Campaign started to stop black marketing of medical oxygen and medicines, special team formed on the instructions of the Chief Minister, institutional quarantine was done to 1900 people who went out of the way

मेडिकल ऑक्सीजन और दवाइयों की कालाबाजारी रोकने के लिए अभियान शुरू, मुख्यमंत्री के निर्देश पर बनी है स्पेशल टीम, अनावश्यक बाहर घूमने वाले 1900 लोगों को किया गया संस्थागत क्वारंटीन

जयपुर

कोविड-19 महामारी में मेडिकल ऑक्सीजन और अतिआवश्यक दवाइयों की कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही होगी। ऐसे लोगों की पहचान करने एवं उन पर कड़ी कार्यवाही करने के लिए राज्य सरकार द्वारा एक स्पेशल टीम गठित की गई है।

पुलिस महानिदेशक एम.एल. लाठर ने बताया कि इस संबंध में मुख्यमंत्री द्वारा ऐसे असामाजिक तत्वों की पहचान कर उनके विरुद्ध कानूनी कार्यवाही के निर्देश दिये हैं। निर्देशों की पालना में सतर्कतापूर्वक पहचान की जाकर कार्यवाही शुरू कर दी गयी है। इसी संदर्भ में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा स्वप्रेरणा से दायर रिट याचिका में 30 अप्रेल को भी विस्तृत आदेश जारी किये गए हैं।

लाठर ने बताया कि सर्वोच्च न्यायालय ने अपने इस आदेश में कोरोना के इलाज में काम आने वाली दवाइयों, इंजेक्शनों की जमाखोरी, अधिक कीमत और नकली दवाइयों के बेचने, कालाबाजारी रोकने के संबंध में कार्यवाही के निर्देश दिए हैं। इनमें आमजन का उसकी असहाय स्थिति एवं परेशानी में शोषण कर लाभ कमाने का घृणित प्रयास करने वालों के विरुद्ध विशेष टीम गठित कर आपराधिक अभियोग चलाने की कार्यवाही के आदेश हैं।

इस आदेश मेंं भारी संख्या में जनसमूह के एकत्रीकरण (मास-गेदरिंग) को कोरोना के संक्रमण के लिए सुपरस्प्रेडर माना गया है। ऐसे व्यक्तियों के विरुद्ध कठोर कार्यवाही करने की अपेक्षा की गयी है। सर्वोच्च न्यायालय द्वारा सुपरस्प्रेडर बनने की कार्यवाही को रोकने के लिए राज्य सरकार एवं केंद्र सरकार को मास गेदरिंग पर पूर्णतया प्रतिबंध लगाए जाने के निर्देश भी दिए गए हैं।

राज्य सरकार निरंतर प्रयत्नशील है। वैवाहिक समारोहों एवं सावों के आयोजन में अति-न्यून संख्या में एकत्रित होने के लिए लगातर अपील की जा रही हैं। निर्देशों का उल्लंघन करने पर राज्य के महामारी अधिनियम की धाराओं के अंतर्गत जुर्माना एवं अभियोग किए जाने की कार्यवाही की जा रही है।

3 मई को राज्य में अनावश्यक खुले में घूमकर संक्रमण फैलाने वाले 1900 व्यक्तियों को निरुद्ध कर उन्हें संस्थागत क्वारंटीन किया गया है। पिछले 24 घंटों में बिना मास्क के घर से निकलने वाले अथवा मास्क को मुंह एवं नाक पर ठीक प्रकार से नहीं लगाने वाले 2701 व्यक्तियों के विरुद्ध महामारी अधिनियम के अंतर्गत कार्यवाही की गई है। इसी अवधि में सार्वजनिक स्थलों पर थूकने वाले 2120 व्यक्तियों एवं संक्रमण से बचने के लिए आवश्यक सामाजिक दूरी संधारित नहीं करने वाले 26840 व्यक्तियों के विरुद्ध जुर्माने की कार्यवाही की गई है।

लाठर ने बताया कि राज्य में कोविड-19 के बढ़ते हुए भयावह संक्रमण की श्रृंखला को प्रभावी ढंग से तोड़ने के लिए राज्य सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। इन प्रयासों में पूर्ण सफलता तभी मिलेगी, जब प्रत्येक नागरिक द्वारा कड़ा अनुशासन रखा जाये।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *