ilektronik chainal (Electronic channel) tej khabar ka riportar (reporter) ban raikee karake choree kee vaaradaaton ko anjaam dene vaala naamee badamaash saayar meena giraphtaar

इलेक्ट्रॉनिक चैनल (Electronic Channel) ‘तेज खबर’ का रिपोर्टर (Reporter) बन रैकी करके चोरी की वारदातों को अंजाम देने वाला नामी बदमाश सायर मीणा गिरफ्तार

जयपुर ताज़ा समाचार

जयपुर में 24 जनवरी की रात राजावास बस स्टैंड पर इलेक्ट्रोनिक सामान शोरुम के ताले तोड़कर लाखों का माल चुराने वाले गैंग और उसके सरगना को हरमाड़ा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। गैंग का मास्टर माइंड सायर मीणा (21) स्वयं को ‘तेज खबर’ का रिपोर्टर बताकर रैकी किया करता था। पुलिस ने उसके पास से चैनल का माइक और चुराया गया लेपटॉप भी बरामद किया है।

Channel Mike
इस माइक को लेकर रिपोर्टर बनकर घूमता था चोर सायर मीणा

जयपुर डीसीपी (पश्चिम) प्रदीप मोहन शर्मा के मुताबिक गिरफ्तार आरोपी सायर मीणा (21) जयपुर जिले के गोविंदगढ़ इलाके में निवाणा गांव में रहता है। उसने गैंग के अपने साथियों की मदद से 24 जनवरी 2021 की रात राजावास बस स्टैंड पर वीडियो इलेक्ट्रोनिक शोरुम में ताले तोड़कर लाखों का माल चुराया और एक टैंपो में भरकर भाग निकला था। उसने यह सामान सस्ती कीमत पर राहुल किराडिया को बेच दिया।

इस वारदात के बाद गणेश विहार निवासी शोरूम मालिक महेंद्र मीणा ने हरमाड़ा थाने में केस दर्ज करवाया था। इस मामले में कार्रवाई करते हुए हरमाड़ा थानाप्रभारी चेनाराम बेड़ा के नेतृत्व में पुलिस टीम ने चोरी का माल खरीदने वाले राहुल किराड़िया को गिरफ्तार किया। पूछताछ में उसने सायर मीणा का नाम उगला।

शर्मा ने बताया कि इसके बाद सायर मीणा की पहचान कर कई जगह दबिश दी गई। इसी दौरान उसके पत्रकार बनकर घूमने का भी पता चला। उसने अपनी लग्जरी कार पर वीआईपी और प्रेस व न्यूज चैनल के स्टीकर भी चिपका रखे थे ताकि वह रिपोर्टिंग के नाम पर बेरोकटोक घूम सके। इसी कार में घूमते हुए वह पहले रैकी करता था। इसके बाद गैंग के साथ मिलकर चोरी व नकबजनी की वारदात करता था।

पुलिस ने अंततः करीब पांच महीने बाद एएसआई जितेंद्र सिंह, एएसआई बजरंगलाल, कांस्टेबल रामसिंह, सुरेंद्र, दयाराम, रामप्रताप व घनश्याम की दो टीमों ने सायर मीणा को गिरफ्तार कर लिया। वारदात में इस्तेमाल की गयी कार को भी जब्त कर लिया है। पकड़ा गया बदमाश सायर मीणा जिले के टॉप-10 बदमाशों में शामिल है। उस पर जयपुर में वाहन चोरी व नकबजनी की वारदातों को अंजाम देने के 14 मुकदमे विभिन्न थानों में दर्ज हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *