अयोध्याधर्म

पीएम मोदी राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में शामिल होंगे: बोले- ये मेरा सौभाग्य है, अयोध्या में 22 जनवरी को कार्यक्रम

अयोध्या में राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शामिल होंगे। बुधवार को श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्यों चंपत राय, नृपेन्द्र मिश्रा और उडीपी के शंकराचार्य गोविंद गिरी महाराज ने पीएम मोदी से मुलाकात करके उन्हें निमंत्रण दिया, जिसे पीएम ने स्वीकार कर लिया और कार्यक्रम में आने की हामी भर दी।
चंपत राय ने एक्स पर वीडियो भी पोस्ट किया है। उन्होंने बताया कि 22 जनवरी 2024 को दोपहर 12.30 बजे राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम होगा। भगवान श्री रामलला सरकार के नूतन विग्रह की प्राण प्रतिष्ठा के ऐतिहासिक अवसर पर देश के 4000 संत-महात्मा एवं समाज के 2500 प्रतिष्ठित महानुभाव उपस्थित रहेंगे। प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ मोहन भागवत और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी उपस्थित रहेंगे।
पीएम का एक्स पर पोस्ट- आज का दिन भावनाओं से भरा
पीएम मोदी ने एक्स पर लिखा- ‘जय सियाराम! आज का दिन बहुत भावनाओं से भरा हुआ है। अभी श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के पदाधिकारी मुझसे मेरे निवास स्थान पर मिलने आए थे। उन्होंने मुझे श्रीराम मंदिर में प्राण-प्रतिष्ठा के अवसर पर अयोध्या आने के लिए निमंत्रित किया है। मैं खुद को बहुत धन्य महसूस कर रहा हूं। ये मेरा सौभाग्य है कि अपने जीवनकाल में, मैं इस ऐतिहासिक अवसर का साक्षी बनूंगा।’
10 दिन चलेगा उत्सव कार्यक्रम
राम मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष और प्रधानमंत्री के पूर्व प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्रा ने पहले ही बताया था कि अयोध्या राम मंदिर में रामलला की प्राण-प्रतिष्ठा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मौजूद रहेंगे। प्राण-प्रतिष्ठा की जिम्मेदारी साधु-संत निभाएंगे। उत्सव कार्यक्रम 10 दिन चलेगा। उन्होंने बताया कि मंदिर बनने के बाद एक से डेढ़ लाख भक्त हर दिन भगवान राम के दर्शन कर सकेंगे। हर भक्त को गर्भगृह में भगवान के दर्शन के लिए 20 से 30 सेकेंड का समय मिलेगा।
अपने गांव-घर में मनाएं प्राण प्रतिष्ठा समारोह
नृपेंद्र मिश्रा ने लोगों से अपील की है कि वे उस दिन अयोध्या न आएं और अपने घर-गांव में ही पूजा करें। लोग अपने गांव में, शहर में, घरों में प्राण प्रतिष्ठा का उत्सव मनाएं। प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम का टीवी पर प्रसारण भी होगा। ट्रस्ट का कहना है कि 22 जनवरी, 2024 को अयोध्या में भारी भीड़ होने की संभावना है, जिससे सुरक्षा और सुविधाओं में दिक्कतें आ सकती हैं।
तीन चरणों में पूरा होगा मंदिर का निर्माण
