जयपुर

588 करोड़ की लागत के आईपीडी टॉवर के शिलान्यास से राजस्थान के चिकित्सा क्षेत्र में हुई नई शुरूआत-गहलोत

राजस्थान सरकार जल्द लाएगी राइट टू हैल्थ कानून

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं का ढ़ांचा सूदृढ बनाने की दिशा में पूरी प्रतिबद्धता के साथ काम कर रही है। मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के माध्यम से लोगों को 10 लाख रूपए तक निःशुल्क इलाज उपलब्ध करवाकर प्रदेश के हर परिवार की स्वास्थ्य सुरक्षा सुनिश्चित की गई है। योजना में शामिल परिवारों को 5 लाख रूपए तक का दुर्घटना बीमा भी दिया जा रहा है। प्रदेश के सभी सरकारी अस्पतालों में 1 अप्रेल से ओपीडी एवं आईपीडी सुविधाएं निःशुल्क उपलब्ध कराई जा रही हैं। केन्द्र सरकार भी इस दिशा में विचार कर देश के सभी सरकारी चिकित्सालयों में स्वास्थ्य सेवाएं पूरी तरह निशुल्क उपलब्ध कराए ताकि लोगों को सामाजिक सुरक्षा मिल सके।

गहलोत मंगलवार को सवाई मानसिंह अस्पताल परिसर में 588 करोड़ की लागत से बनने वाले आईपीडी टॉवर एवं हृदय रोग संस्थान के शिलान्यास के बाद आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अत्याधुनिक मेडिकल सुविधाओं से युक्त इस आईपीडी टॉवर के शिलान्यास के साथ ही चिकित्सा के क्षेत्र में राजस्थान में आज नई शुरूआत हुई है। राज्य सरकार का मकसद है कि प्रदेश के हर गांव-ढ़ाणी तक स्वास्थ्य सेवाएं पहुंचाई जाएं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार जल्द ही राइट टू हैल्थ कानून लाकर सभी को स्वास्थ्य का अधिकार प्रदान करेगी। राज्य सरकार स्कूली बच्चों को प्राथमिक स्तर से ही स्वास्थ्य संबंधी शिक्षा उपलब्ध कराने की दिशा में प्रयास कर रही है। इस संबंध में शिक्षा विभाग द्वारा ड्राफ्ट तैयार किया जा रहा है।

नगरीय विकास एवं आवासन मंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि आईपीडी टॉवर के शिलान्यास के साथ आज एक नए युग की शुरूआत हुई है। प्रदेश में विश्व स्तरीय मेडिकल इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार होने से मेडिकल टूरिज्म को बढ़ावा मिलेगा और राजस्थान स्वास्थ्य के क्षेत्र में अग्रणी राज्य बनेगा। 116 मीटर ऊंचे इस टॉवर पर हैलीपेड भी होगा। टॉवर बनने से एक साथ 1200 बैड की सुविधा बढ़ेगी।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री परसादी लाल मीणा ने कहा कि देश में अपनी तरह का यह पहला टॉवर है जहां अत्याधुनिक सुविधाएं उपलब्ध होंगी। एसएमएस अस्पताल में आउटडोर मरीजों की संख्या प्रतिदिन करीब 15 हजार है। ऎसे में यह टॉवर बनने बाद इलाज के लिए एसएमएस आने वाले मरीजों को राहत मिलेगी और उन्हें समस्त सुविधाएं एक बिल्डिंग में उपलब्ध होंगी।

राजस्थान की यह पहल अन्य राज्यों के लिए अनुकरणीय

नारायणा हैल्थ के चैयरमेन डॉ. देवी प्रसाद शेट्टी ने कहा कि हैल्थकेयर में नर्सिंग कर्मियों की महत्वपूर्ण भूमिका है और विकसित देशों में उनकी बड़ी मांग रहती है। इसे देखते हुए हमें कुशल चिकित्सकों के साथ-साथ अधिक से अधिक प्रशिक्षित नर्सिंग कर्मियों को भी तैयार करना होगा।

मेदान्ता हार्ट इंस्टीट्यूट के सीएमडी डॉ. नरेश त्रेहन ने कहा कि एसएमएस अस्पताल में प्रतिमाह करीब 700 एंजियोप्लास्टी होना दर्शाता है कि यह अस्पताल कितनी बड़ी संख्या में हदय रोगियों की स्वास्थ्य संबंधी जरूरतों को पूरा कर रहा है। हदय रोग संस्थान के बनने के बाद देश के अन्य राज्यों से भी लोग यहां हार्ट सर्जरी कराने आएंगे।

विश्व स्तरीय स्वास्थ्य सेवाओं की परिकल्पना से मिलेगा लाभ
नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने कहा कि आज का दिन देश और राजस्थान की स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में स्वर्णिम अक्षरों में लिखा जाएगा। इससे एसएमएस अस्पताल की नई एवं अत्याधुनिक छवि दुनिया को दिखाई देगी और यह हॉस्पीटल मेडिकल सेक्टर में नवाचारों, टेली मेडिसिन, अनुसंधान, नर्सिंग एजुकेशन की कर्मभूमि के रूप में विकसित होगा।

एम्स दिल्ली के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि हैल्थ सेक्टर में किसी भी राज्य द्वारा की गई यह अभूतपूर्व पहल है। कोरोना महामारी के कारण बीते दो साल पूरी दुनिया के लिए चुनौतीपूर्ण रहे हैं। ऎसे में आवश्यक है कि स्वास्थ्य सेवाओं में निवेश को बढ़ावा मिले और आईपीडी टावर तथा हदय रोग संस्थान का शिलान्यास इसी दिशा में महत्वाकांक्षी प्रयास हैं।
आईएलबीएस, नई दिल्ली के वीसी एवं प्रसिद्ध लिवर रोग विशेषज्ञ डॉ एस के सरीन ने कहा कि हमें समर्पित भाव से कार्य करने वाले चिकित्सक तैयार करने होंगे। उन्होंने चिरंजीवी स्वास्थ्य योजना के साथ 5 लाख का निशुल्क दुर्घटना बीमा शुरू करने के लिए राज्य सरकार की सराहना की।

Related posts

कांग्रेस बनाएगी 50 लाख डिजिटल सदस्य, सदस्यता के लिए विधायकों के चिंतन शिविर में होगा मंथन

admin

अधिकारियों को बताएंगे संक्रमण से बचाव के उपाय

admin

14 वर्षीय बालिका (14 Years old Girl) से दुष्कर्म मामले में चार आरोपी (4 Accused) गिरफ्तार (Arrest)

admin