कोरोना काल (Corona time) के दौरान चालू रहा राजस्थान में खनन (mining), इससे वित्त वर्ष 2021-22 में 23 मई तक राज्य ने कमाये 535 करोड़ रुपये

कोरोना काल (Corona time) के दौरान चालू रहा राजस्थान में खनन (mining), इससे वित्त वर्ष 2021-22 में 23 मई तक राज्य ने कमाये 535 करोड़ रुपये

जयपुर कारोबार

राजस्थान में कोरोना काल (Corona time) के दौरान खनन (mining) गतिविधियों के संचालन में कोविड हेल्थ प्रोटोकाल की सख्ती से पालना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए थे, इन परिस्थितयों में राज्य को खनन द्वारा अप्रेल 2021 व मई 2021 की 23 मई तक कुल 535 करोड़ करोड़ रुपए से अधिक रिकॉर्ड कमाई है। राज्य के अतिरिक्त मुख्य सचिव माइंस एवं पेट्रोलियम डॉ. सुबोध अग्रवाल बताया कि कोविड के बावजूद अप्रेल, 21 में 297 करोड़ रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ है जबकि अप्रेल, 20 में केवल 37 करोड़ और उससे एक वर्ष पहले सामान्य परिस्थितियों में भी अप्रेल, 19 में 251 करोड़ रुपए का राजस्व अर्जित हुआ था।

चालू वर्ष के मई माह में भी 23 मई तक 238 करोड़ 39 लाख रुपये का राजस्व अर्जित हुआ है जबकि मई, 20 में पूरे माह में 215 करोड़ रुपए का राजस्व अर्जित हुआ था। अग्रवाल ने बताया कि वर्ष 2020 के दो माह में 252 करोड़ और सामान्य वर्ष 2019 के दो माहों में करीब 600 करोड़ रुपए का राजस्व वसूल हुआ था। इस साल दो माह में अब तक 535 करोड़ रु. से अधिक का राजस्व एकत्रित हो गया है जबकि इस माह के करीब 8 दिन का राजस्व एकत्रित होना है।

अग्रवाल ने अधिकारियों से राजस्व छीजत और अवैध खनन पर कारगर रोक लगाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मेजर और माइनर खनन योग्य नए ब्लॉक तैयार कर उनके ऑक्शन की तैयारी निदेशालय स्तर पर की जा रही है। पारदर्शी व्यवस्था के तहत ई पोर्टल के माध्यम से जल्दी ही नए ब्लॉकों के ऑक्शन की प्रक्रिया आरंभ की जाएगी।

लीजवाइज ई रवन्ना पर उन्होंने बताया कि अप्रेल, 2020 के 35375 की तुलना में अप्रेल, 2021 में 832547 ई रवन्ना जारी हुए हैं। इसी तरह से मई, 2020 की 451288 की तुलना में मई माह में अब तक 501622 रवन्ना जारी हुए हैं। उन्होंने विचाराधीन प्रकरणों के शीघ्र निस्तारण के निर्देश दिए।

अवैध खनन गतिविधियों पर प्रभावी रोक लगाने के लिए पिछले दिनों जारीनिर्देशों के अनुसार अवैध खनन, निर्गमन और भंडारणकर्ता के कब्जे से खनिज वाहन, मशीनरी, औजार, उपकरण आदि जब्त करने के बाद तीन माह की अवधि तक समस्त जुर्माना राशि जमा नहीं कराई जाती है तो उस स्थिति में सक्षम न्यायालय में आवेदन कर जब्तशुदा सामग्री जैसे ट्रैक्टर, जेसीबी मशीन, खनन गतिविधियों में काम में लिए जा रहे अन्य उपकरण आदि, इस कार्य में उपयोग में लिए जा रहे वाहन, जब्तशुदा खनिज सामग्री, बजरी आदि को राज्य सरकार के पक्ष में अधिग्रहण कराया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *