Kuwait labour return home

कुवैत में रहने और खाने की परेशानियों से जूझकर कामगार मजदूर लौटे अपने वतन

कोरोना जयपुर स्वास्थ्य

जयपुर। कोरोना वैश्विक महामारी ने देश-विदेश में समाज के हर तबके को प्रभावित किया है। लेकिन इस महामारी का सबसे ज्यादा बुरा असर उन कामगार मजदूरों पर पड़ा है जो अपना घर और गांव छोड़कर देश के विभिन्न शहरों में तथा विदेशों में रोटी- रोजी कमाने गए थे और जो मजदूरी करके ही अपने घर परिवार का पालन पोषण करते थे। कोरोना की वजह से अपनी रोटी रोजी खो चुके कुवैत से शनिवार रात को दिल्ली एयरपोर्ट पहुंचे 75 प्रवासी राजस्थानी कामगार मजदूरों की दुखद कहानी भी कुछ कम नहीं है।

कामगार मजदूरों के दल में शामिल चूरू के कैलाश सारण ने बताया कि वह अपने परिवार को छोड़कर एक वर्ष पहले कुवैत गए थे वहां एक कंपनी में जाकर मजदूरी करने लगे लेकिन 3 महीने पहले कोरोना महामारी के चलते कंपनी में काम बंद हो गया तथा पूरा वेतन भी नहीं मिला, लेकिन पहले से उनके दो भाई भी वहीं पर दूसरी जगह मजदूरी कर रहे थे तो किसी तरह से मिलकर रहने और खाने की व्यवस्था की, लेकिन अब हमारे पास घर वापस लौटने के अलावा कोई विकल्प नहीं था। मजदूरों में शामिल प्रतापगढ़ के राजमल चौधरी ने बताया कि गांव में अपने बच्चों को छोड़कर 6 महीने पहले मैं कुवैत काम की तलाश में गया था लेकिन पिछले 2 महीने से काम बंद हो गया तथा इतनी कमाई भी नहीं की जिससे वहां रहने और खाने की व्यवस्था की जा सके । अब हमारे पास दिल्ली में खुद के पैसों से क्वॉरेंटाइन में रहने की सामर्थ नहीं है इसलिए राजस्थान सरकार ने हमें बसों से अपने शहरों तक पहुंचाने में मदद की है, इसके लिए हम मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत का दिल से धन्यवाद करना चाहते हैं कि उन्होंने हमारी पीड़ा को समझा और कुवैत से दिल्ली एयरपोर्ट पहुंचने के बाद हमारी मांग के अनुसार हमें गृह राज्य पहुंचाया जा रहा है।

दिल्ली में प्रवासियों को सुरक्षित अपने घर तक पहुंचाने के लिए व्यवस्थाएं देख रहे राजस्थान फाउंडेशन के आयुक्त श्री धीरज श्रीवास्तव ने बताया कि कोरोना वैश्विक महामारी से निपटने के लिए मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत के निर्देश अनुसार राजस्थान सरकार अपने हर नागरिक के जान-मल की हिफाजत के लिए वचनबद्ध है चाहे वे देश या विदेश के किसी कोने में हो। राज्य सरकार ने कोरोना महामारी की वजह से फंसे हुए प्रवासी राजस्थानियों को सुरक्षित रखने और उनकी स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं को दूर करने के लिए पूरी तत्परता से काम किया है। मुख्यमंत्री के आदेशों की अनुपालना में आज भी हमने उसी भावना के साथ काम किया।

आज रात कुवैत से दिल्ली एयरपोर्ट पहुंचे 75 प्रवासी राजस्थानी मजदूर , जिनके पास दिल्ली में क्वॉरेंटाइन में रहने के लिए पैसे नहीं थे क्योंकि वहां पर करीब 3 महीने से इनका काम बंद था वे वहां खाने और रहने की काफी दिक्कतों का सामना करके अपने वतन पहुंचे थे जब इन्होंने हमें अपनी मजबूरियां बताया तो हमने इन सभी 75 लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करते हुए सरकार के सहयोग से रात्रि में ही बसों से जयपुर और उदयपुर के लिए रवाना किया। वहां इन्हें सरकार की तरफ से सात दिन इंस्टीट्यूशनल क्वॉरेंटाइन सेंटरों में रखा जाएगा और बाद में होम क्वॉरेंटाइन के लिए अपने-अपने घर भेज दिए जाएगा।

1 thought on “कुवैत में रहने और खाने की परेशानियों से जूझकर कामगार मजदूर लौटे अपने वतन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *