holika-dehan-is-performed-with-full-traditions

पूरी परम्पराओं का निर्वहन करते हुए धूमधाम के साथ हुआ होलिका दहन

जयपुर

कोरोना संक्रमण के मद्देनजर देश के विभिन्न राज्यों की तरह राजस्थान में होली को लेकर राज्य सरकार की ओर से रोक लगायी गयी थी। शाम 4 बजे से लेकर रात 10 बजे तक सार्वजिनक स्थानों पर 50 से अधिक लोगों के एकत्र होने पर पाबंदी लगाई गयी थी, इसका अर्थ था होलिका दहन के समय सीमित संख्या में ही लोग एकत्र हों। इन हालात में कहीं-कहीं सरकारी आदेश की अनुपालना करते हुए होलिका दहन हुआ तो कहीं-कहीं इन आदेशों की धज्जियां उड़ा दी गयीं।

जयपुर में शाम सात बजे बाद ज्यादातर होलिकाओं का दहन कर दिया गया। लोगों ने शाम को होलिका का पूजन भी किया और सामूहिक रूप से होलिका दहन भी किया गया। होलिका में लोगों ने नये अनाज को भूना और एक दूसरे के गले मिलकर आपस में बधाई भी दी गयी। जयपुर शहर में अनेक स्थान ऐसे रहे जहां रात साढ़े आठ बजे के बाद होलिका दहन किया गया। इसका कारण यह था कि जयपुर की परम्परा के अनुसार सबसे पहली होली जयपुर के पूर्व महाराजा के महल में जलती रही है। इस होली से ली गयी अग्नि से ही अन्य होलिकाओं का दहन होता रहा है। इस बार महाराजा के महल यानी सिटी पैलेस में होली देर से मंगलाई गयी और इस वजह से कुछ होलिकाओं के दहन में समय लग गया।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *