अयोध्याधर्म

अयोध्या के राम मंदिर परिसर की प्रभु श्रीराम की मूर्ति बनाने वाले मुस्लिम मूर्तिकार जमालुद्दीन ने बांटे अपने अनुभव

विभिन्न हिंदू देवताओं की फाइबर मूर्तियां बना रहे मोहम्मद जमालुद्दीन और उनके बेटे बिट्टू प्रसिद्ध राम मंदिर की भव्य मूर्तिया बनाने में लगे हुए हैं जो मंदिर परिसर की शोभा बढ़ाएंगी। पिता-पुत्र की जोड़ी का काम ऑनलाइन ढूँढा गया था, जिसके कारण उन्हें अयोध्या से ये ऑर्डर मिला।
24 परगना जिले में रहने वाले इस मूर्तिकार जमालुद्दीन ने कहा कि हालाँकि मिट्टी की तुलना में फाइबर की मूर्तियां महंगी पड़ती हैं , फिर भी फाइबर उनकी स्थायित्व और मौसम की स्थिति के प्रति प्रतिरोध उन्हें बाहरी स्थान पर अनुकूल विकल्प बनाता है। एक आदमकद फाइबर मूर्ति की कीमत लगभग 2.8 लाख रुपये हो सकती ह।
श्रीराम की मूर्ति बना कर क्या महसूस हुआ
यह पूछे जाने पर कि क्या वह इस काम को लेने के बारे में अनिश्चित थे, जमालुद्दीन ने कहा, “धर्म एक निजी चीज है। हमारे देश में विभिन्न धर्मों के लोग हैं। संदेश सरल है, सांप्रदायिकता के समय में, हम सभी को एक साथ रहना होगा। मैं भगवान राम की मूर्ति बनाकर खुशी महसूस हुई। भाईचारे की यही संस्कृति एक कलाकार के तौर पर मेरा संदेश है। मैंने न केवल राम की, बल्कि मां दुर्गा और जगधात्री की भी विशाल मूर्तियां बनाई हैं, जिन्हें काफी लोकप्रियता भी मिली है।”
उन्होंने गर्व से कहा कि वह वर्षों से विभिन्न हिंदू देवताओं की फाइबर मूर्तियां बना रहे हैं और वे जिस सांस्कृतिक सद्भाव का प्रतिनिधित्व करते हैं, उसे संजोते हैं।
उनके नाम पर कार्यशाला चलाने वाले पुत्र बिट्टू ने बताया कि एक आदमकद प्रतिमा बनाने में 30 से 35 लोगों की टीम और लगभग एक से डेढ़ महीने का समय लगता है। युवा मूर्तिकार ने कहा कि इन मूर्तियों को उत्तर प्रदेश ले जाने में महीने भर से ज्यादा का समय लग सकता है।

Related posts

राम मंदिर में पहले ही दिन रिकॉर्ड चढ़ावा आया, दर्शन के लिए उमड़ रहे भक्त

Clearnews

जन्माष्टमी- ईश्वर में श्रद्धा एवं प्रेम का प्रतीक

admin

Shradh Paksha : 29 सितंबर से शुरू हो रहा है श्राद्ध पक्ष, तिथिवार जानें पितृदेवों के पूजन का विशेष काल

Clearnews