कूटनीतिदिल्ली

मौत के मुंह में फंसे हुए कतर से सुरक्षित घर लौटे हमारे 8 पूर्व नौसेना अधिकारी.. बोले, थैंक यू पीएम, जय हिंद..!

भारतीय कूटनीति की आज मिसालें दी जा रही हैं। अब लोग कहने लगे हैं कि मोदी है तो मुमकिन है। देश की कूटनीति का ही कमाल है कि कतर ने हमारे उन आठ पूर्व नौसेना अधिकारियों को रिहा कर दिया है जिन्हें मौत की सजा सुनाई गई थी। यह फैसला भारत के लिए अहम है। इन सभी पर जासूसी का आरोप था। कतर को सजा सुनाए जाने के बाद भारत ने उससे अपील की और उसके बारे में दस्तावेज भी पूरे किए। बाद में इन सभी को आजीवन कारावास में बदल दिया गया था। हालांकि, सभी आठ पूर्व नौसेना अधिकारियों को अब बचा लिया गया है। इनमें से सात घर लौट चुके हैं।
विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ”हमें खुशी है कि ये नागरिक घर लौट आए हैं।कतर ने आठ भारतीय पूर्व अधिकारियों को रिहा कर दिया है जिन्हें कतर में मौत की सजा सुनाई गई थी। हम इस फैसले का स्वागत करते हैं। आठ में से सात भारत लौट आए हैं।
भारत माता की जय के नारे
जब पूर्व भारतीय नौसैनिकों भारत लौटे तो उन्होंने दिल्ली हवाई अड्डे पर ‘भारत माता की जय’ के नारे लगाए। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कतर का भी शुक्रिया अदा किया। उन्होंने कहा, ‘अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हमारे मामले में हस्तक्षेप नहीं किया होता, तो हमारे लिए उनसे छुटकारा पाना मुश्किल होता।
2023 में क्या हुआ?
कतर की एक निजी कंपनी के लिए काम करने वाले आठ पूर्व भारतीय नौसेना अधिकारियों को कतर की एक निचली अदालत ने मौत की सजा सुनाई है। यह एक ऐसा मामला है जो पिछले साल 2023 में सामने आया था। 30 अगस्त, 2022 को कतर में अधिकारियों द्वारा इन आठ अधिकारीयों को गिरफ्तार किया गया था। 26 अक्टूबर, 2023 को भारत के विदेश मंत्रालय ने फैसले पर चिंता व्यक्त करते हुए एक बयान जारी किया। उन्होंने कहा, आठ पूर्व भारतीय मरीनों को मौत की सजा सुनाने का फैसला अप्रत्याशित है और हम विस्तृत फैसले का इंतजार कर रहे हैं। हम उन्हें बचाने के लिए सभी कानूनी विकल्पों का इस्तेमाल करेंगे। मरीन को अब रिहा कर दिया गया है।
नौसेना के उन आठ दिग्गजों कौन हैं?
कतर द्वारा मौत की सजा पाने वाले दिग्गजों में नौसेना के वरिष्ठ दिग्गज भी शामिल थे। नाविकों की पहचान कैप्टन नवतेज सिंह गिल, कैप्टन सौरभ वशिष्ठ, कमांडर पूर्णेंदु तिवारी, कैप्टन बीरेंद्र कुमार वर्मा, कमांडर सुगुणकर पाकला, कमांडर संजीव गुप्ता, कमांडर अमित नागपाल और नाविक रागेश के रूप में हुई है। उन्होंने कतर में अल दहरा ग्लोबल टेक्नोलॉजीज एंड कंसल्टेंसी सर्विसेज में काम किया। यह कंपनी रक्षा संबंधी सेवाएं प्रदान करती है।
नौसेना अधिकारियों ने दिया पीएम मोदी को धन्यवाद
उन्होंने कहा, ‘हम बहुत खुश हैं कि हम सुरक्षित रूप से भारत लौट आए। निश्चित रूप से, हम पीएम मोदी को धन्यवाद देना चाहेंगे क्योंकि यह केवल उनके व्यक्तिगत हस्तक्षेप के कारण संभव हुआ।एक अन्य अफसर ने कहा ‘हमने भारत लौटने के लिए करीब 18 महीने तक इंतजार किया। हम प्रधानमंत्री के बहुत आभारी हैं। कतर के साथ उनका समीकरण उनके व्यक्तिगत हस्तक्षेप के बिना संभव नहीं था। हम भारत सरकार के बहुत आभारी हैं। एक मरीन ने कहा, ‘आज का दिन भारत सरकार के प्रयासों के बिना संभव नहीं था।’
राज ठाकरे ने दी सरकार को बधाई और की यह मांग
महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे ने इस घटना पर प्रतिक्रिया दी है। कतर में भारतीय नौसेना के आठ अधिकारियों को गिरफ्तार किया गया और जासूसी के आरोप में मौत की सजा सुनाई गई। लेकिन भारत सरकार को भारत सरकार की कूटनीति के लिए बधाई कि उन सभी अधिकारियों को रिहा कर दिया गया। अब यही कूटनीति कुलभूषण जाधव के साथ भी देखी जाए और उन्हें जल्द भारत की धरती पर आने दें।
क्या है कुलभूषण जाधव का मामला
बता दें कि कुलभूषण जाधव को 3 मार्च 2016 को बलूचिस्तान से गिरफ्तार किया गया था। पाकिस्तान ने दावा किया था कि कुलभूषण जाधव कमांडिंग ऑफिसर रैंक के नेवी ऑफिसर हैं और भारत में रॉ के लिए काम कर रहे हैं। पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव पर पाकिस्तान में जासूसी करने का आरोप भी लगाया था। पाकिस्तान ने कहा था कि जाधव ईरान के रास्ते पाकिस्तान में घुसे थे।कुलभूषण जाधव को फांसी की सजा सुनाई गई थी। लेकिन केंद्र सरकार को इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस से सजा पर स्टे मिल गया था। हालांकि, उसके बाद से उनकी रिहाई के लिए कोई रास्ता साफ नहीं हुआ है।

Related posts

90 डिग्री पर मुड़कर दुश्मन को चकमा देती है और टारगेट धुआं-धुआं…! नए युद्धपोत से ब्रह्मोस की टेस्टिंग

Clearnews

राजस्थान को मिला जैम एक्सीलेंसी अवार्ड

Clearnews

भारत ने जिम्बाब्वे को चौथे मैच में 10 विकेट से रौंदा, बनायी 3-1 की अजेय बढ़त

Clearnews