जयपुर शहर के परकोटा क्षेत्र में बदली जाएंगी पुरानी पाइप लाइनें

जयपुर

शहरी जल योजनाओं के संवर्धन पर खर्च होंगे 239 करोड़

जयपुर। जयपुर शहर के परकोटे की पेयजल व्यवस्था में सुधार और पुरानी पाइप लाइन बदलने के लिए जलदाय विभाग ने चारदीवारी एवं आसपास के क्षेत्रों में पुरानी लाइनें बदलकर नई लाइनें डालने और शहरी जल योजनाओं का संवर्धन कर सप्लाई सुचारू बनाने के लिए 239 करोड़ रूपए की स्वीकृति दी है।

जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग द्वारा जयपुर शहर में परकोटा क्षेत्र की चौकड़ियों चौकड़ी गंगापोल, चौकड़ी घाटघेट, चौकड़ी विश्वेश्वरजी, चौकड़ी रामचन्द्र, पुरानी बस्ती, तोपखाना हजूरी, तोपखाना देश, अमृतपुरी, मंडी खटीकान, लक्ष्मीनारायपुरी, कंवर नगर में पुरानी पाइप लाइन बदली जाएगी एवं आवश्यकतानुसार नई पाइप लाइन डाली जाएगी। इससे इन क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को प्रदूषित पानी से निजात मिलेगी एवं पेयजल आपूर्ति सुचारू हो सकेगी ।

बीसलपुर परियोजना के लाभ से वंचित आमेर की ढाणियां, देवीखोल, चौमारिया, कनक घाटी, घाट के बालाजी, नाहरसिंह कॉलोनी, जग्गा की बावड़ी, मीणा बस्ती एवं पुराना घाट क्षेत्रों को बीसलपुर से जोड़ने के लिए आधारभूत संरचना का निर्माण किया जाएगा। इससे करीब 10 हजार की आबादी लाभांवित होगी ।

इसके अलावा ब्रह्मपुरी क्षेत्र, ट्रांसपोर्ट नगर, झोटवाड़ा, मुरलीपुरा, विश्वकर्मा, बनीपार्क, मोहन नगर एवं कंवर नगर में पुरानी पाइप लाइनें बदलने, उपभोक्ताओं के जल कनेक्शन बदलने जैसे कार्य होंगे ।

जयपुर नगर निगम (हेरीटेज) के वार्ड संख्या 39, 42 एवं 43 के अंतर्गत नारायणपुरी, दुर्गा कॉलोनी, शर्मा कॉलोनी, पार्क व्यू, वेलकम कॉलोनी, पंचवटी, कृष्णापुरी राकडी, खादी कॉलोनी, भैरव नगर, आजाद नगर एवं जनता नगर राकडी की वर्ष 2022 की अनुमानित करीब 20 हजार आबादी को बीसलपुर से पेयजल आपूर्ति के लिए शहरी जल प्रदाय योजना के पुनर्गठन पर 8.14 करोड़ रूपए खर्च किए जाएंगे। इसमें सब्जी मंडी परिसर के पास 1750 केएल क्षमता का उच्च जलाशय, 700 केएल क्षमता का स्वच्छ जलाशय, पंप हाउस तथा पाइप लाइन डालने के कार्य होंगे।

जयपुर शहर के विभिन्न क्षेत्रों में बसी कच्ची बस्तियों को समुचित पेयजल उपलब्ध कराने के लिए डीपीआर बनाई जाएगी। अतिरिक्त मुख्य सचिव जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी एवं भूजल डॉ. सुबोध अग्रवाल की अध्यक्षता में हुई बैठक में इसकी मंजूरी दी गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *