इस्लामाबादराजनीति

पाकिस्तान पहुंचते ही नवाज का धमाका: बोले- परमाणु परीक्षण रोकने के लिए क्लिंटन ने की थी 5 अरब डॉलर की पेशकश

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने पाकिस्तान पहुंचते ही बड़ा बयान दिया है। लाहौर स्थित मीनार-ए-पाकिस्तान में एक रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने उन्हें परमाणु परीक्षण रोकने के लिए पांच अरब डालर देने की पेशकश की थी।
1998 में भारत द्वारा परमाणु परीक्षण किए जाने के बाद पाकिस्तान पर इस तरह का कदम नहीं उठाने के लिए विदेशी सरकारों का भारी दबाव था। विदेश मंत्रालय में इसका रिकाॅर्ड होगा कि क्लिंटन ने हमें पांच अरब डालर देने की पेशकश की थी। हमें एक अरब डालर और दिया जा सकता था। लेकिन, मैं पाकिस्तान की धरती से पैदा हुआ हूं। इसने मुझे पाकिस्तानी हित के खिलाफ कुछ भी स्वीकार करने की अनुमति नहीं दी।
राजनीति के चलते मां और पत्नी को खोया
अपने मुख्य प्रतिद्वंद्वी इमरान खान पर तंज कसते हुए शरीफ ने कहा, ‘मुझे बताइए। मेरी जगह कोई दूसरा होता, तो क्या अमेरिकी राष्ट्रपति के सामने ऐसी बात कह पाता? हमने परमाणु परीक्षण किया और भारत को जवाब दिया।’ अगले साल होने वाले चुनाव के लिए पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) का अभियान शुरू करते हुए शरीफ भावुक भी हुए। उन्होंने कहा कि राजनीति के चलते मैंने अपनी मां और पत्नी को खोया।
अपनों को नहीं दे पाया अंतिम श्रद्धांजलि
रुंधे गले से उन्होंने कहा कि मां, पिता और पत्नी को मैं अंतिम श्रद्धांजलि तक नहीं दे सका। शरीफ ने उस घटना को भी याद किया, जब वह अपनी पुत्री के साथ पाकिस्तान की जेल में बंद थे और उनकी पत्नी का लंदन में निधन हो गया था। इससे पहले नवाज शरीफ चार वर्ष के स्व-निर्वासन के बाद शनिवार को स्वदेश लौट आए। जनवरी में संभावित आम चुनाव में अपनी पार्टी का नेतृत्व करने के तहत उनकी वापसी हुई है।
विशेष विमान से शरीफ पहुंचे इस्लामाबाद
पाकिस्तान के तीन बार प्रधानमंत्री रहे शरीफ 2019 में उपचार के लिए लंदन गए थे, लेकिन उसके बाद स्वदेश नहीं लौटे थे। शरीफ विशेष विमान से दुबई से इस्लामाबाद पहुंचे। वह शुक्रवार को लंदन से दुबई पहुंचे थे। विशेष विमान में उनके साथ परिवार के सदस्यों समेत करीब 150 पार्टी समर्थक भी रहे। एयरपोर्ट पर उतरने पर शरीफ की कानूनी टीम ने कुछ दस्तावेज पर उनके हस्ताक्षर लिए। ये दस्तावेज जमानत प्रक्रिया के लिए इस्लामाबाद हाई कोर्ट में जमा करने हैं। उनको कोर्ट से 24 अक्टूबर तक गिरफ्तारी से राहत मिली है।
नवाज शरीफ तीन बार रहे हैं पाकिस्तान के पीएम
नवाज शरीफ पाकिस्तान के इकलौते नेता हैं, जो तख्तापलट की आशंका वाले देश में रिकार्ड तीन बार प्रधानमंत्री रहे। नेताओं और विशेषज्ञों का मानना है कि देश की ताकतवर सेना से आशीर्वाद मिलने के बाद नवाज शरीफ पाकिस्तान लौटे हैं।
सजा से स्वदेश वापसी तक
– 2017 में पनामा पेपर मामले में सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद नवाज को पीएम पद से इस्तीफा देना पड़ा था।
– 2018 में एवनफील्ड मामले में 10 साल जेल की सजा हुई थी, तब वह अपनी बीमार पत्नी के साथ लंदन में थे।
– 13 जुलाई, 2018 को स्वदेश लौटने पर नवाज और उनकी बेटी मरयम को गिरफ्तार कर लिया गया था।
– 24 दिसंबर, 2018 को अल-अजीजिया चीनी मिल मामले में नवाज को सात साल कैद की सजा सुनाई गई थी।
– 19 नवंबर, 2019 को कोर्ट और सरकार की अनुमति पर नवाज अपना उपचार कराने के लिए लंदन चले गए थे।
– 12 सितंबर, 2023 को नवाज शरीफ ने 21 अक्टूबर को पाकिस्तान लौटने की घोषणा की थी।
चार वर्ष के दौरान अल-अजीजिया और एवनफील्ड मामलों में कोर्ट में पेश नहीं होने पर भगोड़ा घोषित किए गए थे।

You can share this post!

Related posts

विपक्ष ने ठुकराया निमंत्रण तो भाजपा ने पोस्टर जारते हुए बोला कि इन सनातन विरोधियों को…

Clearnews

अमित शाह जी आपको ये क्या हो गया है?

admin

राजस्थान में छहों नगर निगमों के चुनाव 31 अक्टूबर तक ही

admin