ek maheene mein aa sakatee hai bachchon ke lie korona vaikseen (corona vaccine) , teen kampaniyon kee vaikseen ko jaldee manjooree (approval) kee ummeed

एक महीने में आ सकती है बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) , तीन कंपनियों की वैक्सीन को जल्दी मंजूरी (approval) की उम्मीद

जयपुर ताज़ा समाचार

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के अध्ययन को सही मानें तो कोरोना की तीसरी लहर आने में 6-8 माह का समय शेष है। लेकिन, इसके लिए अभी से तैयारी शुरू करनी होगी। आशंका व्यक्त की जा रही है कि कोरोना की इस तीसरी लहर से बच्चे अधिक प्रभावित हो सकते हैं। इन सारी खबरों के बीच अच्छी बात यह है कि अगले महीने तक बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) आ सकती है। खबर है कि तीन कंपनियों, भारत बायोटेक की कोवैक्सिन, फाइजर और जायडस कैडिला की वैक्सीन को जल्द मंजूरी मिलने की उम्मीद है।

कोविड वर्किंग ग्रुप के अध्यक्ष डॉ. एनके. अरोड़ा का कहना है कि जायडस कैडिला की वैक्सीन का ट्रायल लगभग पूरा हो चुका है, इसी वर्ष जुलाई  के अंत तक या अगस्त में 12 से 18 साल की उम्र के बच्चों को वैक्सीन लगाने की शुरुआत की जा सकती है।  अरोड़ा के मुताबिक ICMR एक अध्ययन में कहा गया है कि तीसरी लहर देर से आने की संभावना है। ऐसे में देश में हर किसी के वैक्सीनेशन के लिए कम से कम 6-8 महीने का समय है। आने वाले दिनों में हर दिन 1 करोड़ डोज लगाने का लक्ष्य है।

बच्चों के लिए 26 करोड़ वैक्सीन डोज की जरूरत

भारत बायोटेक की कोवैक्सिन के 2 से 18 साल उम्र के बच्चों पर हुए दूसरे और तीसरे चरण के ट्रायल के नतीजे सितंबर 2021 तक आने की उम्मीद है। ड्रग रेगुलेटर से मंजूरी के बाद उस समय भारत में बच्चों के लिए वैक्सीन की शुरुआत हो सकती है। इससे पूर्व फाइजर की वैक्सीन को मंजूरी मिल जाती है, तो यह भी बच्चों के लिए एक विकल्प हो सकता है। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक जायडस कैडिला भी जल्द ही अपनी कोरोना वैक्सीन ZyCoV-D के इमरजेंसी यूज के अप्रूवल के लिए ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया के पास आवेदन कर सकती है। कंपनी का कहना है कि यह वैक्सीन बच्चों और बड़ों दोनों को दिया जा सकता है।

बच्चों में कोरोना संक्रमण की समीक्षा, महामारी से निपटने के नये तरीके खोजने और इसकी तैयारियों के लिए एक नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप बनाया गया है। बच्चों के वैक्सीनेशन के मुद्दे पर नीति आयोग के सदस्य (हेल्थ) डॉ. वीके पॉल के अनुसार यह बच्चों का समूह कोई छोटा वर्ग नहीं है। मोटे अनुमान के मुताबिक 12 से 18 साल उम्र के बच्चों की संख्या करीब 14 करोड़ है। इसके लिए हमें करीब 26 करोड़ डोज की जरूरत होगी।

agale ek maheene mein aa sakatee hai bachchon ke lie korona vaikseen (corona vaccine) , teen kampaniyon kee vaikseen ko jaldee manjooree (approval) kee ummeed

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *