्किंग स्थल – 72
बायो डायवर्सिटी पार्क (सिटी लेवल) – लगभग 12 हैक्टेयर
हरित क्षेत्र – ढूंढ नदी के सहारे
चौकडी पार्क – 18 (प्रत्येक चौकडी में दो पार्क)
अन्य मानदण्डो का विवरण – हैरिटेज सिटी योजना के भवन विनियमों के अनुसार

योजना के मानदण्ड
योजना का न्यूनतम क्षेत्रफल – 5 हैक्टेयर
विक्रय योग्य क्षेत्रफल – 60 प्रतिशत तक
उद्यान – योजना के कुल क्षेत्रफल का न्यूनतम 5 प्रतिशत
सुविधा क्षेत्र- योजना के कुल क्षेत्रफल का न्यूनतम 10 प्रतिशत
पब्लिक फैसिलिटी – 7 प्रतिशत
पब्लिक यूटिलिटी – 3 प्रतिशत
फुटपाथ – योजना अनुसार
चौक (कोर्टयार्ड) – भूखण्ड़ क्षेत्रफल का न्यूनतम 10 प्रतिशत अथवा 20 व.मी. जो भी अधिक हो (200 व.मी से 750 व.मी. तक के भूखण्ड़ों हेतु)
सैटबेक – योजना की मुख्य सड़कों (30 मीटर चौड़ी) हेतुः- 30 मीटर चौड़ी मुख्य सड़कों पर व्यावसायिक/मिश्रित भू-उपयोग के भूखण्ड़ों में अग्र व साईड सैटबेक शून्य रखे जावेगें। उक्त भूखण्ड़ों के पीछे स्थित सड़क की ओर का सैटबेक भवन विनियम के अनुसार रखा जाना होगा। भूखण्ड़ के प्रथम तल पर बरामदे के पश्चात न्यूनतम 3 मीटर के टेरेस का प्रावधान रखा जाना होगा।

योजना की अन्य आन्तरिक सड़कों (30 मीटर से कम चौड़ी) हेतुः- उक्त सड़कों के अग्र, पीछे व साईड सैटबेक का निर्धारण पृथक से किया जावेगा। 200 मीटर से लेकर 750 व.मी. तक क्षेत्रफल के भूखण्ड़ां में कोर्टयार्ड का प्रावधान रखे जाने के दृष्टिगत दोनों साईड सैटबेक शून्य रखे जाएंगे।
अधिकतम ऊचाईः- 15 मीटर
योजना की मुख्य सड़कों (30 मीटर चौड़ी) के भूखण्ड़ों की भवन निर्माण सामग्री व एलिवेशन, हैरिटेज सिटी हेतु जारी की जाने वाली Building Construction Material, Facade control guideline के अनुसार रखे जाएंगे।

योजना की क्रियान्विती
—हैरिटेज सिटी की योजनाओं एवं भूखण्डों हेतु पृथक से पत्रावली हैरिटेज लुक में तैयार की गई है।
—इस योजना के लिए अलग से 90-ए का प्रारूप तैयार किया गया है।
— योजना के लिए अलग से पट्टे का प्रारूप तैयार किया गया।
—हैरिटेज योजना के लिए अलग से स्वहव तैयार किया गया है।
—मुख्य सड़कों का डिमार्केशन प्राथमिकता के आधार पर जविप्रा के द्वारा किया जावेगा तथा सभी मुख्य सड़को का निर्माण जविप्रा द्वारा किया जावेगा।
—मुख्य सड़कों से सहारे प्रस्तावित दुकानों व बरामदों का निर्माण टाईप डिजाईन के अनुसार किया जावेगा।
—सभी नौ चौपड व नौ मुख्य द्वारों का निर्माण भी जविप्रा द्वारा टाईप डिजाईन के अनुसार किया जावेगा।
—निजी विकासकर्ता द्वारा च्पवदममत च्तवरमबज के तहत एक चौपड, एक मुख्य सड़क एवं एक मुख्य द्वार का निर्माण प्राथमिकता के आधार पर किया जाएगा।
—हैरिटेज सिटी योजना के भवन विनियम, भूखण्डों हेतु टाईप डिजाईन व हैरिटेज एलिमेंट्स जयपुर शैली में हैरिटेज विशेषज्ञों/वास्तुविदों द्वारा तैयार किया जा रहा है।
—मुख्य सडकों के सहारे स्ट्रीट फर्नीचर हैरिटेज शैली में बनाये जायेंगे।
—मुख्य सडकों पर एक ही तरह के वृक्ष विशेषज्ञों द्वारा सुझाये अनुसार सुन्दरता व एकरूपता बनाने के लिये लगाये जावेंगे।
इन्फ्रास्ट्रक्चर डवलपमेंट जविप्रा द्वारा प्राथमिकता पर करवाया जाएगा।
—योजना में न्यूनतम एक Pioneer Project जविप्रा द्वारा व न्यूनतम एक Pioneer Project निजी विकासकर्ता द्वारा क्रियान्वित किया जायेगा।
—योजना में जयपुर विकास प्राधिकरण की लगभग 30 हैक्टेयर भूमि उपलब्ध है, जिस पर जविप्रा द्वारा प्राथमिकता से योजना की क्रियान्विती की जाएगी।
—जविप्रा द्वारा इस योजना से लगती हुई 12 हैक्टेयर भूमि जो कि पहाडी के आकार की है पर पर्यावरण की दृष्टि से सिटी लेवल पार्क (यथा बॉयो-डायवर्सिटी पार्क) विकसित किया जाएगा।

Related posts

Jaipur: एसएमएस मेडिकल कॉलेज में सेवारत रेजिडेंट्स को 11 महीने से नहीं मिला वेतन

Clearnews

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष पूनिया ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र, चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना रजिस्ट्रेशन की तिथि बढ़ाने की मांग

admin

पंचायत चुनाव (Panchayat elections) 2021: नामांकन के पहले दिन 7 उम्मीदवारों (candidates) ने दाखिल (filed) किए 8 नामांकन (nomination) पत्र

admin