दिल्लीपर्यटन

मालदीव का 1 रूफिया भारत के कितने रुपये के बराबर है, जानिए यह सब कुछ..

मालदीव दुनिया के पॉपुलर टूरिस्ट डेस्टिनेशन में से एक है। हालांकि भारत में भी ऐसी ही एक जगह है, जो खूबसूरती के मामले में मालदीव से कम नहीं… वो है, लक्षद्वीप। इस बीच, भारत और मालदीव के बीच हुए विवाद के बाद बॉयकॉट मालदीव का नारा बुलंद हो गया है।
दरअसल भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी साल 2024 की पहली यात्रा के लिए लक्षद्वीप गए थे, यहां उन्होंने काफी खूबसूरत तस्वीरे भी खिंची और खिंचवाई, इन कैप्चर कि गई तस्वीर के पोस्ट होते ही लोग लक्षद्वीप की तुलना मालदीव से करने लगे। वहीं, यह कंपैरिजन बहुत सारे मालदीव के मंत्रियों को रास नहीं आया। इसके बाद वे भारत देश पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने लगे। भारत के लोगों ने भी फिर सख्त रुख अपना लिया और सोशल मीडिया पर बॉयकॉट मालदीव ट्रेंड होने लगा। इन सभी विवादों के बीच आज हम आपको बताएंगे कि मालदीव और भारत में से किस देश की करेंसी की ज्यादा वैल्यू है, तो चलिए जानते है ये रोचक बात…
भारत या मालदीव किसकी करेंसी की है ज्यादा वैल्यू..?
हर देश की अपनी-अपनी करेंसी होती है, जैसे हमारे भारत का एक रुपया है, वैसे ही मालदीव की भी अपनी करेंसी है जिसे मालदीव रूफिया कहा जाता है। लेकिन, क्या आपको पता है कि भारत और मालदीव दोनों देशों में से किसकी करेंसी की अधिक वैल्यू है। अगर नहीं तो हम आपको बताते है कि किस देश की करेंसी किस देश पर कितनी भारी है। दरअसल हम आपको बताते है कि मालदीव का एक रुपया भारत के कितने रुपए के बराबर होता है, बता दें कि मालदीव का एक रुफिया भारत देश के 5.39 रुपए के बराबर है।
मालदीव को टक्कर देता है भारत का लक्षद्वीप
दुनिया के सबसे पॉपुलर टूरिस्ट डेस्टिनेशन की बात अगर की जाए तो मालदीव का नाम सबसे पहले लिया जाता है, लेकिन क्या आपको पता है कि भारत में भी ऐसी ही एक जगह है, जो खूबसूरती के मामले में मालदीव से कम नहीं… दरअसल हम बात कर रहे है भारत के मालदीव कहे जाने वाले लक्षद्वीप की, जो ‘बीच लवर्स’ के लिए किसी जन्नत से कम नहीं है। मालदीव अपने खूबसूरत वॉटर विला के लिए मशहूर है तो वहीं लक्षद्वीप अभी इस तरह की सुविधाओं को ओर अग्रसर है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया लक्षद्वीप का दौरा
दरअसल हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2024 का पहला दौरा लक्षद्वीप का ही किया, पीएम मोदी इस दौरान लक्षद्वीप की खूबसूरती को देखकर मंत्रमुग्ध हो गए, उन्होंने इस दौरान सोशल मीडिया पर लक्षद्वीप के लिए अपने अनुभवों को शेयर किया। नरेंद्र मोदी ने इस बीच समुद्र के नीचे के जीवन का पता लगाने के लिए ‘स्नॉर्कलिंग’ का लुफ्त उठाया। नरेंद्र मोदी ने समुद्र के नीचे का जीवन पता लगाने के बाद उससे संबंधी तस्वीरें सोशल मीडिया पर पोस्ट की, इस दौरान पीएम मोदी ने लक्षद्वीप के समुद्र तटों पर सुबह की सैर और समुद्र तट के किनारे कुर्सी पर बैठे फुर्सत के कुछ क्षणों की फोटो को भी साझा किया है। जैसे कि हम पहले ही बता चुके है कि लक्षद्वीप नेचर लवर्स के लिए किसी जन्नत से कम नहीं है, तो चलिए हम आपको बताते है कि लक्षद्वीप में आप कौन सी जगह घूम सकते हैं।
