Rajasthan Foundation started a unique virtual series 'Meet Sarkar Se', in the first episode, Urban Development and Housing Minister Shanti Dhariwal had a direct conversation with the migrant Rajasthanis

राजस्थान फाउंडेशन (Rajasthan Foundation) ने शुरू की ‘मिलिए सरकार से’ एक अनूठी वर्चुअल श्रृंखला, पहली कड़ी में नगरीय विकास एवं आवासीय मंत्री शांति धारीवाल ने प्रवासी राजस्थानियों से किया सीधी वार्तालाप

जयपुर ताज़ा समाचार

राजस्थान फाउंडेशन (Rajasthan Foundation) ने ‘मिलिए सरकार से ’ (‘Miliye Sarkar se) एक अनूठी वर्चुअल श्रृंखला की शुरुआत की है जिससे हमारे देश के विभिन्न राज्यों और विदेशों में बसे प्रवासी राजस्थानी राजस्थान सरकार के मंत्रियों और अन्य प्रतिनिधियों से सीधे वार्तालाप कर पाएंगे। राज्य सरकार के प्रतिनिधियों के साथ सीधे वार्तालाप की इस श्रृंखला की पहली कड़ी का आयोजन हाल ही में राजस्थान सरकार ने किया जिसमें राज्य के नगरीय विकास एवं आवासीय (UDH) मंत्री शांति धारीवाल ने वेबिनार के माध्यम से प्रवासी राजस्थानियों को राज्य सरकार के विकास कार्यों और भविष्य की योजनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

उन्होंने राज्य में चल रही अनेक जन कल्याणकारी और विकास योजनाओं से प्रवासियों को अवगत कराते हुए बताया कि राजधानी जयपुर के एसएमएस अस्पताल में 1200 बेड का आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित आईपीडी टावर बनने जा रहा है। इस टावर में हेलीपैड की भी सुविधा दी जाएगी जिससे प्रदेश के चिकित्सा के क्षेत्र को प्रगति मिल सकेगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का प्रयास है कि राजस्थान को पूर्ण रूप से समृद्ध और शक्तिशाली प्रदेश बनाया जा सके।

धारीवाल ने सभी प्रवासी राजस्थानियों को साधुवाद देते हुए कहा कि प्रवासी राजस्थानियों को इस प्रकार अपने प्रदेश से जुड़े देख कर बहुत खुशी की अनुभूति हो रही है। उन्होंने कहा कि राजस्थान फाउंडेशन द्वारा आयोजित यह कार्यक्रम मुख्यमंत्री की उस सोच को और आगे ले जाने वाला है जिससे प्रवासियों को अपने प्रदेश से जोड़ने के मिशन को मजबूती मिलेगी।

उन्होंने कहा कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की राजस्थान फाउंडेशन के गठन करने के पीछे यही सोच थी कैसे राजस्थानी समुदाय के लोगों को एक साथ एक परिवार के रूप में जोड़ा जाए। उन्होंने कहा कि फाउंडेशन के आयुक्त धीरज श्रीवास्तव जैसे निपुण, कर्मठ, कर्तव्यनिष्ठ, सकारात्मक सोच और अनुभवी अधिकारी की अगुवाई में राजस्थान फाउंडेशन जिस तरह से प्रवासियों को अपनी मिट्टी से जोड़ने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है यह एक बहुत सराहनीय का कार्य है।

कार्यक्रम के संचालन के दौरान फाउंडेशन के कमिश्नर धीरज श्रीवास्तव ने कहा कि ‘मिलिए सरकार से’ कार्यक्रम अपने आप में प्रबलशाली प्रयास है जो हमारे राजस्थानी प्रवासियों को सीधे अपनी सरकार से जुड़ने का मौका देगा। उन्होंने कहा कि प्रवासियों को अपने मिट्टी से निकट लाने के ऎसे कार्यक्रमों से न केवल हमारे प्रवासियों को अपने प्रदेश में हो रहे विकास कार्यों को करीब से जानने का मौका मिलेगा बल्कि राजस्थान में जो निवेश के अवसर सरकार द्वारा समय-समय पर खोले जा रहे हैं उनमें भी प्रवासियों के योगदान की रूपरेखा तैयार हो सकेगी।

‘मिलिए सरकार से’ कार्यक्रम की इस पहली कड़ी में मंत्री धारीवाल के समक्ष देश और विदेश से जुड़े अनेक प्रवासियों ने अपने विचार रखे जिनमें यूएसए से डॉक्टर जयवीर राठौड़, मुंबई से डॉक्टर अनिल बगरिया, नैरोबी (केन्या) से सोनवीर सिंह, कोलकाता से एचपी बुधिया, जर्मनी से अर्पित जैन, आयरलैंड से बाबूलाल यादव, दुबई से डॉ. मयंक वत्स, बहरीन से रमेश पाटीदार, ऑस्ट्रेलिया से कमल भूतड़ा, यूएसए से राज नाथावत आदि ने राजस्थान में चिकित्सा, स्वास्थ्य, शिक्षा, रोड तथा आर्थिक और सामाजिक विकास के विभिन्न पहलुओं पर अपने विचार साझा किये। सभी प्रवासियों ने एक स्वर में राजस्थान फाउंडेशन के आयुक्त श्रीवास्तव की इस पहल का स्वागत करते हुए कहा कि ऐसे कार्यक्रमों से देश और दुनिया में बसे हुए प्रवासियों को गर्व की अनुभूति होती है तथा अपने प्रदेश के लिए हर संभव सहयोग के संकल्प प्रबल होते हैं।

आयुक्त ने कोरोना महामारी से निपटने में प्रवासी राजस्थानियों की भूमिका को रेखांकित करते हुए कहा कि प्रवासियों द्वारा प्रदेश में ऑक्सीजन प्लांट लगवाने, लिक्विड ऑक्सीजन भिजवाने, राजस्थान फाउंडेशन के माध्यम से हर तरह का सहयोग राज्य सरकार को प्रदान किया गया तथा ऎसे कठिन समय में सभी प्रवासी राज्य सरकार के साथ खड़े नजर आए यह प्रवासियों का अपने प्रदेश के लिए अटूट प्यार का प्रमाण है।

वेबिनार में यूडीएच के सलाहकार जीएस संधू, यूडीएच के प्रमुख शासन सचिव कुंजीलाल मीना, स्वायत्त शासन विभाग के सचिव भवानी सिंह देथा, जयपुर विका प्राधिकारण गे आयुक्त जेडीए गौरव गोयल ने भी विभाग की महत्वपूर्ण योजनाओं और कार्यक्रमों की जानकारी दी, साथ ही प्रवासियों के सवालों का भी जवाब दिया।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *