जयपुर

वाणिज्यिक कर विभाग ने ई-इनवॉइस के अभाव में वसूले 70 लाख रुपए

ई-इनवॉइस के आधार पर राज्य का पहला प्रकरण

जयपुर। वाणिज्यिक कर विभाग के आयुक्त रवि जैन के निर्देश पर गठित टीम द्वारा कर चोरी रोकने से सम्बन्धित एक बड़ी कार्यवाही को अंजाम दिया गया है। कार्यवाही में Eway bill Data Analysis के आधार पर RFID (Radio frequency identification) द्वारा वाहन को ट्रेस कर E-invoicing के अभाव में निरूद्ध किया गया। इस वाहन में कॉपर महाराष्ट्र से राजस्थान लाया जा रहा था। इस कार्यवाही से 70 लाख रुपए का राजस्व (जीएसटी पेनल्टी) वसूल कर राजकोष में जमा करवाया गया है।

उल्लेखनीय है कि E-invoicing के आधार पर बनाया गया राज्य का यह पहला प्रकरण है। वाणिज्यिक कर आयुक्त जैन ने भविष्य में भी इसी प्रकार कर चोरी करने वालों पर कड़ी कार्यवाही के निर्देश दिये।

कार्यवाही हेतु गठित विशेष टीम में अतिरिक्त आयुक्त (प्रथम) जयपुर संभाग हरफूल यादव, सहायक आयुक्त मीनाक्षी जैदी, उदयभान मीना एवं उमेश सोनी ने कार्यवाही को अंजाम दिया। इससे पूर्व टीम ने जीएसटीएन के डेटा की बारीकी से जांच की और इसे अत्यंत गोपनीय रखा।

वाणिज्यिक कर आयुक्त ने E-invoicing के बिना माल परिवहन करने वाले डीलर्स द्वारा कर चोरी की भविष्य में रोकथाम के लिए अधिकारियों निर्देश दिये।

Related posts

राजस्थान में भूमि विकास बैंकों (land development bank) से ऋण (loan) लेने वाले किसानों (farmers) को मिलेगा 5 प्रतिशत अनुदान (subsidy), प्रभावी ब्याज दर रहेगी 5 प्रतिशत

admin

राजस्थान नगरपालिका सेवा नियमों (Service Rules) में नियुक्तियों (appointments) को लेकर संशोधन (Amendment)

admin

राजस्थानः सामाजिक सुरक्षा पेंशन के नवीन ऑनलाइन आवेदन के लिए मोबाइल एप लांच, कभी भी कहीं से भी किया जा सकता है आवेदन

Clearnews