The percentage of tobacco consumption in the age group of 13 to 15 in Rajasthan is 4.1 percent

राजस्थान (Rajasthan) में 13 से 15 आयु वर्ग में तम्बाकू (tobacco) सेवन (consumption) का प्रतिशत 4.1 प्रतिशत

जयपुर स्वास्थ्य

ग्लोबल यूथ टोबेको सर्वे-स्टेट फैक्ट शीट रिलीज कार्यशाला, अधिकांश मामलों में राष्ट्रीय औसत से बेहतर प्रदर्शन करने पर चिकित्सा मंत्री ने दी विभाग को बधाई

चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय और इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर पॉपुलेशन साइंसेज द्वारा ग्लोबल यूथ टोबेको सर्वे में प्रदेश के 13 से 15 आयु वर्ग के बच्चों में तम्बाकू (tobacco) सेवन (consumption) का प्रतिशत 4.1 प्रतिशत रहने पर चिकित्सा विभाग को बधाई दी है। सर्वे के अनुसार राष्ट्रीय औसत 8.5 प्रतिशत है। हालांकि प्रदेश में इस आयु वर्ग द्वारा तंबाकू सेवन का प्रतिशत कम है, लेकिन विभाग की प्राथमिकता इसे जीरो पर लाने की रहेगी।

चिकित्सा मंत्री ने सोमवार को ग्लोबल यूथ टोबेको सर्वे-स्टेट फैक्ट शीट रिलीज कार्यशाला के दौरान कहा कि राज्य सरकार जन-घोषणा में की गई प्रतिबद्धता के अनुसार राज्य में तम्बाकू नियंत्रण गतिविधियों की प्रभावी क्रियान्विति के लिये संकल्पित होकर कार्य कर रही है। इसी का परिणाम है कि स्टेट फैक्ट शीट में हम अग्रणी राज्यों में शामिल हैं।

डॉ. शर्मा ने कहा कि राज्य सरकार ने युवाओं में नशे की लत रोकने के लिए राज्य में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के विक्रय, वितरण, भंडारण एवं विज्ञापन को 30 मई 2019 से प्रतिबंधित किया गया। इसके बाद भारत सरकार द्वारा भी इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट को प्रतिबंधित किया गया। विधानसभा में राज्य में हुक्का बार संचालन पर भी पूर्ण प्रतिबंध लगाया जा चुका है। हुक्का बार संचालन प्रतिबंध के नियमों के उल्लंघन पर 1 से 3 लाख रुपए का जुर्माना तथा 6 महीने से 1 वर्ष तक के कारावास का प्रावधान किया गया है।

चिकित्सा मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने ‘निरोगी राजस्थान’ अभियान के तहत भी प्रत्येक राजस्व गांव में एक महिला एवं एक पुरुष स्वास्थ्य मित्र जो किसी भी प्रकार का नशा नही करते हों, का चयन किया था। कुल 94 हजार स्वास्थ्य मित्रों का चयन कर ग्राम स्तर पर स्वास्थ्य गतिविधियों के प्रचार-प्रसार का कार्य प्रारम्भ किया गया। इसमें नशामुक्ति एवं तम्बाकू नियंत्रण को भी प्रमुखता से शामिल किया है।

कार्यशाला में इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर पॉपुलेशन साइंसेज, मुंबई के प्रोफेसर मुरलीधरण ने बताया कि सर्वे में प्रदेश की 34 स्कूलों के 2 हजार 735 बच्चों से विभिन्न सवाल पूछे गए थे। सर्वे के अनुसार 90 फीसद बच्चों के माना कि तंबाकू सेवन की आदत सबसे पहले स्कूल से ही पड़ी। शहरों की बजाए गांवों के बच्चों में तंबाकू सेवन की आदत ज्यादा देखी गई। यह सुखद बात है कि इस आयु वर्ग की लड़कियों में तंबाकू सेवन का प्रतिशत नहीं के समान है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रतिनिधि विनीता ने चिकित्सा विभाग की प्रश्ंसा करते हुए कहा कि राज्य सरकार चिकित्सा के क्षेत्र में हमेशा अव्वल रही है। नशा मुक्ति और तंबाकू नियंत्रण में सरकार बेहतर काम कर रही है। नवाचार करने में राजस्थान हमेशा आगे रहता है। राज्य के कई निर्णयों को बाद में देश भर में लागू किया जाता है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *