Jaipur Municipal Corporation Greater Mayor strikes in Municipal Corporation Heritage, Congress did not like

जयपुर नगर निगम ग्रेटर महापौर(Mayor) की नगर निगम हैरिटेज में स्ट्राइक, कांग्रेस को रास नहीं आई

जयपुर

जयपुर। विवादों के बीच दो देशों की सीमाओं पर जिस तरह का गतिरोध होता है, वैसा ही गतिरोध अब जयपुर की जनता को नगर निगम हैरिटेज और ग्रेटर की सीमाओं पर भी देखने को मिल सकता है। कहा जा रहा है कि ग्रेटर महापौर सौम्या गुर्जर जेम्सबांड की भूमिका में आ गई हैं और बुधवार को उन्होंने हैरिटेज की सीमा में घुसकर निगम के कारिंदों से एक डेयरी पर कार्यवाही करवा डाली। मीडिया के सामने इस कार्यवाही का बखान किया।

सूत्र बताते हैं कि बुधवार को सौम्या गुर्जर सिविल लाइंस विधानसभा क्षेत्र के कटेवा नगर में पहुंची। वहां उन्होंने पहले नगर निगम ग्रेटर के पशु प्रबंधन शाखा के अधिकारियों को बुलाया और पशु डेयरियों पर कार्यवाही का निर्देश दिया। ग्रेटर के निगम अधिकारियों ने गुर्जर को उसी समय बता दिया कि यह क्षेत्र ग्रेटर का नहीं है।

इसके बावजूद वहां कार्यवाही कराई गई और हैरिटेज के वरिष्ठ पशु चिकित्सक कमलेश मीणा को भी बुलवा लिया गया। इस दौरान यहां एक डेयरी से तीन गायों की जप्ती की गई। अब विवाद बढ़ने के बाद सौम्या गुर्जर की ओर से सफाई दी जा रही है कि वह तो मानसरोवर इलाके में कार्यवाही करवा रही थी। कुछ गाएं भाग कर सिविल लाइंस क्षेत्र में घुस गई, जिन्हें पकड़वाने के लिए वह वहां गई थी।

गुर्जर का कहना है कि इलाके में 200 से ज्यादा गाएं होने की शिकायत मिली थी, जिनके पांव में सफेद रंग की पट््टी बंधी रहती है। निगम के कर्मचारी इन गायों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करते। इन गायों को पिछले 10 दिनों से ट्रेस किया जा रहा था और यह गायें मानसरोवर क्षेत्र में दिनभर विचरण करने के बाद शाम को कटेवा नगर स्थित डेयरी पहुंचती थी। इसके लिए उन्होंने हैरिटेज की महापौर और सीईओ को भी अवगत करवा दिया था। शहर के लोगों को आवारा पशुओं से मुक्ति दिलाने के लिए यह कार्रवाई की गई।

हैरिटेज के क्षेत्र में ग्रेटर की महापौर द्वारा कार्यवाही की खबर जैसे ही कांग्रेसी पार्षदों को लगी तो वह बिफर पड़े। मामले की जानकारी सिविल लाइंस विधायक और परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास तक पहुंचाई गई। कहा जा रहा है कि इस कार्यवाही से नाराज कांग्रेसी पार्षद जल्द ही पलटवार कर सकते हैं, क्योंकि यह कार्यवाही उन्हें बिलकुल भी रास नहीं आई है।

मामले में हैरिटेज के वरिष्ठ पशु चिकित्सक पर भी अंगुली उठ रही है कि वह ग्रेटर महापौर के कहने पर मौके पर क्यों गए? जब इस बाबत कमलेश मीणा से पूछा गया तो उन्होंने साफ मना कर दिया कि वह मौके पर नहीं गए थे।

हैरिटेज पार्षद मनोज मुदगल ने इस मामले पर प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि ग्रेटर महापौर सौम्या गुर्जर और कुछ भाजपा नेता, अधिकारियों के साथ मिलकर भ्रष्ट कार्रवाइयों को अंजाम दे रहे हैं। लोगों में दहशत फैलाकर चौथ वसूली का खेल खेला जा रहा है। इन भ्रष्ट कारनामों की रिपोर्ट स्वायत्त शासन मंत्री और मुख्यमंत्री को दी जाएगी।

हैरिटेज नगर निगम क्षेत्र में घरों में पल रही गायों पर कार्यवाही भाजपा की गौ सेवा विरोधी नीति है। कार्रवाई करने वाले ग्रेटर मेयर और अधिकारियों के खिलाफ मुकद्दमा दर्ज कराया जाएगा और दोषी अधिकारियों को बर्खास्त करने के लिए मंत्री को लिखा जाएगा।

वार्ड 52 के पार्षद रोहताश सिंह का कहना है कि ग्रेटर महापौर द्वारा की गई आज की कार्यवाही पूरी तरह से गलत है और हम इसकी निंदा करते हैं। ग्रेटर महापौर को कोई भी कार्रवाई करने से पहले सीमाज्ञान करवा लेना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *