रामगढ़ विषधारी अभयारण्य राजस्थान का चौथा नया टाइगर रिज़र्व घोषित

जयपुर

जयपुर। राज्य सरकार ने अधिसूचना जारी कर रामगढ़ विषधारी अभयारण्य को टाइगर रिज़र्व घोषित किया है। वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन विभाग के मंत्री हेमाराम चौधरी ने बताया कि राज्य सरकार एवं वन विभाग के प्रयासों से रामगढ़ विषधारी अभयारण्य राज्य का चतुर्थ नया टाइगर रिज़र्व घोषित किया गया है।

चौधरी ने बताया कि वन्य जीव संरक्षण अधिनियम 1972(1972 का केंद्रीय अधिनियम संख्या 53) की धारा 38 फ की शक्तियों का प्रयोग करते हुए राष्ट्रीय टाइगर संरक्षण प्राधिकरण की सिफ़ारिश एवं संबंधित ग्राम सभा एवं विशेषज्ञ समिति से परामर्श उपरांत राज्य सरकार ने रामगढ़ विषधारी अभयारण्य को टाइगर रिज़र्व घोषित किया है। रामगढ़ टाइगर रिज़र्व का कोर एवं बफर एरिया लगभग 15 सौ वर्ग किलोमीटर है। इसमें रामगढ़ अभयारण्य का 225 वर्ग किलोमीटर एवं चम्बल घड़ियाल सेंचुरी का 256 वर्ग किलोमीटर एवं बफर एरिया 1019 वर्ग किलोमीटर का क्षेत्र शामिल होगा।

वन मंत्री ने बताया कि राजस्थान प्रदेश में वन्यजीवों एवं वन्यजीव प्रेमियों, प्रकृति प्रेमियों के लिए ऐतिहासिक क्षण है कि रामगढ़ विषधारी अभयारण्य (बूंदी) को केन्द्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय द्वारा राजस्थान का चौथा टाईगर रिज़र्व घोषित किया है । इससे पूर्व रणथंभौर, सरिस्का एवं मुकुंदरा हिल्स टाईगर रिज़र्व राजस्थान में बाघों के लिए रिज़र्व हैं । उन्होंने बताया कि रामगढ़ विषधारी अभयारण्य के टाईगर रिज़र्व घोषित होने से रणथंभौर से लेकर मुकुंदरा तक बाघों की निर्बाध रुप से आवाजाही हो सकेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.