धर्मवाराणसी

ज्ञानवापी विवाद: ट्रेजरी से तहखाने में लाई गईं एएसआई सर्वे में मिली 8 खंडित मूर्तियां

वाराणसी में ज्ञानवापी परिसर में ट्रेजरी में रखी 10 में से तहखाने में 8 खंडित मूर्तियां वापस लाई गई हैं। एएसआई सर्वे के दौरान ये शिव, हनुमान, लक्ष्मी और गणेश जी की मूर्तियां मिली थीं। डीएम की कस्टडी में साक्ष्य के लिए मूर्तियां रखी गई थीं।
ज्ञानवापी केस में हिंदू पक्ष को 31 साल बाद व्यास जी के तहखाने में पूजा का अधिकार प्राप्त हुआ है। फैसला आने के बाद विश्वनाथ धाम की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। ज्ञानवापी गेट नंबर चार पर कमांडो दस्ते के साथ पीपीएफ फोर्स की तैनाती है। संवेदनशील स्थानों पर पुलिस के अतिरिक्त जवान तैनात किए गए हैं। फैसले के बाद हिंदू पक्ष खासा उत्साह में है।
मस्जिद कमेटी को तत्काल राहत नहीं
इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने ज्ञानवापी मस्जिद के परिसर में स्थित तहखाने में पूजा की अनुमति वाले वाराणसी की अदालत के आदेश के खिलाफ दायर अपील पर मस्जिद कमेटी को तत्काल राहत देने से शुक्रवार को इनकार कर दिया। ज्ञानवापी मस्जिद का प्रबंधन करने वाली अंजुमन इंतेजामिया मस्जिद कमेटी ने वाराणसी की अदालत के आदेश को चुनौती देते हुए उच्च न्यायालय में अपील दायर की है। न्यायमूर्ति रोहित रंजन अग्रवाल ने मस्जिद कमेटी की अपील पर सुनवाई करते हुए यह आदेश पारित किया। अगली सुनवाई छह फरवरी को होगी। हालांकि, अदालत ने तहखाने में पूजा-अर्चना पर रोक लगाने का कोई आदेश पारित नहीं किया।
कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच जुमे की नमाज
वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद के परिसर में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच शांतिपूर्ण ढंग से जुमे की नमाज संपन्न हो गई। मस्जिद परिसर के तहखाने में बुधवार को अदालत के आदेश से पूजा का अधिकार मिलने के बाद शुक्रवार को बड़ी संख्या में नमाजी ज्ञानवापी पहुंच गए। इतनी बड़ी संख्या में नमाजियों के पहुंचने पर पुलिस प्रशासन को उन्हें वापस भेजना पड़ा। प्रशासन ने मस्जिद में ज्यादा भीड़ होने के बाद नमाजियों को दूसरी मस्जिद में नमाज अदा करने के लिए कहा। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार आज पहले की तुलना में दोगुने से भी ज्यादा नमाजी ज्ञानवापी में नमाज पढ़ने पहुंचे।

Related posts

बद्रीनाथ/केदारनाथ में शुरू हुए VIP सिस्टम से इतना मिला राजस्व , जानिए कितने दर्शनार्थी और कितनी हुई कमाई

Clearnews

सांवलिया सेठ मंदिर परिसर में 35 करोड़ के विकास कार्यों का लोकार्पण..चित्तौड़गढ़ के सावा को उपतहसील बनाने की घोषणा

Clearnews

‘राम भारत की प्रतिष्ठा हैं, प्रवाह हैं, आग नहीं ऊर्जा हैं…’, पीएम मोदी ने बताया क्या-क्या हैं श्रीराम

Clearnews