logo for clear news

राजस्थान वित्त निगम के प्रबंधक का गजब वित्तीय प्रबंधन, आय से 758 प्रतिशत अधिक निकली परिसंपत्तियां

जयपुर

जयपुर। राजस्थान वित्त निगम के एक प्रबंधन ने ऐसा गजब का वित्तीय प्रबंधन कर रखा था कि एसीबी के अधिकारियों की आंख खुली की खुली रह गई। इस प्रबंधक की आय से 758 प्रतिशत अधिक परिसंपत्तियों का खुलासा एसीबी ने किया है। प्रबंधक के आवासीय मकान से एसीबी ने 70 से अधिक आवासीय-वाणिज्यिक भूखंडों के दस्तावेज बरामद किए हैं।

एसीबी के महानिदेशक बीएल सोनी ने बताया कि इंटेलिजेंस शाखा की ओर से दी गई सूचना के आधार पर शनिवार को एसीबी की विभिन्न टीमों द्वारा किशनगढ़, अजमेर में राजस्थान वित्त निगम के प्रबंधक कैलाश चंद्र बुनकर के घर व अन्य विभिन्न ठिकानों पर तलाशी अभियान चलाया गया। ब्यूरो की प्रथम सूचना रिपोर्ट के प्रारंभिक आंकलन के अनुसार बुनकर द्वारा 6.50 करोड़ रुपए से अधिक की परिसंपत्तियां अर्जित करने का अनुमान है, जो इनकी वैद्य आय से 758 प्रतिशत अधिक है।

तलाशी में हाथ आया खजाना
.बुनकर द्वारा अपनी अवैध आय को जयपुर, सीकर, चौमूं, अलवर, बहरोड, नीमराणा, शाहपुरा, सांभर, फुलेरा, अचरोल में कई आवासीय, व्यावसायिक, औद्योगिक भूखंडों और कृषि भूमि में स्वयं के तथा बेनामी नामों से निवेश किया है।

.बुनकर के मुरलीपुरा स्थित आवासीय मकान से तलाशी में ब्यूरो को 70 से अधिक आवासीय, व्यावसायिक, औद्योगिक, फैक्ट्री, धर्मकांटे के संचालन व कई अन्य निवेश के दस्तावेज बरामद किए गए।

.बुनकर के विभिन्न बैंकों में 15 बैंक खाते, 64 लाख रुपए की 30 एफडीआर, एलआईसी पॉलिसियों के दस्तावेज भी बरामद किए गए।

.जयपुर के मुरलीपुरा में पत्नि के नाम ज्वैलरी शोरूम जिसमें 670 ग्राम सोना और 6.5 किलो चांदी, 5.30 लाख कीमत की आर्टिफीशियल ज्वैलरी और 12.32 लाख रुपए कीमती वस्त्र परिधान बरामद किए गए।

.तलाशी के दौरान दो बैंक लॉकर होना भी पाया गया, जिनका सर्च किया जा रहा है।

सोनी ने बताया कि सूचना का सत्यापन कराने के बाद कैलाशचंद्र बुनकर के पास आय से अधिक परिसंपत्तियों का मामला बनता पाए जाने पर प्रकरण दर्ज किया गया और इसके बाद अनुसंधान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अधिकारी वंदना भाटी के नेतृत्व में जयपुर-अजमेर चौकियों के सहयोग से टीमें गठित कर बुनकर के तीन ठिकानों की तलाशी ली गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.