जयपुर

स्वच्छता सर्वेक्षण शुरू हुआ तो निगम आयुक्त को याद आई सफाई, कामचोर अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस की झड़ी लगाई

जयपुर। स्वच्छता सर्वेक्षण शुरू होते ही नगर निगम के उच्चाधिकारियों को सफाई की याद आती है। सर्वेक्षण के दौरान अधिकारी अपना जलवा दिखाने सड़कों पर होते हैं, लेकिन सर्वेक्षण समाप्त होते ही यही अधिकारी अपने एसी कमरों में घुस जाते हैं। दो दिनों से नगर निगम ग्रेटर आयुक्त यज्ञमित्र सिंह देव भी सड़कों पर दिखाई दे रहे हैं और कचरा मिलने पर अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस थमा रहे हैं।

देखने वाली बात यह है कि इस कार्रवाई का असर कितने दिन रहेगा? जिन अधिकारियों को नोटिस थमाए गए हैं, क्या उनकी सेहत पर कुछ फर्क पड़ेगा या नहीं? दो दिन के दौरे में आयुक्त अभी तक तीन जोन उपायुक्त करणी सिंह, सुरेश चौधरी और संतोष गोयल को जोन में गंदगी पाए जाने पर पाबंद किया जा चुका है। वहीं 4 मुख्य सफाई निरीक्षक और 4 सफाई निरीक्षकों को कारण बताओ नोटिस दिए गए हैं।

नगर निगम ग्रेटर जयपुर आयुक्त यज्ञ मित्र सिंहदेव ने मंगलवार को मालवीय नगर, जगतपुरा तथा सांगानेर जोन का दौरा कर सफाई व्यवस्था का जायजा लिया। इस दौरान जवाहर सर्किल के बाहर तथा सड़क के दोनों और कचरा मिलने पर सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये कि भविष्य में यहां गंदगी नहीं मिलनी चाहिए अन्यथा सख्त कार्यवाही की जायेगी।

खाना खाने लायक जगह ही नहीं है

आयुक्त जब अपेक्स सर्किल स्थित इन्दिरा रसोई के एक्सटेंशन काउन्टर का निरीक्षण करने पहुंचे तो वहां रसोई के बाहर गंदगी मिली। अन्दर के बर्तन, कुर्सी टेबल काफी गंदे मिले। इस पर आयुक्त ने सम्बन्धित अधिकारी को नोटिस देने के निर्देश दिये। उन्होंने अक्षय पात्र के पदाधिकारियों को फोन पर खाने की गुणवत्ता सुधारने के निर्देश दिये।

जवाहर सर्किल से अपेक्स सर्किल तक मैकेनाइज्ड स्वीपर

उन्होंने उपायुक्त गैराज को निर्देश दिये कि जवाहर सर्किल से अपेक्स सर्किल तक मैकेनाइज्ड स्वीपर से सफाई कराएं। मुख्य मार्गों के चैराहो पर जो ग्रीनरी के कचरे को साफ कराने के निर्देश उद्यान शाखा के अधिकारियों को दिये।

मलबा मिट्टी डालने वालों पर कड़ी कार्यवाही करें

निरीक्षण के दौरान नन्दपुरी अंडरपास के पास खाली पड़ी भूमि पर अवैध रूप से रखे बिल्डिंग मैटेरियल सामान को तुरन्त हटवाने के निर्देश देते हुये कहा कि जिन भी घरों और प्रतिष्ठानों के बाहर मलबा और मिट्टी पड़े है उन पर जुर्माना लगाया जाये और कैरिंग चार्ज वसूला जाये। ऐसे खाली भूखण्ड जिनमें कचरा जमा है उनकी सफाई भूस्वामी से सुनिश्चित कराई जाये। अगर भूस्वामी द्वारा सफाई नहीं कराई जाती है तो ऐसे भूखण्डों पर निगम सम्पत्ति का बोर्ड लगवा दिया जाये।

सड़क पर गाये बांधना पड़ा महंगा

पन्नाधाय सर्किल पर सड़क पर गायें बांधकर गंदगी फैलाना गाय मालिक को उस समय महंगा पड़ गया जब आयुक्त निरीक्षण करते हुये अचानक वहां पहुंच गये। आयुक्त ने तत्काल गायों को जब्त कर गौशाला भिजवाने का निर्देश दिए।

प्रताप एन्कलेव की सफाई के लिये हाउसिंग बोर्ड को पत्र लिखने के निर्देश

आयुक्त ने प्रताप एन्कलेव के बाहर सड़क पर पड़े मलबे और गंदगी की सफाई करवाने के लिये आयुक्त राजस्थान आवासन मंडल को पत्र लिखने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि यदि हाउसिंग बोर्ड इसकी सफाई नहीं करवाता है तो निगम अपने खर्चे से सफाई कराकर बिल हाउसिंग बोर्ड को भेज दे।

अतिक्रमण हटवाने के लिये विषेष अभियान चलाये

बजाज नगर थाने के बाहर पड़े नकारा वाहनों के कारण वहां बड़ी मात्रा में गंदगी जमा हो गई है। आयुक्त ने निर्देश दिये कि थाना अधिकारी को नोटिस दे कि उक्त नकारा वाहनों को तत्काल हटवाएं ताकि उक्त क्षेत्र साफ रहे। आयुक्त ने उपायुक्त सतर्कता सेठाराम बंजारा को विशेष अभियान चलाकर टोंक रोड़, सांगानेर थाना से चैरडिय़ा पेट्रोल पम्प, अपेक्स सर्किल से जगतपुरा आदि क्षेत्रों के अतिक्रमण को हटवाया जाये ताकि यहां की सफाई व्यवस्था दुरूस्त की जा सके।

इनको मिला नोटिस

मालवीय नगर जोन के मुख्य सफाई निरीक्षक पवन कुमार, मालवीय नगर जोन के मुख्य सफाई निरीक्षक योगेंद्र जाजोटर, विद्याधर नगर जोन के वार्ड 21 के वार्ड सफाई निरीक्षक सुभाष, विद्याधर नगर जोन के वार्ड 35 के वार्ड सफाई निरीक्षक महेश, विद्याधर नगर जोन के मुख्य सफाई निरीक्षक रामकिशोर गुप्ता, मुरलीपुरा जोन वार्ड 8 के वार्ड सफाई निरीक्षक सुरजीत, मुरलीपुरा जोन वार्ड 25 के वार्ड सफाई निरीक्षक ताराचंद, मुरलीपुरा जोन के मुख्य सफाई निरीक्षक दिनेश जैदिया

Related posts

राजस्थान सरकार के 2170 मेगावाट क्षमता की तापीय इकाइयों के लिए ब्रिज लिंकेज के माध्यम से कोयला उपलब्ध कराने में सहमत

admin

भाजपा कार्यालय पर प्रदर्शन कांग्रेस की बौखलाहट – लक्ष्मीकांत भारद्वाज

admin

राजस्थान में शिक्षण संस्थाओं को खोलने की तिथि और एसओपी के लिए पांच मंत्रियों की समिति गठित

admin