yoga for humanity

आर्ट ऑफ लिविंग छठे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को मनाने के लिए पूरी तरह से तैयार

जयपुर स्वास्थ्य

जयपुर । आर्ट ऑफ लिविंग छठे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को मनाने के लिए पूरी तरह से तैयार है, जिसमें 156 देशों में संस्था के 20000 प्रशिक्षकों के साथ लाखों लोग भाग लेकर इस प्राचीन अभ्यास का उत्सव मनाएंगे और सामान्य योग प्रोटोकॉल के आधार पर योग करेंगे। सभी कार्यक्रम ऑनलाइन वेबिनार के रूप में होंगे. इस के दौरान वे सूर्य नमस्कार करेंगे, जिसके लिए प्रतिभागियों को कार्यक्रम के दौरान प्रशिक्षण दिया जाएगा।

इसके बाद वैश्विक आध्यात्मिक नेतृत्व कर्ता गुरूदेव श्री श्री रविशंकर शांति और सामंजस्य के लिए वर्ल्ड मेडिटेशन कराएंगे। 21 जून को शाम 6 – 8 बजे इस आयोजन का सीधा प्रसारण यू ट्यूब पेज You Tube.com/Sri Sri पर किया जाएगा।

जयपुर से भी अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर विशेष कार्यक्रम का संचालन वेबिनार के रूप में संस्था के वरिष्ठ प्रशिक्षक संजीव तुलस्यान एवं संस्था के योग प्रशिक्षकों द्वारा प्रातः 7 से 8.30 बजे किया जायेगा जिसमें निःशुल्क https://bit.ly/3e82vew पर ऑनलाइन जुड़ा जा सकता है। कार्यक्रम के दौरान आयुष मंत्रालय के योग प्रोटोकॉल के अनुसार योग, प्राणायाम, ध्यान साधना के साथ ही सूर्य नमस्कार प्रतिस्पर्धा पूर्ण करने पर प्रतिभागियों को ऑनलाइन सर्टिफिकेट भी दिए जायेंगे। कार्यक्रम वेबिनार को होस्ट राजेश कालानी फाउंडेशन के सुरेश कालानी करेंगे जिसमें प्रादेशिक स्तर पर सैंकड़ों लोगों सहित उत्तर प्रदेश से लायंस क्लब डिस्ट्रिक्ट 321 बी 2 एवं एक नई आशा संस्था, जयपुर फिटनेस क्लब के लोग भी जुड़ेंगे।

योग उत्साही चिंता और तनाव को दूर करने में योग की प्रभावशीलता का लोहा मानते हैं, जो लॉक डाउन में जीवन पर दो सर्वव्यापी अभिशाप हैं। योग हमारे दैनिक जीवन में अनुभव किए जाने वाली नकारात्मक भावनाओं को प्रसन्नता, स्थिरता एवम् शांति में परिवर्तित कर देता है। जीवनशैली की अव्यवस्थाओं, जिनकी जड़ें तनाव, थकान, आराम पसंद व गलत जीवनशैली में हैं, को संभालने के लिए योग समय – समय पर परीक्षित की गयी औषधि है।

गुरुदेव श्री श्री रविशंकर योग के विज्ञान और केवल शारीरिक रूप से किए जाने वाले आसनों के बीच अंतर को बताते हुए कहते हैं,” मनुष्य के सम्पूर्ण सामर्थ्य का उदय होना ही योग है। दुख को आने से पहले ही रोक देना योग है। योग वह लहर है जो अपनी गहराई से जुड़ी है। यह हमें प्रसन्नता के स्रोत की ओर ले जाता है, जो मानवजाति की सर्वश्रेष्ठ संपत्ति है। संपत्ति का उद्देश्य प्रसन्नता एवम् विश्राम प्रदान करना है और योग सम्पूर्ण विश्राम प्रदान करता है।”

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस तक जाते हुए आर्ट ऑफ़ लिविंग ने योग से संबंधित विषयों पर योग विशेषज्ञों के साथ विशेष लाइव इंटरैक्शन / वेबिनार की मेजबानी की, आज की दुनिया में योग और आध्यात्मिकता की आवश्यकता है, जिसमें पूरे दिन भक्ति योग, कर्म योग, योग आहार शामिल हैं।