7 vaan raashtreey haathakaragha divasah: vishesh avasar par haathakaragha vastron (handloom clothes) kee bhavy sel, 25 pratishat kee milegee vishesh chhoot (special discount)

7वां राष्ट्रीय हाथकरघा दिवसः विशेष अवसर पर हाथकरघा वस्त्रों (handloom clothes) की भव्य सेल, 25 प्रतिशत की मिलेगी विशेष छूट (special discount)

जयपुर
राष्ट्रीय हाथकरघा दिवस (National Handlooms Day) के मौके पर राजस्थान राज्य हाथकरघा विकास निगम (आरएचडीसी) हाथकरघा वस्त्रों (handloom clothes) की सेल का आयोजन कर रहा है। आमजन को हाथकरघा उत्पादों से जोड़ने के लिए आयोजित इस सेल में 25 प्रतिशत की विशेष छूट (special discount)  दी जाएगी। एक सप्ताह चलने वाली यह सेल राष्ट्रीय हाथकरघा दिवस, 7 अगस्त से आरंभ होकर 14 अगस्त तक जारी रहेगी।

आयोजकों ने बताया कि चौमू हाऊस और इंदिरा बाजार, जयपुर, बस स्टैण्ड के सामने स्थित दुकान नं. 4, अलवर, महाराजा टॉकिज के पास दुकान नं. 17, भीलवाड़ा, दुकान नं. 35, सेवाश्रम चौराहा, उदयपुर,  7वीं पाल रोड, जोधपुर, छोटा तालाब के पास, जेपी मार्केट, कोटा और उद्योग केंद्र स्थित राणी बाजार, बीकानेर स्थित आरएचडीसी की इकाईयों पर आयोजित सेल में कोटा डोरिया प्रिंटेड साड़ियां, दूपट्टे, जेन्टस कुर्ते, प्लाजो, अजरक प्रिंटेड बेडशीट्स, ब्लॉक प्रिंटेड ड्रेस मटेरियल्स, बगरु और सांगानेरी प्रिंट आकर्षण का केंद्र होंगे। फेस्टिवल सीजन को देखते हुए राष्ट्रीय और राज्य स्तरीय पुरस्कार प्राप्त बुनकरों की बनाई नई साड़ियों का स्टॉक भी उपलब्ध रहेगा।

वहीं, राजस्थान राज्य बुनकर सहकारी संघ ने भी हाथकरघा उत्पादों पर पहले से दी जा रही 10 प्रतिशत छूट के साथ ही इस अवसर पर 10 प्रतिशत की अतिरिक्त छूट देने का ऐलान किया है। अजमेरी गेट, पांच बत्ती और लक्ष्मी मंदिर सिनेमा के सामने हैंडलूम भवन, जयपुर, होप सर्कस, अलवर, सर्किट हाउस के पीछे, डीएसएम, बाड़मेर, सत्यम कॉम्पलेक्स, आरके नगर, भीलवाड़ा, कुरियन दरवाजे के पास, डूंगरपुर, रेलवे स्टेशन के पास स्थित राजीव गांधी सहकार भवन, जोधपुर, उम्मेद मील के पास स्थित सुपर मार्केट, पाली, बजरिया स्थित बगड़िया चेरिटेबल ट्रस्ट, सवाई माधोपुर और लिंक रोड़ पर नगर परिषद के पास, उदयपुर बिक्री केंद्रो पर इस छूट का लाभ लिया जा सकता है। इस अवसर पर संघ के जयपुर स्थित उत्पादन और बिक्री केंद्रो पर विशेष कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

उद्योग आयुक्त अर्चना सिंह ने कहा कि कोटा डोरिया, पट्टू, केश, रेजा, लट्ठा, बरड़ी जैसे हाथकरघा उत्पाद राज्य की विभिन्न परम्पराओं से जुड़े हैं, इनकी विदेशों में मांग बढ़ रही है। लेकिन, स्थानीय लोग भी इनसे अधिक से अधिक जुड़ें, इसके लिए राष्ट्रीय हाथकरघा दिवस के अवसर पर यह छूट दी जा रही है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *