जयपुरटेक्नोलॉजी

राजस्थानः सामाजिक सुरक्षा पेंशन के नवीन ऑनलाइन आवेदन के लिए मोबाइल एप लांच, कभी भी कहीं से भी किया जा सकता है आवेदन

राजस्थान के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग मंत्री टीकाराम जूली ने शनिवार 29 अप्रेल को सामाजिक सुरक्षा पेंशन के नवीन आवेदन के लिए ऑनलाइन सुविधा का उद्घाटन किया। अब पात्र व्यक्ति मोबाइल एप के माध्यम से आवेदन कर सकेंगे।
उन्होंने बताया, इस सुविधा का लाभ यह है कि ना तो आवेदक को ई मित्र केंद्र पर जाना पड़ेगा ना उसे फीस देनी पड़ेगी। अब इस सुविधा के माध्यम से वह किसी भी मोबाइल में दो ऐप (RajSSP and Face RD app) डाउनलोड करके घर बैठे-बैठे 24 घंटे में अपनी सुविधा अनुसार कभी भी अंगूठा लगाने की बजाय अपने चेहरे की फोटो के माध्यम से अपना पेंशन का आवेदन विभाग को प्रस्तुत कर सकेगा। यही नहीं आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उपयोग कर भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण द्वारा उसके आधार डेटाबेस में उपलब्ध फेस के बायोमैट्रिक डाटा से मिलान कर उसका पहचान का सत्यापन किया जा सकेगा। यही नहीं यदि वह व्यक्ति सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना का पात्र है तो बिना मानवीय हस्तक्षेप के उसकी पेंशन स्वतः स्वीकृत भी हो जाएगी ।
उन्होंने बताया कि एक तरफ जहां लगभग 13 हजार से अधिक सरकारी अधिकारी कर्मचारी तथा एसडीएम, बीडीओ, तहसीलदार, ईओ, पटवारी ग्राम सेवक, विभागीय अधिकारी आदि का समय बचेगा, वहीं दूसरी ओर हमारे लाभार्थी को भी बिना किसी शुल्क के, सरल, सुविधाजनक, पारदर्शी और निर्बाध रूप से गुणवत्तापूर्ण सेवाएं तत्काल मिल सकेगी। सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में यह एक ऐतिहासिक बदलाव है। जूली ने यह भी बताया कि पेंशन आवेदन प्रस्तुत करने की एक अतिरिक्त सुविधा है पूर्व में उपलब्ध आवेदन प्रस्तुत करने की सुविधा यथावत जारी रहेगी।
जूली ने कहा कि पूर्व में इसी तकनीक का उपयोग पेंशनर्स के वार्षिक भौतिक सत्यापन के लिए पिछले दो माह से किया जा रहा है और अब तक 82 हजार सामाजिक सुरक्षा पेंशन धारियों का बिना किसी सरकारी कार्यालय या ई-मित्र केंद्र पर जाएं मोबाइल फोन के माध्यम से अपने चेहरे की पहचान के आधार पर सत्यापन हो चुका हैं और इससे उनकी पेंशन नियमित प्राप्त हो रही है।
इस अवसर पर शासन सचिव डॉ. समित शर्मा, निदेशक हरि मोहन मीना तथा विभागीय अधिकारी एवम् कर्मचारीगण वर्चुअली मौजूद रहे।

Related posts

ऑक्सीजन की आपूर्ति में बाधा आई तो आपूर्तिकर्ताओं पर होगी कार्रवाई

admin

छह दशकों में अपना मुख्यालय भी नहीं बनवा पाया पुरातत्व विभाग

admin

मिलावटखोरों पर कसेगी नकेल, शुरू होगा शुद्ध के लिए युद्ध अभियान

admin