नृपेंद्र मिश्रा के अनुसार मंदिर का निर्माण 5 अगस्त 2020 या उससे भी 2 या 3 महीने पहले से चल रहा है। यह कार्य तीन चरणों में पूरा होगा-
पहला- दिसंबर 2023 में पूरा होगा। इसमें ग्राउंड फ्लोर का निर्माण होगा और वहां भगवान स्थापित हो जाएंगे।
दूसरा- इसमें मंदिर निर्माण पूरा होगा। इसे दिसंबर 2024 तक कर लिया जाएगा।
तीसरा और आखिरी चरण- दिसंबर 2025 में पूरा होगा। इसमें पूरे मंदिर परिसर का निर्माण होना है, जिसमें अन्य महत्वपूर्ण भवन और मंदिर भी शामिल हैं।
मंदिर में बनेगा राम और रामायण का संग्रहालय
नृपेंद्र मिश्रा ने बताया, मंदिर में भगवान राम और रामायण का संग्रहालय बनना है। पहले हमें 71 एकड़ के परिसर में ही निर्माण करना था। लेकिन, 71 एकड़ के बाहर यूपी सरकार का रामायण संग्रहालय है। हमने यूपी सरकार से अनुरोध किया कि वो पूरा-पूरा संग्रहालय यथावत ट्रस्ट को ट्रांसफर कर दें। अतिशीघ्र ट्रस्ट और यूपी सरकार के बीच संग्रहालय के ट्रांसफर का एग्रीमेंट होगा।
मार्च 2024 तक अयोध्या में 1 करोड़ भक्तों के आने की संभावना
विश्व हिंदू परिषद के प्रचार-प्रसार प्रमुख सुरेंद्र जैन ने बताया कि 15 जनवरी से लेकर मार्च, 2024 तक एक करोड़ श्रद्धालु अयोध्या में रामलला के दर्शन के लिए पहुंच सकते हैं। यह संख्या और बढ़ सकती है, जिसके 5 करोड़ तक पहुंचने का अनुमान लगाया जा रहा है।
एक किलो सोने का सिंहासन भगवान को सौपेंगे
कांची शंकराचार्य स्वामी जयेंद्र सरस्वती के शिष्य और आंध्र प्रदेश के श्रद्धालु सी श्रीनिवासन 15 जनवरी 2024 को रामलला के लिए एक किलो वजन का सोने का सिंहासन सौपेंगे। इसके साथ ही वे 8 किलो चांदी की चरण पादुका भी भगवान की सेवा में समर्पित करेंगे। चरण पादुकाओं में 10 उंगलियों के स्थान पर माणिक्य लगे हैं। चरण पादुकाओं पर गदा, कमल, स्वास्तिक, सूर्य और चंद्रमा भगवान श्रीराम से जुड़े धार्मिक चिन्ह बने हुए हैं। इन पादुकाओं का प्रमोदवन स्थित मीनाक्षी मंदिर में बहुत ही विधान पूर्वक पूजन किया गया। इन चरण पादुकाओं को लेकर श्रीनिवासन ने 40 दिनों तक अयोध्या के नंदीग्राम, भरत कुंड और सूर्य कुंड आदि स्थानों का दर्शन-पूजन किया।
2000 किलोमीटर पदयात्रा कर पहुंचेगी चरण पादुका यात्रा
अयोध्या में 84 कोसी परिक्रमा के अंतर्गत पढ़ने वाले सभी धार्मिक स्थलों पर चरण पादुका का पूजन किया गया। पूजन के बाद चरण पादुका को लेकर वे बुधवार को रवाना हो गए। 26 अक्टूबर को 200 राम भक्तों के साथ चरण पादुका को लेकर वे कर्नाटक से यात्रा आरंभ करेंगे। 2000 किलोमीटर पदयात्रा कर 15 जनवरी को अयोध्या पहुंचेंगे।

Related posts

Rajasthan: मंगलवार को 110 वरिष्ठ नागरिक हवाई यात्रा से हुए रवाना,अब तक 1187 वरिष्ठ नागरिकों ने पशुपतिनाथ मंदिर के दर्शन किये

Clearnews

ज्ञानवापी विवाद: ट्रेजरी से तहखाने में लाई गईं एएसआई सर्वे में मिली 8 खंडित मूर्तियां

Clearnews

अयोध्या के राम मंदिर में रखी जायेगी सोने की अनोखी रामायण, MP कैडर के आईपीएस ने की अनमोल भेंट

Clearnews