जयपुर

राजस्थान में सोनोग्राफी सेंटर्स का होगा नियमित और औचक निरीक्षण, भ्रूण लिंग जांच को अभियान बनाकर आमजन को जागरूक किया जाएगा

चिकित्सा मंत्री ने ली पीसीपीएनडीटी की बैठक, दिए जरूरी दिशा निर्देश

अंतरजिला और राज्य स्तर की टीम द्वारा होगा सोनोग्राफी सेंटर्स औचक निरीक्षण

दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के भी दिए गए निर्देश

जयपुर। राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री परसादी लाल मीणा ने प्रदेश में कन्या भ्रूण हत्या और कन्या भ्रूण लिंग जांच के अवैध परीक्षण को रोकने के लिए प्रदेशभर के सोनोग्राफी सेंटर्स का नियमित और औचक निरीक्षण करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि निदेशालय स्तर पर अंतरजिला और प्रदेश स्तर पर कमेटी बनाकर सोनोग्राफी सेंटर्स का औचक निरीक्षण किया जाए ताकि भ्रूण हत्या पर अंकुश लग सके।

मीणा सोमवार को बालिका दिवस पर स्वास्थ्य भवन में आयोजित राज्य पर्यवेक्षण बोर्ड द्वारा आयोजित पीसीपीएनडीटी की बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि डिकॉय ऑपरेशन के दौरान दोषियों पर सख्त कार्रवाई हो ताकि लोगों में डर बना रहे और वे किसी भी भ्रूण लिंग की जांच करने से डरें।

पीसीपीएनडीटी सेल द्वारा प्रदेश में बेहतर कार्य किया जा रहा है। यही वजह है कि प्रदेश का महिला लिंगानुपात जो 2011 में 1000 पुरुषों के मुकाबले 900 था वहीं अब बढ़कर 945 हो गया है। इस अवसर पर उन्होंने प्रदेश भर में पंचायती राज संस्थानों तक वितरण के लिए जागरूकता पोस्टर एवं फोल्डर का विमोचन भी किया।

स्वास्थ्य मंत्री ने प्रदेश के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों तक सोनोग्राफी मशीन की उपलब्धता सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि भ्रूण लिंग जांच की सूचना देने वाले मुखबिर को राशि बढ़ाकर 3 लाख रुपए कर दी गई है। आमजन बिना किसी भय और दबाव के सूचना दे सकता है। उन्होंने इस कानून के प्रति लोगों को जागरूक करने और ज्यादा से ज्यादा ऑपरेशन व प्रभावी मॉनिटरिंग के भी निर्देश दिए। अधिकारियों द्वारा सोनोग्राफी सेंटर्स का निरीक्षण नहीं करने पर कार्रवाई करने के भी निर्देश दिए।

चिकित्सा सचिव आशुतोष एटी पेडणेकर ने सोनोग्राफी सेंटर्स पर सोनोलॉजिस्ट के नियमित प्रशिक्षण देने के भी निर्देश दिए। वर्तमान में प्रदेश की छह मेडिकल कॉलेजों पर ही प्रशिक्षण दिया जा रहा है। आगामी दिनों में प्रशिक्षण सेंटर भी बढ़ाए जाएंगे। उन्होंने सोनोग्राफी सेंटर्स पर मिले डाटा का विश्लेषण कर प्रभावी कार्ययोजना बनाने के भी निर्देश दिए। मिशन निदेशक जितेंद्र कुमार सोनी ने कहा कि विभाग द्वारा कार्य योजना बनाकर व्यापक स्तर पर प्रभावी मॉनिटरिंग की जाएगी। ग्राम पंचायत स्तर तक लोगों को इस कानून के बारे में जागरूक किया जाएगा।

अब तक किए 161 डिकॉय आपरेशन
गौरतलब है कि प्रदेश में वर्तमान में 278 राजकीय एवं 3 हजार 667 निजी सहित कुल 3 हजार 945 सोनोग्राफी केन्द्र पंजीकृत हैं। इनमें से वर्तमान में 2 हजार 253 सोनोग्राफी केन्द्र क्रियाशील हैं। वर्ष 2021 में राज्य एवं जिला स्तर से 2 हजार 246 सोनोग्राफी केन्द्रों का निरीक्षण तथा कुल 6 डिकॉय आपरेशन किये गये हैं। अब तक कुल 161 डिकॉय आपरेशन किये गये हैं। वर्ष 2021 में तीन सहित अब तक 533 सील या सीजर की कार्यवाही सम्पादित की जा चुकी है।

टोल फ्री नंबर 104 या 108 व वाट्सएप नम्बर 9799997795 नंबर पर दें सूचना

कोई भी व्यक्ति भ्रूण लिंग परीक्षण की सूचना या शिकायत टोल फ्री नंबर 104 या 108 व वाट्सएप नम्बर 9799997795 पर सूचना दे सकता है। सूचना पुख्ता होने पर पीसीपीएनडीटी एक्ट के तहत कार्रवाई की जाती है। मुखबिर योजना के तहत सत्य सूचना पर 3 लाख रुपए तक की प्रोत्साहन राशि दिये जाने का प्रावधान है।

Related posts

कुकिंग ऑयल से बनाया जाएगा बॉयोडीजल, कुकिंग ऑयल के लिए 30 रुपए प्रति लीटर खरीद की सिफारिश

admin

न्यूनतम समर्थन मूल्य कानून (MSP Law) नहीं होने के कारण किसान (Farmers) को उठाना पड़ रहा है घाटा: रामपाल जाट

admin

अब राजस्थान में इंजीनियरिंग (engineering) की पढ़ाई होगी हिंदी (hindi) में

admin