Autonomous Governance Minister Shanti Dhariwal inspected the development work of Chambal Riverfront and Circles in Kota, asked to complete all the construction work with quality and timely

स्वायत्त शासन मंत्री (Autonomous Governance Minister) शांति धारीवाल (Shanti Dhariwal) ने कोटा में किया चम्बल रिवरफ्रंट (Chambal Riverfront) और सर्किलों के विकास कार्य का निरीक्षण किया, सभी निर्माण कार्य गुणवत्ता (quality) एवं समय से (timely) पूरे करने को कहा

कोटा जयपुर ताज़ा समाचार




राजस्थान के स्वायत्त शासन मंत्री (Autonomous Governance Minister)  शांति धारीवाल (Shanti Dhariwal) ने रविवार, 23 जनवरी 2022 को कोटा शहर में चम्बल रिवरफ्रंट(Chambal Riverfront), विवेकानन्द सर्किल एवं कलक्ट्रेट सर्किल का निरीक्षण किया। सभी कार्यों को गुणवत्ता से समय पर पूरा कराने तथा चम्बल रिवरफ्रंट पर पत्थर लगाने के कार्य में देरी पर संवेदक पर जुर्माना लगाने के निर्देश दिये।

सीबी गार्डन से निरीक्षण की शुरूआत करते हुए उन्होंने गार्डन में खुशबूदार फूलों के पौधे लगाने एवं प्राकृतिक माहौल के बीच खूबसूरत सेल्फी प्वाइंट बनाने के प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिये। रिवरफ्रंट बावड़ी का निरीक्षण कर उन्होंने कहा कि भव्यता से निर्माण कार्य करते हुए मार्च तक समय से (timely) कार्य पूर्ण करना सुनिश्चित करें। 

नाव में बैठकर निहारा परिकल्पना का रिवरफ्रंट 

धारीवाल ने चम्बल रिवर फ्रंट की परिकल्पना के विकास कार्य को नाव में बैठकर निहारा। सभी घाटों का निरीक्षण कर उन्होंने नदी में पानी छोड़े जाने के समय रिवरफ्रंट की संभावित ऊंचाई तक पानी पहुंचने को देखते हुए सभी कार्यों की गुणवत्ता की नियमित मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि चंबल रिवरफ्रंट कोटा को विश्वव्यापी पहचान दिलाकर आने वाले समय में हाड़ौती में पर्यटन के नये द्वार खोलेगा। इससे रोजगार के भी बड़े अवसर मिलने के साथ देशी-विदेशी पर्यटकों में कोटा की रियासतकालीन के साथ आधुनिक शहर की नई पहचान बनेगी। 

स्वायत्त शासन मंत्री ने चम्बल रिवर फ्रंट के विभिन्न घाटों पर बंशी पहाड़पुर, मंडाना, संगमरमर के पत्थर लगाने के कार्य में देरी पर नाराजगी व्यक्त करते हुए यूआईटी सचिव श्री राजेश जोशी को संवेदक के खिलाफ जुर्माना लगाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि अभियंता नियमित रूप से मॉनिटरिंग करते हुए समय पर कार्य पूरा नहीं करने वाले संवेदक के खिलाफ जुर्माना लगाना सुनिश्चित करें। 

विवेकानन्द के चारों दृष्टिकोण दिखाई दें 

धारीवाल ने विवेकानन्द सर्किल के सौन्दर्यकरण कार्य का निरीक्षण करते हुए कहा कि सर्किल पर विवेकानन्दजी के जीवन के चारों दृष्टिकोण दिखाई दें। इसके लिए चारों दिशाओं में अलग-अलग संदेश देती चार प्रतिमाएं लगाई जाएगी। शिकागो में भाषण से लेकर वैराग्य तक का जीवन प्रतिमाओं में दर्शाई जाएगा। उन्होंने सर्किल पर पत्थर नक्काशी कार्य एवं पत्थर के कलर के  सम्बन्ध में भी निर्देश प्रदान कर समय पर कार्य पूरा करने की बात कही। उन्होंने सर्किल के एक तरफ छतरियों के पास कैक्टस के पौधे लगाने, रेलिंग की ऊंचाई 1.05 मीटर रखने के निर्देश दिये ताकि लोग अतिक्रमण नहीं कर सकें। उन्होंने सर्किल के चारों मार्गों पर निजी भवनों के फसाड कार्य एवं नाला व फुटपाथ निर्माण कार्य की प्रगति की जानकारी लेकर कुछ अन्य भवनों पर भी फसाड़ कार्य करवाने एवं फुटपाथ की ऊंचाई समान रखने के निर्देश दिये। 

कलेक्ट्रेट सर्किल पर राजपथ की तरह लगेगी रेलिंग

कलक्ट्रेट सर्किल के सौन्दर्यकरण कार्य का निरीक्षण कर धारीवाल ने मुख्य सर्किल पर 1857 के शहीदों की स्मृति में लगे शिलालेख की ऊंचाई 2 से 3 फीट बढ़ाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि सम्पूर्ण कार्य को निर्धारित समयावधि में गुणवत्ता के साथ पूरा किया जाए तथा चारों मार्गों पर नये बनाये गये फुटपाथ पर राजपथ की तरह रेलिंग लगाकर भव्यता प्रदान की जाये। उन्होंने कलक्ट्रेट की दीवार की तरफ सभी दुकानों पर फसाड़ कार्य को एकरूपता देने तथा अतिक्रमण हटाने के निर्देश दिये जिससे पर्यटक निहार सकें। उन्होंने अम्बेडकर प्रतिमा की ओर भी सौन्दर्यकरण के सम्बन्ध में निर्देश प्रदान किये। इस दौरान जिला कलक्टर हरिमोहन मीणा, यूआईटी के पूर्व अध्यक्ष रवीन्द्र त्यागी, नगर विकास न्यास के विशेषाधिकारी आरडी मीणा, नगर विकास न्यास सचिव राजेश जोशी सहित नगर विकास न्यास के अभियंता उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.