कारोबारमुम्बई

क्या टाटा का हो जाएगा हल्दीराम? मालिकाना हक के लिए 51 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने की तैयारी !

हल्दीराम नमकीन आज देश के कोने-कोने में पहुंच चुका है। एक देसी ब्रांड जिसने न सिर्फ अपनी बेहतरीन स्वाद से विदेशी कंपनियों को दिन में तारे दिखाए बल्कि देखते ही देखते एक बड़ा मार्केट कैप हासिल कर लिया है। अब टाटा ग्रुप इस नामचीन नमकीन कंपनी को खरीदने की तैयारी में है। मामले की जानकारी रखने वाले दो लोगों ने कहा कि टाटा समूह की उपभोक्ता इकाई लोकप्रिय स्नैक फूड निर्माता हल्दीराम की कम से कम 51 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने के लिए बातचीत कर रही है। हालांकि, ग्रुप 10 अरब डॉलर करीब (8400 करोड़ रुपये) के मूल्यांकन को लेकर सहज नहीं है।
पेप्सी और मुकेश अंबानी को मिलेगी टक्कर
अगर यह सौदा सफलतापूर्वक संपन्न हो जाता है, तो पेप्सी और अरबपति मुकेश अंबानी की रिलायंस रिटेल को टक्कर मिलेगी। सूत्रों ने बताया कि टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स, जो यूके की चाय कंपनी टेटली का मालिक है और भारत में स्टारबक्स के साथ साझेदारी करता है, हिस्सेदारी खरीदने के लिए बातचीत कर रहा है। संभावित अधिग्रहण टाटा के लिए एक रोमांचक अवसर का प्रतिनिधित्व करता है, व्यक्ति ने कहा, टाटा (उपभोक्ता) को एक चाय कंपनी के रूप में देखा जाता है। हल्दीराम उपभोक्ता क्षेत्र में बहुत बड़ा नाम है और इसकी व्यापक बाजार हिस्सेदारी है।’
टिप्पणी करने से इनकार
टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स के एक प्रवक्ता ने कहा कि वह ‘बाजार की अटकलों पर टिप्पणी नहीं करेंगे’। हल्दीराम के मुख्य कार्यकारी कृष्ण कुमार चुटानी और बेन ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। एक फैमिली द्वारा संचालित हल्दीराम की शुरुआत 1937 में स्थापित एक छोटी सी दुकान से हुई और यह अपने कुरकुरे ‘भुजिया’ स्नैक के लिए प्रसिद्ध है, जो मॉम-एंड-पॉप स्टोर्स पर 10 रुपये से भी कम में बेचा जाता है। यूरोमॉनिटर इंटरनेशनल के अनुसार, भारत के 6.2 अरब डॉलर के नमकीन स्नैक बाजार में इसकी लगभग 13 फीसदी हिस्सेदारी है। लेज चिप्स के लिए मशहूर पेप्सी का भी लगभग 13 फीसदी हिस्सा है।

Related posts

Oranje winorama casino Gokhuis Vermoedelijk

admin

I Paid My Student loans Away from. Here’s Just what Bothers Me personally About You can Forgiveness

admin

Betsofa dr.bet gambling Casino

admin