चेन्नईधर्म

कन्याकुमारी में पीएम की मौन साधना पूरी, जल्द लौटेंगे दिल्ली

देश के प्रधानमंत्री अंतिम चरण का मतदान पूर्ण होते-होते दिल्ली लौट सकते हैं। वे गुरुवार शाम से देश के सबसे दक्षिणी छोर पर स्थित कन्याकुमारी के प्रसिद्ध विवेकानंद रॉक मेमोरियल में 45 घंटे की ध्यान साधना कर रहे थे। अब जानकारी मिली है कि पीएम मोदी की 45 घंटे की ध्यान साधना पूरी कर जल्दी ही वापस दिल्ली लौटने वाले हैं।
पीएम मोदी ने विवेकानंद रॉक मेमोरियल में सूर्योदय के समय ‘सूर्य अर्घ्य’ देने के बाद शनिवार को तीसरे और अंतिम दिन अपनी ध्यान साधना शुरू की थी। पीएम ने एक लोटे से समुद्र में सूर्य को जल अर्पित किया और माला जपी। उन्होंने भगवा वस्त्र पहने हुए थे। उन्होंने स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा पर पुष्पांजलि भी अर्पित की।
पंजाब के होशियारपुर में चुनावी रैली को संबोधित करने के बाद पीएम मोदी हेलीकॉप्टर से सीधे कन्याकुमारी पहुंचे थे। यहां उन्होंने भगवती अम्मन मंदिर में पूजा-अर्चना की थी। उसके बाद वह नांव पर सवार होकर तट से करीब 500 मीटर दूर समुद्र में चट्टान पर स्थित विवेकानंद रॉक मेमोरियल पहुंचे। यहां उन्होंने अपने 45 घंटे का ध्यान शुरू किया था। उनकी ध्यान साधना आज पूरी हो गई है और अब वो वापस दिल्ली लोट रहे हैं।
ध्यान साधना का अंतिम दिन
ध्यान साधना के अंतिम दिन पीएम मोदी ने भगवा वस्त्र पहने हुए थे और उन्होंने स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा पर पुष्पांजलि भी अर्पित की। वह अपने हाथों में ‘जाप माला’ लेकर मंडपम के चारों ओर चक्कर लगाते दिखे। कन्याकुमारी सूर्योदय और सूर्यास्त के दृश्यों के लिए मशहूर है और मेमोरियल तट के पास एक छोटे-से टापू पर स्थित है।
विपक्ष ने साधा था निशाना
पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए तृणमूल कांग्रेस चीफ ममता बनर्जी ने कहा था कि कोई भी वहां जा सकता है और ध्यान कर सकता है। क्या कोई ध्यान करते समय कैमरा ले जा सकता है। वहीं अखिलेश यादव ने कहा था कि सुना है ध्यान लगाने जा रहे हैं। जहां पर विवेकानंदजी ने ध्यान लगाया था सुना है, पीएम मोदी वहीं ध्यान लगाने जा रहे हैं, लेकिन ध्यान लगाने की जरूरत तो 5-7साल पहले थी। कांग्रेस नेता दानिश अली ने कहा था कि चुनाव आयोग को कहना चाहिए कि मीडिया इसका लाइव प्रसारण न करें।

Related posts

‘ज्ञानवापी है ज्ञान का कुआं..उसे मस्जिद कहना बंद करें ‘ पंडित धीरेंद्र शास्त्री ने कही बड़ी बात

Clearnews

निस्संदेह..मस्जिद से पहले था विशाल हिंदू मंदिर, पिलर में क्या था, एएसआई की रिपोर्ट में 10 खुलासे

Clearnews

ज्ञानवापी विवाद: ट्रेजरी से तहखाने में लाई गईं एएसआई सर्वे में मिली 8 खंडित मूर्तियां

Clearnews