naqaur

मुख्यमंत्री की संकल्पना को धरातल पर साकार करता नागौर जिला

कोरोना नागौर स्वास्थ्य

जयपुर। राजस्थान को कोरोना के संक्रमण से बचाने के लिए मुख्यमंत्री की संकल्पना को धरातल पर साकार करते हुए नागौर जिला प्रशासन द्वारा संचालित कोरोना जागरूकता अभियान चरम पर है। 21 जून से शुरू किए गए जन जागरूकता अभियान के आठवें दिन रविवार को वन एवं पर्यावरण मंत्री सुखराम बिश्नोई तथा जैसलमेर जिले के प्रभारी मंत्री ने जिले के नावां, कुचामन व डीडवाना उपखंड मुख्यालय पर आयोजित जागरूकता कार्यक्रमों में बतौर मुख्य अतिथि भाग लिया।

इन कार्यक्रमों में मंत्री ने अपने संबोधन में एस.एम.एस. का मूल मंत्र देकर आमजन को कोरोना के संक्रमण से बचाने की सीख दी। उन्होंने एस एम एस का विस्तार से अर्थ बताते हुए कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क लगाना व सैनिटाइजेशन की अक्षर से पालना करने की अपील आमजन से की। प्रभारी मंत्री ने कहा कि कोरोना से डरे नहीं बल्कि इसके प्रति जागरूकता रखते हुए बचाव के उपायों का पालन करें और आमजन को भी इसके लिए प्रेरित करें।

वन एवं पर्यावरण मंत्री ने कहा कि नागौर जिले में कोरोना जैसी महामारी से युद्ध स्तर पर लड़ी जा रही लड़ाई में जो राहत भरे परिणाम आए हैं, इसके लिए जिला प्रशासन, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, पंचायतीराज विभाग तथा स्थानीय निकाय विभाग सहित संबंधित सभी विभागों के अधिकारी व कार्मिक प्रशंसा के पात्र हैं। प्रभारी मंत्री ने कहा कि नागौर में सरकारी प्रयासों के साथ-साथ आमजन से मिल रहे सहयोग की बदौलत ही आज तक जिले में पाए गए कोरोना से संक्रमित मरीजों में से 98.37 फीसदी लोग स्वस्थ होकर अपने घरों की ओर लौटे हैं।

जिला प्रभारी मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री के दिशा निर्देशानुसार राज्य भर में शुरू किए गए कोरोना संक्रमण से बचाव जन जागरूकता अभियान के तहत नागौर जिले में हुए नवाचार भी अपने आप में अच्छा प्रयास है। रविवार को जिला मुख्यालय से लेकर गांव स्तर तक सजाई गई कोरोना जागरूकता रंगोली, जागरूकता रथ, कचरा संग्रहण वाहनों के माध्यम से माइकिंग तथा कलाकरों का संगीतमयी अभिनय काबिले तारीफ प्रयास है।

मंत्री ने रविवार को जिले के नावा, कुचामन, डीडवाना में विभिन्न जगह आयोजित हुए कार्यक्रमों को संबोधित करते हुए कहा कि हमें शरीर को स्वस्थ रखना है तो पुरखों की दिनचर्या और उनकी बताई बातों को आत्मसात करना होगा। उन्होंने कहा कि मारवाड़ की धरती पर बहुत से ऎसे वृक्ष और पौधे हैं, जो अपने आप में औषधीय गुण लिए हुए हैं और इनका सेवन करने से व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोतरी रहेगी और वह कोरोना जैसी महामारी से लड़ने में भी सक्षम बन सकेगा।

उन्होंने कहा कि व्यक्ति को पौष्टिक भोजन शुद्ध पानी और रितु अनुसार फल और सब्जी का सेवन करना चाहिए। प्रभारी मंत्री ने कुचामन तथा डीडवाना में आयोजित कार्यक्रम में मौजूद किसान भाइयों से अपील की कि वे जैविक खेती को अधिक से अधिक अपनाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *