इसरोहैदराबाद

चंद्रयान-3 ने बना दिया विश्व कीर्तिमान, असली खेला अभी बाकी है !

चंद्रयान-3 मिशन की सफलता से भारत के युवाओं का उत्साह बढ़ेगा और इससे अन्य देशों के साथ-साथ निजी कंपनियों को भी अवसर मिलेगा। इसरो और नासा के बीच हुए आर्टेमिस समझौते से भारत को अंतरिक्ष सहयोग में बढ़ावा मिलेगा। स्पेस एक्सप्लोरेशन के क्षेत्र में चीन के साथ की खाई को पाटने के लिए भी भारत को अंतरराष्ट्रीय सहयोग की आवश्यकता होगी।
चंद्रयान-3 मिशन की सफलता ने भारत को चंद्रमा पर कदम रखने वाले देशों के बहुत एलीट ग्रुप में शामिल कर दिया है। यह पहली बार है जब किसी ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुवीय क्षेत्र में नियंत्रित लैंडिंग की है। विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर से जो भी वैज्ञानिक डेटा मिलेगा, उसका सबसे बड़ा योगदान यह होगा कि स्पेस एक्सप्लोरेशन के प्रति भारतीय युवाओं का उत्साह बढ़ेगा। यह सफलता पहले की असफलताओं की एक श्रृंखला के बाद हाथ लगी है। इनमें भारत का अपना चंद्रयान-2 भी शामिल है, जिसका लैंडर चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। हाल ही में, रूस का लूना-25 चंद्रमा के उसी धु्रवीय क्षेत्र में पहुंचने की कोशिश में 19 अगस्त को हादसे का शिकार हुआ था।
पहले भी फेल हो चुके हैं अभियान
यदि लूना-25 की उत्पत्ति शीत युद्ध युग के अंतरिक्ष दौड़ में हुई थी, तो दो अन्य हालिया विफलताएं कुछ नई बातों की तरफ इशारा कर रही हैं। 2019 में इजरायल के गैर-लाभकारी संगठन स्पेसआईएल द्वारा फंडेड बेरेशीट लैंडर और अप्रैल 2023 में जापानी कंपनी हकुतो-आर का मिशन भी हादसे की भेंट ही चढ़े थे। उल्लेखनीय है कि बेरेशीट और हकुतो-आर, दोनों को मिशनों को अमेरिकी उद्योगपति एलन मस्क की कंपनी स्पेस एक्स ने लॉन्च किया था। जल्द ही, और भी मिशन चंद्रमा की ओर बढ़ रहे हैं।
इंसान की चंद्रमा में नए सिरे से जगी रूचि
नए खिलाड़ियों और नए उद्देश्यों, दोनों से प्रेरित हैं। नए दिग्गजों में भारत और चीन जैसे प्रमुख देशों के साथ-साथ प्राइवेट कंपनियां और छोटे राज्य भी शामिल हैं। चीन ने चांगई-4 और चांगई-5 की चंद्रमा पर सफल सॉफ्ट लैंडिंग कराई है। अब सबका लक्ष्य चंद्रमा पर इंसानी मौजूदगी कायम रखना है।
रूस-अमेरिका की बरसों पुरानी होड़
चंद्रमा अंतरराष्ट्रीय संबंधों में छह दशकों से अधिक समय से एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। चंद्रमा पर राजनीति का युग सोवियत संघ द्वारा 1957 में पहले सैटलाइट स्पुतनिक के प्रक्षेपण के तुरंत बाद शुरू हुआ। इस विकास से घबराकर अमेरिकी अधिकारियों ने कई गुप्त प्रस्ताव तैयार किए। इनमें से एक योजना चंद्रमा पर सैन्य अड्डा बनाने की थी, जिसे प्रॉजेक्ट होराइजन नाम दिया गया था। दुःख की बात है कि योजना के तहत इस अड्डे पर कुछ परमाणु हथियार भी रखे जाने थे।
अमेरिकी वर्चस्व का संकेत अपोलो प्रोग्राम
हालांकि प्रोजेक्ट होराइजन पर कभी काम नहीं हुआ, लेकिन अमेरिका ने अपने प्रयासों को सिविल अपोलो प्रोग्राम में बदल दिया। राष्ट्रपति जॉन एफ कैनेडी ने 1962 के भाषण में वादा किया था कि अमेरिका चंद्रमा पर इंसानों को भेजेगा। हालांकि, उस दिन उनका अधिकांश भाषण विकास के लिए मदद और नाटो की पारंपरिक युद्धक क्षमताओं को बढ़ाने जैसे शीत युद्ध के खास पहलुओं पर केंद्रित था। जो अनकहा रह गया वह कैनेडी के अपोलो के बारे में अनुमान थे कि यह एयरोस्पेस इंडस्ट्री की सेहत दुरुस्त रखेगा, आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देगा और अमेरिकी तकनीकी वर्चस्व का परचम लहराएगा। चंद्रमा भी बस सोवियत संघ के साथ अमेरिका के संघर्ष का एक और मोर्चा बन गया।
आर्टेमिस के साथ नए युग की शुरुआत
