दिल्लीराजनीति

‘धीरज साहू किस गांधी के एटीएम थे…’ 300 करोड़ मिलने के बाद कांग्रेस पर अमित मालवीय का हमला

कांग्रेस के राज्यसभा सांसद धीरज साहू के घर और ठिकानों से अकूत दौलत का खजाना मिला है। आलम ये है कि 4 दिन बाद भी नोटों की गिनती जारी है। इतना ही नहीं, 136 बैग में भरे कैश की काउंटिंग होनी है। वहीं कांग्रेस ने भी अपने नेता पर ही सवाल उठाए हैं। कांग्रेस नेताओं की टिप्पणियों पर भाजपा आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने हमला बोला है।
अमित मालवीय ने एक्स पर लिखा, ‘धीरज प्रसाद साहू दो बार लोकसभा चुनाव हारे लेकिन उन्हें कांग्रेस ने तीन बार राज्यसभा भेजा। साहू का कहना है कि उनका परिवार आजादी के बाद से ही कांग्रेस से जुड़ा हुआ है। साहू से दूरी बनाने की ‘कोशिश’ करने के बजाय कांग्रेस को यह बताना चाहिए कि वह किस गांधी के एटीएम थे?’
दरअसल, कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा कि सांसद धीरज साहू के बिजनेस से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का कोई लेना-देना नहीं है। जयराम रमेश ने कहा कि आयकर अधिकारियों द्वारा उनके ठिकानों से इतनी बड़ी मात्रा में कैश बरामद किया जा रहा है। इस कैश के बारे में सिर्फ वही बता सकते हैं और उन्हें यह स्पष्ट करना भी चाहिए।
कैश मिलने के बाद राजनीति शुरू
सांसद धीरज साहू के ठिकानों से अकूत कैश मिलने के बाद राजनीति शुरू हो गई है। झारखंड बीजेपी के नेता कह रहे हैं कि जब्त पैसा कांग्रेस नेताओं का है। दूसरी ओर कांग्रेस नेता कह रहे हैं कि यह भाजपा नेताओं का है। बीजेपी सांसद संजय सेठ ने कहा कि अब तक 300 करोड़ जब्त किए गए हैं। पैसे अभी भी गिने जा रहे हैं, मशीनें खराब हो रही हैं लेकिन पैसा खत्म नहीं हो रहा है। उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि मैं राहुल गांधी और सोनिया गांधी से पूछना चाहता हूं कि ये पैसा कहां से आया। इसकी उचित जांच होनी चाहिए। ये अच्छा पैसा नहीं है ये काला धन है।
50 कर्मचारी नोटों की गिनती कर रहे
एसबीआई बालांगिर के क्षेत्रीय प्रबंधक भगत बेहरा ने बताया कि अभी हम दो दिनों के भीतर सभी पैसे गिनने के लक्ष्य को लेकर मिलकर काम कर रहे हैं। 50 कर्मचारी नोटों की काउंटिंग कर रहे हैं और अन्य को जल्द ही हमारे साथ शामिल होने के लिए बुलाया गया है। पैकेटों की गिनती जारी है। कुछ पैसे टिटलागढ़ में भी गिने गए। आयकर और पुलिस विभाग ने बैंक क्षेत्रों में पूरी सुरक्षा व्यवस्था की है।
8-10 अलमारियों से मिले 300 करोड़
सूत्रों ने कहा कि यह किसी एक समूह और उससे जुड़ी संस्थाओं के खिलाफ कार्रवाई के तहत देश में किसी एजेंसी द्वारा की गई अब तक की सबसे अधिक नकदी जब्ती है। बालांगिर जिले में कंपनी के परिसर में रखी लगभग 8-10 अलमारियों से लगभग करीब 300 करोड़ रुपये नकद जब्त किए गए, जबकि बाकी टिटलागढ़, संबलपुर और रांची के स्थानों से जब्त किए गए।

Related posts

होटल से निकले, राजभवन में जमे

admin

19 जिलों (districts) की 34 ग्राम पंचायत (gram panchayat) के उप चुनाव (by elections) में 72.32 फीसद मतदान

admin

15 अगस्त 1947 की आधी रात को ही क्यों मिली थी भारत को आजादी ?

admin