rajasthan sampark

श्रमिकों, किसानों एवं मजदूरों को मनरेगा में अधिक कार्य शुरू कराकर रोजगार उपलब्ध हों

कारोबार कोरोना जयपुर बीकानेर

जयपुर। अल्प संख्यक मामलात एवं बीकानेर जिला प्रभारी मंत्री शाले मोहम्मद ने कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण बेरोजगारी झेल रहे श्रमिकों, किसानों एवं मजदूरों को स्थानीय स्तर पर रोजगार उपलब्ध कराने के लिए मनरेगा में अधिक से अधिक कार्य शुरू किए जाए। उन्होंने ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में पेयजल की आपूर्ति नियमित रूप से करवाए जाने के निर्देश दिए।

प्रभारी मंत्री रविवार को बीकानेर जिले के राजीव गांधी सेवा केन्द्र में विभिन्न विभागों की समीक्षात्मक बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक में उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी,विधायक गोविन्द राम मेघवाल, विधायक गिरधारी महिया, विधायक सुमित गोदारा मौजूद रहे। ऊर्जा मंत्री डॉ. बी.डी. कल्ला जयपुर से वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बैठक में जुडे़।

प्रभारी मंत्री ने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना की समीक्षा करते हुए लाभार्थियों को निशुल्क गेहूं एवं दाल का वितरण के बारे में जानकारी ली और निर्देश दिए कोई भी पात्र व्यक्ति खाद्यान्न से वंचित ना रहे। उन्होंने सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियन्ता को निर्देश दिए कि जिले में क्षतिग्रस्त सड़कों का पेच वर्क करवाएं तथा सांखला फांटा से बज्जू तक और छत्तरगढ़ रोड का बरसात के बाद डामरीकरण करवाया जाए। उन्होंने कहा कि जिन सड़कों के पटडे़ टूटे है, उनको मनरेगा में ठीक करवाया जाए।

प्रभारी मंत्री ने मनरेगा के तहत श्रमिकों को मिल रही मजदूरी के बारे में जानकारी ली और निर्देश दिये कि सभी ग्राम पंचायतों में मनरेगा के तहत कार्य स्वीकृत किया जाना सुनिश्चित करें ताकि स्थानीय लोगों को रोजगार मिल सके। उन्होंने कहा कि जो कार्य स्वीकृत किए गए हैं उनकी प्रभावी तरीके से मॉनिटरिंग की जाए।

प्रभारी मंत्री ने प्रधानमंत्री आवास योजना की समीक्षा करते हुए कहा कि योजना के तहत और अधिक प्रगति करने की जरूरत है। उन्होंने निर्देश दिए कि कोई भी पात्र व्यक्ति योजना के लाभ से वंचित ना रहे।

प्रभारी मंत्री ने क्वारेंटाइन केन्द्र, होम आइसोलेशन, पॉजीटिव मरीजों एवं अब तक जांच किए गए व्यक्तियों के परीक्षण और सामान्य चिकित्सा व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि आमजन के लिए चिकित्सा सेवाओं की पुख्ता व्यवस्था की जाए। उन्होंने कहा कि बीकानेर जिले में जो व्यक्ति गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं उनकी बेहतर तरीके से उपचार की व्यवस्था उपलब्ध करवाया जाना सुनिश्चित करें।

उन्होंने पीबीएम अस्पताल में कोविड सेन्टर में उपचाराधीन रोगियों तथा उनके परिजनों से संबंधित शिकायतों का निराकरण करने के भी निर्देश और कहा कि रोगियों के परिजनों की मानसिक संतुष्टि के लिए कोविड सेन्टर में भर्ती रोगी से मिलने की उन्हें नियमानुसार अनुमति दी जाए। उन्होंने रोगी को समय पर भोजन उपलब्ध करवाने व कोविड अस्पताल में साफ-सफाई के साथ दवा, ऑक्सीजन आदि की उपलब्धा रहे, के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जिन रोगियों को होम आइसोलेशन में रखा गया है, वे घर से बाहर ना निकले, यह सुनिश्चित किया जाए। इन रोगियों को उनके घर पर उपाचर मिले, इसकी नियमित मॉनिटरिंग की जाए। उन्होंने कहा कि पीबीएम अस्पताल में कोविड रोगियों के उपचार के साथ अन्य गंभीर रोगियों के उपचार पर विशेष ध्यान दिया जाए। उन्होंने कहा कि उन्हें जानकारी मिली है कि गंभीर रोगों के ऑपरेशन कम किए जा रहे है। उन्होंने रूके हुए ऑपरेशन की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए। उन्होंने अधीक्षक पीबीएम को निर्देश दिए कि जो भी व्यक्ति अपने रिश्तेदार के कोविड उपचार की जानकारी लेना चाहे, उसे जानकारी दी जाए।

ऊर्जा मंत्री डॉ. बी.डी.कल्ला ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से पीबीएम अस्पताल में कोविड-19 सेन्टर में प्रभावी प्रबंधन पर जोर दिया और निर्देश दिए कि कोविड रोगियों के अतिरिक्त सामान्य रोगों का उपचार भी सुनिश्ति किया जाए। उन्होंने कहा कि कोविड सेन्टर में सीनियर चिकित्सक सुबह-शाम राउण्ड कर, रोगियों का उपचार करे। साथ ही उन्होंने निर्देश दिए कि कोविड सेन्टर में रात के समय में एक सीनियर चिकित्सक की डूयूटी लगाई जाए। उन्होंने कहा कि रेजीडेन्ट चिकित्सक के भरोसे रोगियों को नहीं छोड़ा जा सकता। उन्होंने पीबीएम प्रशासन को निर्देश दिए कि बॉयोवेस्ट को जलाने के लिए मशीन की खरीद की जाए। उन्होंने पीबीएम अस्पताल के सीवरेज सिस्टम को सही करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि पीबीएम अस्पताल को लेकर काफी शिकायते मिल रही है। पीबीएम अस्पताल अपने प्रबंधन को सही करे तथा लोगों की शिकायतों का निस्तारण करे।

डॉ.कल्ला ने कहा कि कोरोना रोगियों के उपचार के लिए पीबीएम में अलग से कोविड ब्लॉक बनाने के लिए विधायक कोष से 1 करोड़ रूपये दिए जायेंगे। उन्होंने जिले के विधायकगण से भी कहा कि वे इस ब्लॉक के लिए राशि दे। उन्होंने कहा कि इसके निर्माण के लिए डीएमएफटी मद से भी राशि दिलाई जायेगी।

डॉ.कल्ला ने कहा कि बीकानेर शहर के वार्डों की जनसंख्या के अनुरूप सफाई कर्मचारियों की ड्यूटी लगाकर,सफाई करवाई जाए। शहर में कोरोना रोगियों की संख्या बढ़ने के मद्देजन उन्होंने वार्डो को सेनेटाइज करने के निर्देश। डॉ.कल्ला ने प्रधामंत्री आवास योजना के तहत विकास अधिकारी को पात्र लोगों की सूची जनप्रतिनिधियों से लेकर, कार्य करने के निर्देश दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *