State Congress announces new executive; 39 experienced leaders included

प्रदेश कांग्रेस की नई कार्यकारिणी की घोषणा, 39 अनुभवी नेताओं को किया गया शामिल

जयपुर राजनीति

जयपुर। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा की नई टीम की घोषणा हो गई है। कांग्रेस आलाकमान की मंजूरी के बाद 39 नेताओं को टीम में शामिल किया गया है। इनमें 7 को उपाध्यक्ष, 8 को महासचिव और 24 को सचिव की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

नई कार्यकारिणी की घोषणा के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट ने डोटासरा को बधाई दी। गहलोत ने राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यकारिणी की घोषणा के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को धन्यवाद दिया और नवगठित कमेटी के सदस्यों को शुभकामनाएं प्रेशित की। गहलोत ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष डोटासरा के नेतृत्व में आप सभी कांग्रेस पार्टी की नीतियों, कार्यक्रम, सिद्धांत एवं विचारधारा को गांव-गांव तक पहुंचाने में कामयाब होंगे।

नई कार्यकारिणी में गोविंद राम मेघवाल, हरिमोहन शर्मा, जीतेंद्र सिंह, महेंद्र जीत सिंह मालवीय, नसीम अख्तर इंसाफ, राजेंद्र चौधरी, रामलाल जाट को उपाध्यक्ष बनाया गया है। जीआर खटाना, हाकिम अली, लखन मीणा, मांगीलाल गरासिया, प्रशांत बैरवा, राकेश पारीक, रीटा चौधरी और वेद सोलंकी को महासचिव बनाया गया है।

वहीं बूराराम सिरवी, देशराज मीणा, गजेंद्र सांखला, जसवंत गुर्जर, जिया उर रहमान, ललित तूनवाल, ललित यादव, महेंद्र खेडी, महेंद्र सिंह गुर्जर, मुकेश वर्मा, निंबाराम गरासिया, फूल सिंह ओला, प्रशांत शर्मा, प्रतिष्ठा यादव, पुष्पेंद्र भारद्वाज, राजेंद्र मूंड, राजेंद्र यादव, राखी गौतम, रामसिंह कस्वां, रवि पटेल, सचिन, शोभा सोलंकी, श्रवण पटेल, विशाल जांगिड़ को सचिव बनाया गया है।

नई कार्यकारिणी पर दिखा ओवैसी इफेक्ट

कांग्रेस की नई प्रदेश कार्यकारिणी पर ओवैसी इफेक्ट साफ दिखाई दे रहा है। उल्लेखनीय है कि एआईएमआईएम चीफ असदुदीन ओवैसी राजस्थान की सियासत में कूदने की तैयारी में है। राजस्थान के पड़ौसी राज्यों गुजरात और मध्यप्रदेश में एआईएमआईएम ने अपनी सक्रियता बढ़ा दी है। इसी के चलते नई कार्यकारिणी में कांग्रेस ने भी ओवैसी इफेक्ट को दूर करने की कोशिश की है। नई कार्यकारिणी में कांग्रेस के पारंपरिक वोटरों अल्पसंख्यक वर्ग और आदिवासी समाज में सेंध को रोकने के लिए इन वर्गों से उचित प्रतिनिधित्व दिया गया है। वहीं ओवैसी से होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए ओबीसी वर्ग को भी उचित प्रतिनिधित्व देकर खुश करने की कोशिश की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *