कैट ने सिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगाने में एक साल का समय मांगा

जयपुर ताज़ा समाचार

जयपुर। कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने केंद्रीय पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव को आज भेजे एक पत्र में सिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगाने की अंतिम तिथि 1 जुलाई, 2022 को एक वर्ष आगे बढ़ाने का आग्रह किया है।

कैट ने यह भी आग्रह किया है की इस गंभीर मुद्दे पर एक संयुक्त समिति का गठन किया जाए जिसमे सरकारी अधिकारियों और हितधारकों के प्रतिनिधियों को एकल उपयोग प्लास्टिक के समान विकल्पों का सुझाव देने का एक समयबद्ध समय का निर्देश जारी किया जा सके है ताकि बिना किसी व्यवधान के देश एकल उपयोग प्लास्टिक का उपयोग बंद कर सके। यह पत्र महाराष्ट्र के नागपुर में आयोजित होने वाले कैट के दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन में देश के सभी राज्यों के 100 से अधिक व्यापारी नेताओं द्वारा इस महत्वपूर्ण मुद्दे पर विचार-विमर्श के बाद जारी किया गया।

कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी सी भरतिया, राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल, राजस्थान प्रदेश अध्यक्ष सुभाष गोयल व प्रदेश महामंत्री सुरेन्द्र बज ने कहा कि निस्संदेह पर्यावरण का प्रदूषण मानव सभ्यता के लिए एक बड़ा खतरा है और पर्यावरण की रक्षा के लिए सुधारात्मक कदमों की बहुत आवश्यकता है, लेकिन किसी भी प्रतिबंध को लागू करने से पहले, उपयोग को स्थानांतरित करने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था को तैयार रखना और भी आवश्यक है।

सुभाष गोयल व सुरेन्द्र बज ने कहा कि यह नहीं भूलना चाहिए कि लंबे समय में सिंगल यूज प्लास्टिक देश में लाखों लोगों को रोजगार देने वाला और 60 हजार करोड़ रुपये से अधिक का वार्षिक कारोबार करने वाला एक बहुत बड़ा उद्योग बन गया है। एकल उपयोग वाले प्लास्टिक उद्योग में बैंकों और वित्तीय संस्थानों की एक बड़ी हिस्सेदारी है और बिना कोई समान विकल्प प्रदान किए पूर्ण प्रतिबंध की स्थिति में भारत के व्यापार के कामकाजी कार्यक्षेत्र में भारी नुकसान होगा और एक बड़ा वित्तीय संकट खड़ा होगा और कारोबारी दिवालियापन के कगार पर खड़ा होगा ।

सिगंल यूज प्लास्टिक का 98% बहुराष्ट्रीय कंपनियों, कॉर्पोरेट निर्माताओं, उत्पादकों, ई-कॉमर्स कंपनियों, वेयरहाउसिंग हब, उद्योग और अन्य प्रकार की उत्पादन इकाइयों द्वारा अपनी उत्पादन लाइन या तैयार माल की पैकेजिंग में उपयोग किया जाता है। व्यापारियों को निर्माता या मूल स्रोत से जो भी पैकिंग मिलती है, उसमें सामान बेचने के लिए मजबूर होना पड़ता है। जब तक इन कंपनियों और विनिर्माण इकाइयों को उत्पादन लाइन में या तैयार माल की पैकिंग में सिंगल यूज प्लास्टिक के उपयोग को रोकने के लिए मजबूर नहीं किया जाता है, तब तक उपभोक्ता की ओर से सिंगल यूज प्लास्टिक के उपयोग का अवसर हमेशा रहेगा। सिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध तभी सफल हो सकता है जब इसे चरणबद्ध तरीके वैकल्पिक व्यवस्था के साथ लागू किया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.