कैसे पहुंचें लक्षद्वीप
लक्षद्वीप जाने के लिए सबसे पहले आपको केरल के कोच्चि जाना होगा। इसके बाद कोच्चि से लक्षद्वीप अगत्ती जाना होगा। वहीं आप चाहें तो कोच्चि से क्रूज शिप के जरिए भी लक्षद्वीप के अगत्ती द्वीप जा सकते हैं। अगत्ती लक्षद्वीप में सबसे खूबसूरत लैगून में से एक माना जाता है, ये चारों ओर समुद्र से घिरा हुआ है। पानी के बीच स्थित यह द्वीप अपने खूबसूरत बीचों के लिए काफी प्रसिद्ध है। अगत्ती की सड़क नारियल और खजूर के पेड़ों के बीच में से होकर जाती है। बता दें कि यहां की धरती का निर्माण मूंगों के द्वारा किया गया है। ये ‘स्नाॅर्कलिंग’ के लिए काफी फेमस है, ‘स्नॉर्कलिंग’ में लोग समुद्र की सतह पर तैरते हुए उसके नीचे के समुद्री जीवन का पता लगाते हैं, स्नॉर्कलर्स देखने के लिए लोग मुखौटा पहनते है, और सांस लेने के लिए स्नॉर्कल पहनते है, वहीं कभी-कभी दिशा गति के लिए पंख पहनते हैं।
मिनिकॉय और बांगरम द्वीप
मिनिकॉय द्वीप लक्षद्वीप का दूसरा सबसे बड़ा द्वीप है, ये कोचीन के समुद्री तट से लगभग 400 किमी दूर है, इसे लोकल भाषा में मलिकू भी कहा जाता है, यहां पर आपको अरब सागर का साफ और नीला पानी देखने को मिलेगा, साथ ही यहां पर मूंगे की चट्टानें और सफेद रेत भी है, इसके अलावा आप बांगरम द्वीप भी घूमने के लिए जा सकते है, ये हिंद महासागर के तट पर स्थित है, यहां पर डॉल्फिन समेत खूबसूरत मछलियों के अलावा वाटर स्पोटर्स और एडवेंचर स्पोर्टस का आनंद ले सकते है, इसके अलावा आप सनराइज और सनसेट का भी अच्छा लुत्फ ले सकते है, यहां पर स्कूबा डाइविंग भी होती है।
कवरत्ती द्वीप समूह और कल्पेनी आइलैंड्स
लक्षद्वीप की राजधानी कवरत्ती द्वीप है, जो सुंदर आइलैंड्स, सफेद रेत के लिए जाना जाता है यहां पर 12 एटोल्स और पांच सबमर्ज बैंक है, इसके अलावा यहां खूबसूरत नारियल के पेड़ है और वाटर स्पोर्टस का लुत्फ भी ले सकते है। ये 3 चेरियम है इसके अलावा कल्पेनी द्वीप या कोइफैनी द्वीप में नेचुरल ब्यूटी का आनंद ले सकते है, ये पिट्टी और तिलक्कम द्वीप से मिलकर बना है। यहां पर कोरल रीफ, कयाकिंग, स्नाॅर्कलिंग, कैनोइंग और बोटिंग का भी आनंद ले सकते है।

Related posts

किसान आंदोलन का तीसरा दिनः यातायात व्यवस्था चरमराई..12वीं बोर्ड की परीक्षाओं के मद्देनजर सीबीएसई ने विद्यार्थियों को दिये समय से पहले पहुंचने के निर्देश

Clearnews

मोमोज बेचकर बने 2000 करोड़ के मालिक: पिता के एक ताने ने बदल दी जिंदगी

Clearnews

लारेंस विश्नोई गैंग के हिस्ट्रीशीटर पर एनआईए का बड़ा एक्शन, विकास सिंह की करोड़ों की प्रॉपर्टी जब्त

Clearnews