marij ke parijano ki uppasthiti mai hi lagega remdesivir injection

मई में राजस्थान को 365 मीट्रिक टन ऑक्सीजन और प्रतिदिन 10 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन की आवश्यकता

जयपुर

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने दिल्ली दौरे से लौटने के बाद कहा कि ​प्रदेश से गए मंत्री समूह ने कोरोना महामारी की राजस्थान में स्थिति और उसकी प्रदेश की जरुरत के बारे में सबंधित केन्द्रीय मंत्रियों के साथ विस्तार से चर्चा की।

मुख्यमंत्री के निर्देश पर प्रदेश के स्वायत शासन मंत्री शांति धारीवाल, उर्जा मंत्री डॉ बीडी कल्ला और मैंने दिल्ली में सबंधित केन्द्रीय मंत्रियों से कल मुलाकात की थी। प्रदेश से गए मंत्री समूह को केन्द्रीय मंत्रियों ने प्रदेश की जरुरत के अनुसार रेमडेसिविर इंजेक्शन और ऑक्सीजन सप्लाई को लेकर उचित सहयोग का आश्वासन दिया है।

10—12 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन की प्रतिदिन जरुरत होगी

चिकित्सा मंत्री ने कहा कि वर्तमान में आक्सीजन के साथ सबसे अधिक ​मांग रेमडेसिविर इंजेक्शन की जरुरत पड़ रही है। मंत्री समूह ने केन्द्रीय मंत्रियों से ​विशेष मांग की है कि रेमडेसिविर इंजेक्शन का आवंटन राजस्थान के लिए बढ़ाया जाए। आने वाले दिनों में प्रदेश को प्रतिदिन 10 हजार से अधिक रेमडेसिविर इंजेक्शन की आवश्यकता पड़ सकती है इसी के अनुसार केन्द्र की ओर से आवंटन किया जाए। आरएमएससीएल की ओर 1 लाख 75 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए बुकिंग की गई है लेकिन अब तक विभाग को इसकी आपूर्ति नहीं मिली है।

365 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की जरुरत

चिकित्सा मंत्री ने कहा कि केन्द्रीय मंत्रियों को प्रदेश की वर्तमान ऑक्सीजन मांग को लेकर भी पूर्ण जानकारी दी गई। वर्तमान में राजस्थान को 310 मीट्रिक टन से अधिक मेडिकल ऑक्सीजन की जरुरत है। जबकि प्रदेश को बमुश्किल करीब 300 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की मिल पा रही है। जिस प्रकार प्रतिदिन ऑक्सीजन की मांग बढ़ रही है उसके अनुसार आने वाले दो—तीन दिन में प्रदेश को 365 मीट्रिक टन से अधिक ऑक्सीजन की आवश्यकता होगी।

32 टैंकरों की आवश्यकता
डॉ शर्मा ने कहा कि प्रदेश में बढ़ती ​ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए आने वाले माह में 32 टैंकरों की आवश्यकता होगी। जिनकी क्षमता करीब 400 मीट्रिक मे​डिकल ऑक्सीजन सप्लाई की होगी। अधिक टैंकरों की जरुरत इसलिए​ क्योंकि मेडिकल ऑक्सीजन देश के दूर—दराज के इलाकों से होती है इसलिए ट्रांसपोर्ट में अधिक समय लगता है। जबकि वर्तमान में प्रदेश में केवल 23 मेडिकल ऑक्सीजन सप्लाई करने वाले टैंकर है। जिनके द्वारा करीब 258 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की सप्लाई की जा रही है।

रेलवे ट्रांसपोर्ट से भी आपूर्ति की मांग
चिकित्सा मंत्री ने कहा कि उनके द्वारा सबंधित केन्द्रीय मंत्रियों से मांग की गई कि ऑक्सीजन की जल्द से जल्द सप्लाई के लिए रेलवे ट्रांसपोर्ट की भी उनको अनुमति प्रदान की जाए। उन्होंने कहा कि अधिकतर ऑक्सीजन प्लांट छत्तीसगढ़, झारखंड, उड़ीसा जैसे राज्यों में जहां से सड़क परिवहन के जरिए ऑक्सीजन की सप्लाई में काफी समय लगता है इसलिए रेलवे ट्रांसपोर्ट एक बेहतर वि​कल्प हो सकता है।

30 हजार रेमडेसिविर कम मिले है
डॉ शर्मा ने कहा कि उनके द्वारा दिल्ली में केन्द्रीय मंत्रियों को अवगत कराया गया कि राजस्थान को कोरोना महामारी से लड़ने के लिए इंजेक्शन और आक्सीजन का जो कोटा तय किया गया था वह पूरा नहीं मिला है। अप्रेल माह में प्रदेश को 67 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन मिलने थे लेकिन अब तक प्रदेश को केवल 37 हजार इंजेक्शन ही उपलब्ध हो सकें है, जबकि अप्रेल माह समाप्त होने को है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *