rajasthan sanskrit vishvavidyalaya

संस्कृत विश्वविद्यालय में हो विश्व स्तर का शोध

शिक्षा जयपुर

जयपुर। संस्कृत शिक्षा राज्य मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने संस्कृत विश्वविद्यालय में विश्व स्तर का शोध करने का निर्देश दिए हैं । गुरुवार को सचिवालय स्थित मंत्रालय भवन में आयोजित जगत गुरु रामानंदाचार्य राजस्थान संस्कृत विश्वविद्यालय की प्रगति बैठक के दौरान उक्त निर्देश प्रदान किए। उन्होंने विश्वविद्यालय के चहुँमुखी विकास हेतु राज्य सरकार की ओर से पूर्ण सहयोग करने का आश्वासन दिया।

संस्कृत शिक्षा राज्य मंत्री ने विश्वविद्यालय में यूजीसी के सातवें वेतनमान, कैरियर एडवांसमेंट स्कीम के तहत शिक्षकों की पदोन्नतियां,मंत्रालयिक कार्मिकों की पदोन्नतियां करने हेतु कार्यवाही शीघ्र करने के निर्देश प्रदान किए।

बैठक में विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अनुला मौर्य ने अवगत कराया कि विश्वविद्यालय द्वारा इसी शैक्षणिक स्तर से च्वाइस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम (सी.बी.सी.एस) के तहत पाठ्यक्रम शुरू किए जा रहे हैं। उन्होंने अवगत कराया कि एन.ए.ए.सी हेतु आवेदन की तैयारियां पूर्ण कर ली गई हैं। विश्वविद्यालय द्वारा इस वर्ष मार्च में आयोजित अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी में विश्व भर से संस्कृत के उत्थान हेतु प्राप्त सुझावों के आधार पर शोध हेतु कार्ययोजना तैयार की जा रही है। उन्होंने अवगत कराया कि विश्वविद्यालय के शैक्षणिक, शोध एवं सह शैक्षणिक गतिविधियों की उत्कृष्टता के साथ चहुँमुखी विकास की ओर अग्रसर है।

विश्वविद्यालय में शैक्षणिक सत्र 2020-21 में प्रवेश प्रक्रिया, परीक्षा, विश्वविद्यालय छात्रावासों में बेहतरीन सुविधाएं जैसे महत्वपूर्ण विषयों पर भी विस्तृत चर्चा हुई। विश्वविद्यालय में गांधी दर्शन पीठ स्थापित करने का प्रस्ताव भी विश्वविद्यालय द्वारा स्वीकृति हेतु प्रस्तुत किया।

बैठक के दौरान विश्वविद्यालय के कुलसचिव सुरेन्द्र सिंह यादव, वित्त नियंत्रक ज्योति भारद्वाज एवं उप शासन सचिव रामानंद शर्मा भी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *