दिल्लीसेना

ब्रह्मोस एयर-लॉन्च वर्जन मिसाइल का सफल परीक्षण: 1500 किमी दूर से उड़ा देगी दुश्मनों के परखच्चे

भारतीय वायुसेना ने लंबी दूरी की हवा से लॉन्च की जाने वाली ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण किया। यह परीक्षण बंगाल की खाड़ी में किया गया है। स्वदेशी हथियार प्रणालियों की दिशा में इसे एक बड़ी सफलता के रूप में देखा जा रहा है। रक्षा अधिकारियों ने इस बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि ब्रह्मोस एयर-लॉन्च वर्जन मिसाइल का परीक्षण एसयू-30 फाइटर जेट से किया गया। इस फाइटर जेट में ब्रह्मोस क्रूज मिसाइलों को लॉन्च करने की क्षमता है। ये मिसाइलें लंबी दूरी पर दुश्मन के ठिकानों को नेस्तनाबूत कर सकती हैं।
फाइटर जेट से दागी गई ब्रह्मोस
अधिकारियों ने बताया कि बीते कुछ दिनों में ब्रह्मोस हवा से प्रक्षेपित मिसाइल को एसयू-30 फाइटर जेट से दागा गया था। विमान ने दक्षिणी प्रायद्वीप में एक हवाई अड्डे से मिसाइल के साथ उड़ान भरी थी। उन्होंने यह भी बताया कि इस मिसाइल ने अपने लक्ष्य पर सफलतापूर्वक हमला करने के लिए 1,500 किमी से अधिक की यात्रा की थी। यह दूरी पहले की तुलना में लंबी थी।
अब ब्रह्मोस की रेंज बढ़ाने पर जोर
ब्रह्मोस एयर-लॉन्च वर्जन मिसाइल सुपरसोनिक हथियार प्रणाली का उन्नत संस्करण है। अधिकारियों ने बताया कि भारत हवा से प्रक्षेपित की जाने वाली ब्रह्मोस क्रूज मिसाइलों का एक बहुत लंबी दूरी का संस्करण विकसित करने की दिशा में काम कर रहा है।
सेना के सबसे घातक हथियारों में शामिल है ब्रम्होस
भारतीय सेना के सबसे घातक हथियारों में एक है, ब्रम्होस मिसाइल। इस मिसाइल को रूस और भारत ने मिलकर तैयार किया था। 2005 से इसे हमारी नौसेना में शामिल किया गया। सबसे ज्यादा सटीक वार करने वाली इस मिसाइल की मारक क्षमता 290 किलोमीटर है। सुपर सोनिक की स्पीड से यह मिसाइल अपने लक्ष्य तक 200 से 300 किलो तक विस्फोटक ले जाने में भी सक्षम है

Related posts

नेपाल में फिर तेज भूकंप: दिल्ली एनसीआर समेत पूरा उत्तर भारत कांपा

Clearnews

उद्योगपति दर्शन हीरानंदानी ने स्वीकारा कि उन्होंने पीएम मोदी की छवि धूमिल करने को गौतम अडानी पर सवाल पूछने के लिए टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा का इस्तेमाल किया

Clearnews

दिल्ली में जंतर-मंतर बना विपक्ष का अखाड़ा, पहलवानों के प्रदर्शन की आड़ में सेकी जा रही हैं राजनीतिक रोटियां

Clearnews