अमेरिका ने 2019 में आर्टेमिस प्रोग्राम की शुरुआत की, जिसका उद्देश्य चंद्रमा पर मानव उपस्थिति को बनाए रखना और इसे मंगल ग्रह के मिशनों के लिए एक आधार के रूप में उपयोग करना है। पहली बार चालक दल के साथ वाला आर्टेमिस मिशन का लक्ष्य चंद्रमा पर पहली महिला और अश्वेत व्यक्ति को उतारना है। यह बताता है कि अमेरिका एक समावेशी और बहुत हद तक रूढ़ियों मुक्त समाज है। हालांकि, आर्टेमिस का लक्ष्य छवि निर्माण के इस कार्यक्रम से आगे भी है। यह प्रोग्राम कई प्राइवेट स्पेस कंपनियों के साथ करीबी सहयोग से चल रहा है। यह यूरोपीय संघ और जापान की अंतरिक्ष एजेंसियों सहित एक बहुराष्ट्रीय प्रयास भी है। अंत में, आर्टेमिस का ध्यान प्रैक्टिल लॉजिस्टिक्स पर केंद्रित करता है। इनमें नियोजित चंद्र अंतरिक्ष स्टेशन, नेविगेशन और संचार के लिए चंद्रमा पर आधारित उपग्रह समूह और यूरोपीय लार्ज लॉजिस्टिक लैंडर जैसे बड़े परिवहन अंतरिक्ष यान शामिल हैं।
रूस-चीन की साझेदारी अलग से
रूस और चीन ने 2021 में अंतरराष्ट्रीय चंद्रमा अनुसंधान स्टेशन की योजनाओं का अनावरण किया, जिसका लक्ष्य आर्टेमिस कार्यक्रम के समान है। हालांकि, पश्चिमी दुनिया की तरफ से लादे गए प्रतिबंधों के कारण रूस की क्षमता प्रभावित हुई है, लेकिन चीन ने अपने चंद्र अन्वेषण कार्यक्रम को धीमा नहीं किया है। इस अंतरराष्ट्रीय प्रतिद्वंद्विता में भारत कहां है? यह स्पष्ट है कि अमेरिका और चीन, केनेडी जैसी मान्यताओं को साझा कर रहे हैं। उनका मानना है कि लंबी अवधि में अंतरिक्ष अन्वेषण और चांद पर पांव जमाने के लिहाज से राष्ट्र की ताकत और देश का मनोबल बढ़ेगा जबकि निकट भविष्य में बड़े पैमाने पर अंतरिक्ष कार्यक्रम कई उच्च-प्रौद्योगिकी उद्योगों की प्रतिस्पर्धा को बढ़ाएंगे।
अब भारत की भी धमक
भारत ने इस साल की शुरुआत में अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के साथ आर्टेमिस समझौते पर हस्ताक्षर करके अंतरिक्ष सहयोग को बढ़ावा देने के लिए प्रतीकात्मक रूप से अपनी प्रतिबद्धता व्यक्त की है। भारत को इस समझौते का लाभ उठाना चाहिए और इस बात पर जोर देना चाहिए कि इसरो और निजी अंतरिक्ष उद्योग को अधिक अवसर मिले। आर्टेमिस जैसे कार्यक्रमों को व्यापक सहायता की आवश्यकता होती है। चंद्रमा पर इंसानों को भेजने से पहले अंतरिक्ष एजेंसियां बिना किसी चालक दल के सर्वेक्षण करना चाहेंगी। इसरो को इन मिशनों की मदद करने के लिए कई चंद्रयान जैसे लैंडर लॉन्च करने का खर्च उठाना होगा।
अमेरिकी कंपनी इसरो के संपर्क में
इसरो प्रमुख एस। सोमनाथ ने जून में एक और संभावित सहयोग मॉडल की भी वकालत की थी। उन्होंने खुलासा किया था कि अमेरिकी कंपनी ब्लू ओरिजिन भारतीय एलवीएम-3 चालक दल के कैप्सूल का उपयोग अपने नियोजित निम्न पृथ्वी कक्षा के अंतरिक्ष स्टेशन, ऑर्बिटल रीफ तक लोगों को ले जाने के लिए करना चाहती है।
चीन के साथ की खाई को पाटना होगा
अंतरराष्ट्रीय सहयोग से भारत को अपने चंद्र मिशनों को आगे बढ़ाने की क्षमता भी मिलेगी। इसरो का पहला काम चीन के साथ की खाई को पाटना होगा, जिसने 2020 में चंद्रमा की सतह से नमूने लाने का मिशन पूरा किया था। इसका व्यापक लक्ष्य भारत के निजी क्षेत्र के साथ काम करना होगा, जिससे उनकी अपनी डिजाइन और बौद्धिक संपदा बनाने की क्षमता का विस्तार हो सके। अंतरिक्ष अन्वेषण उच्च आदर्शों को प्रेरित करता है, लेकिन इन्हें पृथ्वी पर हमारे आर्थिक और रणनीतिक वास्तविकताओं से जोड़ा जाना चाहिए।

Related posts

21 छक्के, 33 चौकों के साथ हैदराबादी बल्लेबाज तन्मय अग्रवाल ने ठोका सबसे तेज तिहरा शतक..!

Clearnews

भारत-इंग्लैंड दूसरा टेस्ट मैचः यशस्वी परसों सुबह खेले, शाम को खेले, कल सुबह खेले, शाम को भी खेले और अब आज सुबह भी खेलते दिख रहे हैं..!

Clearnews

Clearnews