खेलदिल्ली

‘मैं गलत दौर में खेली…’ अंजू बॉबी जॉर्ज ने की तारीफ तो सामने बैठे मोदी खिलखिला उठे

पीएम नरेंद्र मोदी अक्सर एथलीटों से मिलते हैं। हार पर सांत्वना देते हैं और जीत पर बधाई। अब वनडे वर्ल्ड कप के फाइनल में भारत की हार को ही ले लीजिए। उस समय पीएम मोदी टीम इंडिया के ड्रेसिंग रूम पहुंचे थे और फिर कप्तान रोहित शर्मा सहित सभी प्लेयर्स को सांत्वना देते दिखे। इस मोमेंट की हर किसी ने तारीफ की। अब विश्व एथलेटिक्स चैपियनशिप में भारत की पहली पदक विजेता अंजू बॉबी जॉर्ज ने देश में खेलों को बढ़ावा देने और बदलाव के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने ‘गलत युग में’ प्रतिस्पर्धा की।
क्रिसमस के मौके पर प्रधानमंत्री आवास पर आयोजित एक कार्यक्रम में बोलते हुए लंबी कूद की महान खिलाड़ी अंजू ने कहा, ‘एक खिलाड़ी के रूप में मैंने लगभग 25 वर्षों तक प्रतिस्पर्धा की और मैं बहुत सारे बदलाव देख रही हूं। जब मैंने 20 साल पहले भारत को पहला वैश्विक पदक दिलाया था तो मेरा विभाग भी मुझे पदोन्नति देने के लिए तैयार नहीं था।’ उन्होंने कहा, ‘लेकिन नीरज (चोपड़ा) के पदक जीतने के बाद मैंने बदलाव देखे हैं… जिस तरह से हम जश्न मना रहे हैं… मैं उनसे ईर्ष्या करती हूं क्योंकि मैं गलत युग में थी।’
पीएम मोदी लगाने लगे ठहाका
अंजू का इतना कहना था कि पीएम मोदी ठहाके लगाने लगे। उन्हें पता था कि एक टॉप एथलीट का यह कहना कितना अहम है। यह पहला मौका नहीं है, जब किसी एथलीट ने खेल के प्रति लगाव और उत्साह बढ़ाने को लेकर पीएम मोदी की इस तरह तारीफ की है। पेरिस में 2003 विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में महिलाओं की लंबी कूद स्पर्धा में कांस्य पदक जीतने वाली अंजू ने महिला सशक्तिकरण के बारे में बात की और यह भी बताया कि कैसे देश अब एथलीटों की उपलब्धियों का भी जश्न मनाता है।
‘भविष्य में हम खेलों में टॉप पर होंगे’
उन्होंने कहा- महिला सशक्तिकरण अब सिर्फ एक शब्द नहीं है। हर भारतीय लड़की सपने देखने के लिए तैयार है और उन्हें पता है कि उनके सपने सच होंगे। प्रधानमंत्री ने क्रिसमस के मौके पर ईसाई समुदाय के साथ बातचीत की और अंजू इस कार्यक्रम में शामिल होने वाले प्रमुख लोगों में शामिल थीं। अंजू ने कहा, ‘मुझे लगता है कि निकट भविष्य में हम (खेल जगत में) शीर्ष पर होंगे।’
अंजू बॉबी जॉर्ज का करियर
अपनी अन्य उपलब्धियों में अंजू ने 2003 के एफ्रो-एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता और 2004 के एथेंस ओलिंपिक खेलों में 6।83 मीटर का अपना व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया जिससे वह पांचवें स्थान पर रहीं थी। उन्हें 2002 में अर्जुन पुरस्कार, 2003 में खेल रत्न और 2004 में चैथे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्मश्री से सम्मानित किया गया।

Related posts

सुभाष जोशी ने एसडीसीए सचिव में अपने 50 साल पूरे किए

admin

Operation Ajay: इजराइल से लौटे नागरिकों ने स्वदेश पहुँच कर ली चैन की सांस, सभी ने दिया भारत सरकार को धन्यवाद

Clearnews

30 वीं राज्य स्तरीय क्रिकेट 20 से

admin