Review of Corona's condition in Jaipur district, instructions to provide information about the availability of empty beds in hospitals online to the general public

जयपुर जिले में कोरोना की स्थिति की समीक्षा, आमजन को अस्पतालों में खाली बैड की उपलब्धता की जानकारी ऑनलाइन दिए जाने के निर्देश

जयपुर कोरोना

जयपुर जिलें में कोरोना की दूसरी लहर से संक्रमण की रोकथाम के लिए नियुक्त जिला प्रभारी सचिव सुधांश पंत ने कहा कि कोरोना के लगातार बढ़ते हुए मामलों के देखते हुए अधिकारी हर सम्भावित स्थिति को ध्यान में रखते हुए सभी प्रकार की तैयारी रखें। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि मोबाइल एप के माध्यम से लोगों को लाइव अपडेट मिले कि किस अस्पताल में कितने बैड, कितने आईसीयू बैड, कितने वेंटीलेटर बैड आदि खाली है, जिससे उन्हें अस्पतालों के चक्कर नहीं काटने पड़ें। एप के बारे में पर्याप्त प्रचार प्रसार भी किया जाए। उन्होंने अधिकारियों से सैंपलिंग बढ़ाने तथा अस्पतालों में बैड तथा ऑक्सीजन की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए भी निर्देश दिये।

पंत ने गुरूवार को शासन सचिवालय में जयपुर के सरकारी व निजी चिकित्सालयों में बैड, ऑक्सीजन, वेंटीलेटर तथा अन्य मेडिकल उपकरणों तथा व्यवस्थाओं की वर्तमान स्थिति तथा आने वाले समय में अधिक आवश्यकता होने पर आपूर्ति की पूर्व व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि रोगियों की बढ़ती हुई संख्या को देखते हुए सभी मरीजों के लिए ऑक्सीजन की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित करने की चुनौती को सख्त निगरानी और प्रबंधन से ही पूरा किया जा सकता है। संकट के इस समय में जिले के सभी विभागों को एक टीम की तरह काम करना होगा, तभी संसाधनों का समुचित उपयोग और प्रबंधन संभव हो सकेगा।

पंत ने कहा कि कोरोना की टैस्टिंग बढ़ाने के साथ जरूरी है कि लोगों को रिपोर्ट समय पर मिले। अधिकारी सरकारी तथा निजी लेबोरेट्री द्वारा लोगों को 24 घंटे में रिपोर्ट सुनिश्चित करे। जिला प्रशासन के स्तर से निजी चिकित्सालयों द्वारा 50 प्रतिशत बैड कोविड के लिए आरक्षित किये जाने की भी मॉनिटरिंग की जाए।

राज्य सरकार द्वारा ऑक्सीजन की पर्याप्त सप्लाई सुनिश्चित करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। ऑक्सीजन की कमी नहीं हो इसके लिए अधिकारी लोकल स्तर पर भी ऑक्सीजन प्रबंधन के प्रयास करें। पीपीई किट तथा मास्क के साथ आवश्यक दवाइयों की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। जिन स्थानों पर कोरोना संक्रमण के ज्यादा केस आ रहे हैं, वहां राज्य सरकार के दिशा- निर्देशों के अनुरूप कंटेनमेंट तथा माइक्रो कंटेन्मेंट जोन बनाए जाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *